इस सरकारी दफ्तर में हेलमेट पहनकर ड्यूटी करते हैं अफसर और कर्मचारी, जानें पूरा माजरा
Katihar News in Hindi

इस सरकारी दफ्तर में हेलमेट पहनकर ड्यूटी करते हैं अफसर और कर्मचारी, जानें पूरा माजरा
कटिहार के मलेरिया ऑफिस में हेलेमेट पहनकर काम करते कर्मचारी

कटिहार सदर अस्पताल (Katihar Sadar Hospital) परिसर के जर्जर भवन में जिला मलेरिया (Maleraia) कार्यालय लगभग 50 साल से चल रहा है. 50 साल पुराने इस कार्यालय की छत और दीवार दरक कर गिरती रहती है

  • Share this:
कटिहार. आमतौर पर हम और आप हेलमेट (Helmet) लगाकर बाइक, स्कूटी या फिर स्कूटर की सवारी करते हैं, लेकिन हम आज आपको बता रहे हैं बिहार के कैसे सरकारी दफ्तर (Office) की कहानी जहां कर्मचारी से लेकर अधिकारी तक हेलमेट लगाकर ड्यूटी करते हैं. हेलमेट लगाकर ड्यूटी करने वाले कर्मचारी शौक से नहीं, बल्कि मजबूरी में ऐसा करते हैं. मामला बिहार के कटिहार (Katihar) जिले से है जहां मलेरिया कार्यालय से यह अनोखी तस्वीर सामने आई है.

50 साल पुरानी है बिल्डिंग

कटिहार सदर अस्पताल परिसर के जर्जर भवन में जिला मलेरिया कार्यालय लगभग 50 साल से चल रहा है. पांच दशक पुराने इस कार्यालय की छत और दीवार दरक कर गिरती रहती है, जिसकी वजह से यहां काम करने वाले कर्मी से लेकर अधिकारी तक दहशत में हैं. चोट से बचने के लिए इन लोगों ने एक नायाब उपाय निकाला है. यहां कर्मी से लेकर अधिकारी तक कार्यालय के भीतर हेलमेट पहन के ही ड्यूटी करते हैं. इतना ही नहीं आगंतुकों के लिए भी यह नियम लागू है. यानी अगर आप किसी काम के लिए इस कार्यालय में आते है तो कर्मी और अधिकारी आपको हेलमेट पहन कर आने की ही नसीहत देते दिखेंगे.



लैपटॉप और कंप्यूटर को भी होता है नुकसान
कार्यालय के कंप्यूटर ऑपरेटर राजीव कुमार कहते हैं कई बार छत का प्लास्टर टूटकर गिरने से लैपटॉप और कंप्यूटर को भी नुकसान हो चुका है. इसलिए कम से कम खुद को बचाकर ड्यूटी करने के लिए हेलमेट पहनना मजबूरी है. जिला मलेरिया पदाधिकारी डॉ. जयप्रकाश सिंह कहते हैं कि इस बारे में कई बार सिविल सर्जन से लेकर डीएम तक को आवेदन दिया जा चुका है, लेकिन अब तक कोई सुनवाई नहीं हुई है.

सिविल सर्जन बोले- दफ्तर का नहीं है कोई विकल्प

सिविल सर्जन अरविंद प्रसाद शाही कहते हैं कि यह कार्यालय जर्जर घोषित हो चुका है, लेकिन फिलहाल कहीं कोई और विकल्प नहीं है. इसलिए किसी तरह इस कार्यालय में ही लोग ड्यूटी कर रहे हैं. जल्द ही इसी महीने के आखिर तक जर्जर भवन को तोड़कर नया जिला मलेरिया कार्यालय का भवन बनाया जाएगा. इसके बाद कर्मचारियों और अधिकारियों की समस्या का समाधान हो सकेगा.

ये भी पढ़ेंराज्यसभा चुनाव: सोनिया गांधी की सहमति से ही RJD ने फाइनल किए थे अपने उम्मीदवारों के नाम !

ये भी पढ़ें- राज्यसभा चुनाव: कौन हैं RJD से टिकट पाने वाले अमरेन्द्रधारी सिंह?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading