लाइव टीवी
Elec-widget

बिहार: इस शहर में पूरे विधि-विधान के साथ हुआ पीपल और बरगद का 'गठबंधन', जानें वजह

News18 Bihar
Updated: November 14, 2019, 12:52 PM IST
बिहार: इस शहर में पूरे विधि-विधान के साथ हुआ पीपल और बरगद का 'गठबंधन', जानें वजह
कटिहार के एक बुजुर्ग ने पर्यावरण बचाने के लिए 'वृक्ष विवाह' का आयोजन किया.

बारात में सभी गांव के ग्रामीण सहित आयोजक के परिजन भी शामिल हुए और नाचते गाते विवाह स्थल पहुंचे. जहां पुरोहितों ने पूरे रस्मो-रिवाज के साथ वर के रूप में विष्णु भगवान के अवतार वट वृक्ष से पीपल पेड़ का विवाह करवाया.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: November 14, 2019, 12:52 PM IST
  • Share this:
कटिहार. धरती पर पेड़ों का इंसानों से नाता युगों से है, लेकिन बदलते दौर में आधुनिकता के साथ लोगों की बढ़ती आकांक्षाओं और तेज रफ्तार विकास की होड़ ने हमारे पर्यावरण को बड़ा नुकसान पहुंचाया है. इसमें हमारे पेड़-पौधे सबसे ज्यादा प्रभावित हो रहे हैं. हालांकि लोगों को ये भी पता है कि जब तक पेड़ हैं तभी तक इंसानों का अस्तित्व धरती पर है बावजूद इसके पेड-पौधे धड़ल्ले से काटे जा रहे हैं. हालांकि कुछ ऐसे लोग भी हैं जो इन विपरीत परिस्थितियों में भी मिसाल बने हुए हैं. बिहार के कटिहार में ऐसे ही एक शख्स ने पर्यावरण रक्षा के लिए अनोखी पहल की है जो सुर्खियों में है.

पेड़ों को बचाने की अनोखी मुहिम
मनिहारी अनुमंडल के कांटाकोश गांव के ग्रामीणों ने पर्यावरण और हरियाली के प्रति लोगो को जागरूक करने के लिए बुजुर्ग शिव गोपाल पाण्डेय के मार्ग दर्शन में 'वृक्ष विवाह' का अनोखा कार्यक्रम आयोजित किया गया. इस कार्यक्रम के जरिए समाज को हरियाली के प्रति जागरूग करने की अनोखी मुहिम छेड़ी गई है.

विधि-विधान के साथ हुई पेड़ों की शादी

शिव गोपाल पाण्डेय के आवास से शुरू हुए वृक्ष विवाह कार्यक्रम में उनके बैंककर्मी पुत्र श्रीकांत पाण्डेय और पुत्रवधु मीना पाण्डेय ने दूल्हा-दुल्हन की पोषाक में सभी विधि-विधान को पूर्म किया. इंसान की शादी की ही तर्ज़ पर बैंड बाजा और बारात भी निकाली गई. महिलाओं ने शादी से जुड़े मंगल गीत भी गाए.

नाचते-गाते निकली बारात
इस अनोखे विवाह के आयोजनकर्ता शिव गोपाल पाण्डेय की आवास से बैंड बाजों के साथ सैकड़ों की संख्या में बारात निकली. बारात में सभी गांव के ग्रामीण सहित आयोजक के परिजन भी शामिल हुए और नाचते गाते विवाह स्थल पहुंचे. जहां पुरोहितों  लक्ष्मण उपाध्याय, अमरनाथ पांडे, रुद्रानंद झा ने पूरे रस्मो-रिवाज के साथ वर के रूप में विष्णु भगवान के अवतार वट वृक्ष से पीपल पेड़ का विवाह करवाया.
Loading...

कटिहार में एक बुजुर्ग शख्स शिव गोपाल पाण्डेय ने पर्यावरण बचाने के लिए पीपल और बरगद पेड़ की शादी करवाई.


इसलिए हुआ वृक्षों का गठबंधन 
इंसानों की शादी विवाह के तर्ज पर मंगल गीत गाया जाता है ठीक उसी तरह महिलाओं ने मंगल गीत के साथ वरमाला हुआ और वृक्षों का गठबंधन भी किया गया. शिव गोपाल पाण्डेय ने कहा कि आज पूरा विश्व प्रदूषण की समस्या से जूझ रही है. देश के राजधानी दिल्ली के साथ साथ कई छोटे- बड़े शहरों में प्रदूषण के कारण सांस लेना मुश्किल होता जा रहा है और लोग इसका विकल्प ढूंढ रहे हैं.

लोगों के लिए भोज का आयोजन
ऐसे ही  बातों को ध्यान में रखते हुए उन्होंने हरियाली के प्रति लोगों के रुझान बढ़ाने के लिए 'वृक्ष विवाह' कार्यक्रम में के माध्यम से लोगों को जागरूक कर रहे हैं. इस अवसर पर गांव में ही सभी ग्रामीण और परिजनों के लिए रात्रि भोज के भी व्यवस्था की गई. जिसमें गांव के गणमान्य नागरिक एवं बुद्धिजीवियों ने भी भाग लिया.

अनोखे अंदाज में बड़ा संदेश
शिव गोपाल पाण्डेय ने कहा कि आगे भी वह लोगों को वृक्षारोपण के प्रति  जागरूक करते रहेंगे  और अगले साल तक 1000 पेड़ों की शादी करवा कर लोगों को शपथ दिलाएंगे कि वो लोग अब इन पेड़ों की सुरक्षा करें.

ये भी पढ़ें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कटिहार से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 14, 2019, 12:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...