लाइव टीवी

नौकरी छूटी तो मेहनत से खड़ा किया व्यापार, अब दूसरों को दे रहे हैं रोजगार

News18India
Updated: November 21, 2019, 7:39 PM IST
नौकरी छूटी तो मेहनत से खड़ा किया व्यापार, अब दूसरों को दे रहे हैं रोजगार
गांव में कृष्ण नाम का व्यक्ति डेयरी खोलकर स्वेत क्रंति को बल दे रहा है. (फाइल फोटो)

कृष्ण ने अपने जीवन के 20 साल माया नगरी मुंबई (Mumbai) में एक निजी कंपनी में बड़े पद पर टैक्स (Tax) से जुडा काम किया, लेकिन GST के दौर में नौकरी (job) चली गई. इसके बाद गांव में लौटकर उन्होंने डेयरी का काम शुरू किया.

  • News18India
  • Last Updated: November 21, 2019, 7:39 PM IST
  • Share this:
कटिहार. आपने यह कहावत तो सुनी होगी कि अगर उम्मीद एक दरवाजा बंद होता है तो कई और दरवाजे खुल जाते हैं. अगर आदमी की नजर पारखी और मन में कुछ कर गुजरने का जुनून हो तो आदमी बड़ा से बड़ा काम कर सकता है.

कुछ ऐसी ही कहानी कटिहार (Katihar) रौतारा के कृष्ण नन्द मिश्रा की है. कृष्ण ने अपने जीवन के 20 साल माया नगरी मुंबई (Mumbai) में एक निजी कंपनी में बड़े पद पर टैक्स (Tax) से जुडा काम किया, लेकिन GST के दौर में नौकरी (job) चली गई. दरअसल इस समय वह पद ही समाप्त हो गया, जिस पर कृष्ण काम करते थे.



इस पर कृष्णा ने अपने व्यापार करने का फैसला किया और गांव आ गए. यहां पर कृष्णा ने चार गायों से डेयरी का काम शुरू किया, जो आज बढ़कर 20 गायों तक पहुंच गया है. इस काम के लिए कृष्णा ने अपने डेयरी में कुछ लोगों को सैलरी पर काम में रखा है. कृष्णा कहते हैं कि वह आधुनिक तकनीक के सहारे जल्द ही 100 गायों को पलने की योजना बना रहे हैं. उन्होंने बताया कि आज वह घर में नौकरी से ज्यादा संतुष्ट हैं.

कृष्णा के एक सहयोगी बंगेरी ने बताया कि पहले वह पंजाब में मजदूरी करता था. अब कृष्णा भैया की डेयरी में काम करता है. गांव के एक अन्य युवा मनोज कहते हैं कि कृष्णा भैया आज गांव के हर युवा के आइकॉन बन गये हैं. उनसे व्यापार के तरीके के बारे में हर कोई जानना चाहता है.

ये भी पढ़ें- मिसाल: 100 साल की उम्र में भी कर रहे वकालत, जिरह ऐसी की विरोधियों के छूटते हैं पसीने

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कटिहार से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 21, 2019, 11:47 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर