इलाहाबाद के साधु ने कहा था बिहार में राज करेगा तारकिशोर, चेचक से जूझे थे 45 दिन, जानें और भी खास बातें

भाजपा नेता तार किशोर प्रसाद
भाजपा नेता तार किशोर प्रसाद

तार किशोर प्रसाद (Tar kishor Prasad) की माता जी ने बताया कि संत ने यह भी कहा था कि उन्हें अपने मन का ही करने दीजिएगा. किसी तरह की बाधा नहीं डालिएगा.

  • Share this:
कटिहार. नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने बिहार के मुख्यमंत्री के तौर पर सातवीं बार शपथ ली. इस दौरान सबसे खास चर्चा में वह दृश्य रहा जब उनके बगल में भाजपा के नेता तार किशोर प्रसाद (Tar kishor Prasad) बैठे थे. दरअसल बीते 15 वर्षों के एनडीए के शासनकाल में चंद महीनों को छोड़ दें तो सीएम नीतीश के बगल वाली कुर्सी पर अक्सर सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) बैठते थे, लेकिन इस बार वहां भाजपा नेता तार किशोर प्रसाद थे. कटिहार से चौथी बार विधायक चुने गए तार किशोर प्रसाद के कटिहार स्थित घर में जश्न का माहौल है. 95 साल के वृद्ध पिता गंगा प्रसाद और मां सुमित्रा देवी अपने बेटे की उपलब्धि पर बेहद उत्साहित हैं. एक खास लम्हा साझा करते हुए कहते हैं कि इलाहाबाद के एक साधु ने तारकिशोर के जन्म के बाद ही कहा था कि उनका बेटा भविष्य में बिहार की सत्ता पर राज करेगा.

तार किशोर प्रसाद की माता जी ने बताया कि संत ने यह भी कहा था कि उन्हें अपने मन का ही करने दीजिएगा. किसी तरह की बाधा नहीं डालिएगा. माता-पिता ने उस साधु के बात को ही मानते हुए तार किशोर जी को राजनीति का सफर पर लगातार बढ़ने में मदद करते रहे. अति साधारण परिवार से आने वाले तार किशोर जी का व्यवसाय में कभी भी मन नहीं था. वह सिर्फ अपने पिता का हल्के-फुल्के ढंग से ही व्यवसाय में हाथ बंटाते थे, लेकिन उन्हें कभी भी इसकी शिकायत नहीं रही है.

एक और वाकया याद करते हुए पिता गंगा प्रसाद कहते हैं कि तार किशोर प्रसाद जी को 3 साल की उम्र में पूरे शरीर पर चेचक हुआ था, बचना मुश्किल था. 45 दिन लगातार इलाज के बाद वो मौत पर विजय हासिल किए थे. आज तार किशोर जी के बचपन की यादें ताजा करते हैं. उनके मां और पिता बेहद भावुक है कहते हैं. उनका बेटा को जो भी मौका मिला है वो बेहतर ढंग से उस जिम्मेदारी को निभाएंगे.  बेटा को डांटने के सवाल पर पिता कहते हैं डांटना तो कब का छूट चुका है, लेकिन फिर भी गलती करने पर निश्चित डांटेंगे.



तार किशोर प्रसाद के माता-पिता व अन्य

तार किशोर प्रसाद के बारे में जानें 

वैश्य समाज से आने वाले तारकिशोर प्रसाद कटिहार यानी बिहार के मूल निवासी हैं. वे  भाजपा के खांटी संगठनकर्ता हैं. भाजपा विधानमंडल दल के नेता बने तारकिशोर प्रसाद कटिहार से चौथी बार विधायक बने हैं. 1974 में ललित नारायण विवि से इंटर पास  तारकिशोर प्रसाद 1980 के दशक से ही ही राजनीति व सामाजिक कार्यों में सक्रिय हैं. वे पहली बार फरवरी 2005 में कटिहार से विधायक बने। इसके बाद अक्टूबर 2005 और साल 2010 में भी विधायक बने.

साल 2015 में महागठबंधन की लहर में भी तारकिशोर ने चुनाव जीता. 2020 में वे चौथी बार कटिहार से विधायक चुने गए हैं. संगठन में कई पदों पर रह चुके तारकिशोर प्रसाद अप्रत्याशित रूप से पार्टी के विधानमंडल दल के नेता चुने गए.  शांत स्वभाव पर विभिन्न मोर्चों पर पार्टी का मजबूती से पक्ष रखना इनकी खासियत है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज