कटिहार: स्वच्छता मिशन के अंतर्गत शौचालय बनाने के बाद पैसों के लिए भटक रहे हैं लोग

गांव के मुखिया के मानें तो एक साल पहले ही सभी वार्डों में सत-प्रतिशत शौचालय निर्माण के बाद जिलाधिकारी ने गांव को ओडीएफ घोषित किया था.

News18 Bihar
Updated: May 21, 2018, 10:58 AM IST
News18 Bihar
Updated: May 21, 2018, 10:58 AM IST
कटिहार में स्वच्छ भारत मिशन के नाम पर एक अजब खेल सामने आया है. खुले में शौच मुक्त समाज निर्माण के लिए कटिहार अमदाबाद प्रखंड के उत्तरी करीमुल्लाहपुर के लोगों की पहल से एक साल पहले पूरे पंचायत को ओडीएफ घोषित किया गया. लेकिन शौचालय निर्माण के बाद यहां के निवासी एक दूसरी समस्या में उलझे हुए हैं. दरअसल यहां के लोग पिछले एक साल से शौचालयों के लिए मिलने वाली सरकारी सहायता के पैसों के लिए भटक रहे हैं, जिससे अब उनमें सरकार के दावे के प्रति नाराजगी बढ़ती जा रही है.

गांव के मुखिया के मानें तो एक साल पहले ही सभी वार्डों में सत-प्रतिशत शौचालय निर्माण के बाद तत्कालीन जिला अधिकारी गांव आए थे. जिलाधिकारी ने गांव को ओडीएफ घोषित करने के बाद जल्द ही लोगों को शौचालय निर्माण से जुड़ी राशि उपलब्ध करवाने की बात कही थी. मगर कई बार कागजात लेने के बाद भी वार्ड नंबर 3 और 4 के लोगों को सहायता राशि नहीं मिली है. गांव के लोगों को अब ओडीएफ तमाशा लगने लगा है.

वहीं जिलाधिकारी ने इस मामले को कुछ तकनीकी चूक बताते हुए जल्द ही लोगों को राशि मुहैया करवाने की बात कही है. अब गांव के लोगों को सहायता राशि कबतक मिलती है यह तो देखने वाली बात होगी, लेकिन स्वच्छता अभियान की सफलता के लिए जरूरी है कि प्रशासन ऐसी भूल करने से जितना संभव हो बचकर रहे.

ये भी पढ़ें

शहीदों के परिवारों की सहायता के लिए दौड़कर पूरे देश का चक्कर लगा रहा है यह युवक
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...