मिसाल बनीं कटिहार की ये बच्चियां, उफनती गंगा में खुद नाव चलाकर पढ़ने पहुंचती हैं स्कूल
Katihar News in Hindi

मिसाल बनीं कटिहार की ये बच्चियां, उफनती गंगा में खुद नाव चलाकर पढ़ने पहुंचती हैं स्कूल
कटिहार के मनिहारी में उफनती लहरों पर नाव खेप कर पढ़ाई करने स्कूल जाती हैं लड़कियां.

शिक्षा के लिए संघर्ष करती बहादुर बेटियों को न सरकारी आश्वासन का भरोसा, न ही प्रशासन से शिकायत. ये कहती हैं हम तो अपने दम पर खुद से ही अपनी किस्मत लिखने के लिए अब आगे निकल चुकी है.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 28, 2019, 2:49 PM IST
  • Share this:
कटिहार. मनिहारी नगर पंचायत (Manihari Nagar Panchayat) के सिंग्नल टोला लगभग एक महीने से बाढ़ की चपेट में है. कहीं आना-जाना भी मुश्किल है. यहां तक कि रोजमर्रा का जीवन जीने में भी मुश्किल हो रही है. लेकिन यहां कि बेटियां इन कठिन स्थितियों के बीच भी शिक्षा (Education) की ज्योति जलाए रखने में जुटी हुई हैं. गांव की बेटियां बगैर सरकारी नाव (Government Boat) का इन्तजार किए बगैर खुद से ही नाव चलाकर स्कूल पहुंचती हैं.

शिक्षा के लिए संघर्ष करती बहादुर बेटियों को न सरकारी आश्वासन का भरोसा, न ही प्रशासन से शिकायत. ये कहती हैं हम तो अपने दम पर खुद से ही अपनी किस्मत लिखने के लिए अब आगे निकल चुकी है. इसलिए बाढ़ जैसे प्राकृतिक आपदा भी अब हमारी राह नहीं रोक सकती है.

कल्पना, करीना और उनके साथ नाव से तैर कर विद्यालय जाने को मजबूर तमाम बेटियां भले ही अपने  दर्द को बयां करने में  लड़खड़ा रही हो, लेकिन इन बेटियों का हौसला अडिग है. बस उन्हें पढ़ना है, इसलिए पूरा गांव बाढ़ से घिरने के बाद हर दिन स्कूल जाने के लिए बेटियां खुद से अपने घर में रखे नाव की खेवैया बन कर स्कूल जा रही हैं. इतना ही नहीं शिक्षा के महत्व को समझते हुए अपने गांव की अन्य छोटे बच्चे बच्चियों को भी अपने साथ स्कूल लेकर जा रही है.



Katihar
कटिहार

गांव की रहने वाली अनिता देवी कहती हैं कि हर रोज जान जोखिम में डाल कर कई किलोमीटर खुद से नाव के खेप कर शिक्षा के लिए बेटियों की यह संघर्ष उनलोगो को डराती है. पर क्या करें खुद अनपढ़ रह कर जो दर्द झेल रही है अब बेटियों को उस दर्द से छुटकारा दिलाना चाहती है.  इसलिए नाव खेप कर ही  सही बेटियां स्कूल तक जा रही हैं.

हालांकि वह कहती हैं कि उम्मीद सरकार से है किसी तरह जल्द सरकारी नाव मुहैया हो जाए ताकि बेटियों को सहूलियत हो. वहीं मनिहारी के विधायक मनोहर प्रसाद कहते हैं कि उन्हें इस बात की जानकारी मिली है. जल्द से जल्द प्रशासन से बात कर के यहां सरकारी नाव की व्यवस्था करवाई जाएगी.

निश्चित तौर पर बेटियों के इस हौसले के लिए वे लोग बधाई के पात्र हैं मगर सवाल यह है कि कहां है वह सरकारी नाव जिसके सहारे जिला प्रशासन लोगों को सुविधा देने की दावा कर रहा है.

रिपोर्ट- सुब्रत गुहा

ये भी पढ़ें-
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज