अपना शहर चुनें

States

बिहार: छठ घाट पर तोड़फोड़ का वीडियो वायरल करने वाले युवक को मिल रही धमकी, गांव में पुलिस कर रही कैंप

छठ घाट पर असामाजिक तत्वों द्वारा की गई तोड़फोड़ के बाद वीडियो वायरल करने वाले युवक को मिल रही धमकी.
छठ घाट पर असामाजिक तत्वों द्वारा की गई तोड़फोड़ के बाद वीडियो वायरल करने वाले युवक को मिल रही धमकी.

हथिया दियारा गांव (Hathiya Diara Village) में 20 नवंबर को छठ के दौरान घाट पर हुए तोड़फोड़ का वीडियो बनाने वाले युवक दिनेश साह का कहना है कि अब उन्हें धमकी मिल रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 23, 2020, 2:37 PM IST
  • Share this:
कटिहार. रौतारा थाना के हाथी दियरा गांव  (Hathiya Diara Village) के वार्ड नंबर 12 में छठ पर्व के दौरान 20 नवंबर को कुछ असामाजिक तत्वों ने छठ घाट (Chhath Ghat) पर तोड-फोड़ किया था और स्नान करती हुई छठव्रती महिलाओं का वीडियो बनाया था. इस दौरान उपद्रवी तत्वों ने छठव्रतियों की आस्था पर चोट पहुंचाने का भी प्रयास किया था. इसका एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल (Video viral on social media) हुआ था. इसी मामले की पड़ताल के लिए News18 की टीम उस गांव में पहुंची जहां यह वाकया हुआ था. यहां घटना के 3 दिन बाद भी लोगों में दहशत व्याप्त है.

हथिया दियारा गांव (Hathiya Diara Village) में 20 नवंबर को छठ के दौरान घाट पर हुए तोड़फोड़ का वीडियो बनाने वाले युवक दिनेश साह का कहना है कि अब उन्हें धमकी मिल रही है. न्यूज़ 18 से बात करते हुए दिनेश ने कहा कि फिलहाल गांव में पुलिसकर्मी तैनात हैं, लेकिन कब तक यह लोग रहेंगे. यहां पर एक स्थायी पुलिस चौकी होनी चाहिए ताकि उन लोगों को राहत मिल सके.

स्थानीय पीड़ित लोगों ने न्यूज़ 18 से कहा कि उन लोगों के साथ अक्सर कुछ ना कुछ घटनाएं होती है. क्योंकि यहां हिंदू समुदाय के लोग महज 25 परिवार हैं. जिस कारण कभी उनके धर्म पर आघात पहुंचाया जाता है तो कभी उनके खेत खलियानों को जोत लिया जाता है और अवैध तरीके से कब्जा कर लिया जाता है. लोगों का कहना है कि इस बाबत कई बार प्रशासन से भी फरियाद लगाई गई है, लेकिन प्रशासन द्वारा भी उचित सहयोग नहीं दिया जाता है.



बता दें कि फिलहाल छठ घाट पर तोड़फोड़ मामले में जहां रौतारा थाना के चौकीदार सुखदेव पासवान के बयान पर अज्ञात लोगों पर धारा 295 और 295 ए के तहत प्राथमिकी दर्ज कराई गई है. वहीं, गांव के 43 लोगों ने भी एक पब्लिक पिटीशन थाना में दिया है. हालांकि इस पब्लिक पिटीशन पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है. अभी तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है.
हालांकि थाना की पुलिस की टीम मौके पर मौजूद है जिससे लोगों में थोड़ी राहत है. बावजूद इसके  लोगों का कहना है कि उन लोगों को पूरी सुरक्षा दी जाए. ये पुलिसवाले तो अस्थाई तौर पर आज हैं और कल चले जाएंगे. उसके बाद फिर उनके साथ कुछ भी घटना घटित हो सकती है.

बता दें कि हथियापुर दियारा गांव में समुदाय विशेष की बड़ी आबादी है और यहां करीब 700 परिवार इसी समुदाय की है. वहीं, 25-30 घर दूसरे समुदाय का भी है. मामले के बारे में जो जानकारी सामने आई है उसके अनुसार यही 25-30 परिवार हर वर्ष यहां छठ करते हैं और कभी कोई दिक्कत नहीं आई थी लेकिन, इस बार कुछ असामाजिक तत्वों ने इसमें विघ्न डाल दिया. इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया जिसके बाद बवाल हो गया.

आरोप के अनुसार जब छठव्रती महिलाएं नदी में स्नान कर शाम के अर्घ्य की तैयारी कर रही थीं थीं तो कुछ असमाजिक तत्वों ने वीडियो बनाने की कोशिश की. इसी पर लोगों ने आपत्ति जताई जिसके बाद वे सभी चले गए. हालांकि बाद में आकर इन्हीं लोगों ने छठ घाट को तहस-नहस कर दिया और लोगों की भावनाओं को आहत किया.

मामले की पुष्टि रौतारा थाना पुलिस ने भी की है और कहा है कि इस मामले में आवश्यक कार्रवाई की जा रही है. इससे पहले रविवार को पटना में ADG लॉ एंड ऑर्डर अमित कुमार ने कि इसकी जांच कर जल्द कारवाई की जाएगी और पुलिस अपना काम कर रही है. हालांकि मामला सांप्रदायिक रंग लेकर कहीं विस्तार न ले ले इसलिए पुलिस फूंक-फूंककर कदम उठा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज