दर्द से कराह रही प्रेग्नेंट महिला के लिए 'भगवान' बनी ममता कर्मी, चलती ट्रेन में कराई डिलीवरी

'जाको राखे साइयां, मार सके ना कोई' यह कहावत उस समय चरितार्थ हुई जब चलती ट्रेन (Train) में प्रसव पीड़ा से कराह रही महिला की सफर कर रही ममता कर्मी ने सफल डिलीवरी कराई गई.

News18 Bihar
Updated: August 10, 2019, 9:17 PM IST
दर्द से कराह रही प्रेग्नेंट महिला के लिए 'भगवान' बनी ममता कर्मी, चलती ट्रेन में कराई डिलीवरी
चलती ट्रेन में हुआ नवजात बच्चा
News18 Bihar
Updated: August 10, 2019, 9:17 PM IST
'जाको राखे साइयां, मार सके ना कोई' यह कहावत उस समय चरितार्थ हुई जब चलती ट्रेन (Train) में प्रसव पीड़ा से कराह रही महिला की सफर कर रही ममता कर्मी ने सफल डिलीवरी कराई गई. प्रसव के बाद जच्चा-बच्चा दोनों सुरक्षित हैं. ट्रेन के मनिहारी स्टेशन (Manihari Station) पर पहुंचने के बाद स्टेशन मास्टर ने जच्चा बच्चा को आगे के इलाज के लिए मनिहारी अनुमण्डल अस्पताल भिजवा दिया, जहां दोनों बिलकुल स्वस्थ है.

मिली जानकारी के मुताबिक, घटना शनिवार की है. दरअसल विक्की मंडल पति नंदलाल मंडल दक्षिण कोरिया मियां हाट हरिश्चंद्रपुर मालदा पश्चिम बंगाल की रहने वाली अपने परिजनों के साथ डॉक्टर को दिखाने तेजनारायणपुर-कटिहार पैसेंजर ट्रेन से कटिहार जा रही थी. इसी दौरान काटाकोश होल्ट के पास विक्की मंडल के प्रसव पीड़ा होने लगी. प्रसव पीड़ा से तपड़ती महिला को देखकर ट्रेन में सफर कर रही मनिहारी अनुमंडल अस्पताल में कार्यरत एक ममता कर्मी रीता देवी की ममता जाग उठी. उन्होंने अपने अनुभव के आधार पर ट्रेन में मौजूद बाकी महिलाओं की मदद से सफल प्रसव करवाया.

मनिहारी अनुमण्डल अस्पताल में जच्चा बच्चा भर्ती
बाद में ट्रेन के मनिहारी स्टेशन पर पहुंचने पर स्टेशन मास्टर की तत्परता से जच्चा बच्चा को आगे के इलाज के लिए मनिहारी अनुमण्डल अस्पताल भिजवा गया, जहां दोनों बिलकुल स्वस्थ हैं. आम लोग, महिला के परिजन और मनिहारी स्टेशन प्रबंधक, स्वास्थ विभाग की ममता के पद पर काम करने वाली रीता देवी की सराहना कर रहे हैं.

अन्य महिलाओं की मदद से महिला का सुरक्षित प्रसव कराया
ममता कर्मी रीता देवी ने बताया कि चलती ट्रेन में एक महिला को प्रसव पीड़ा शुरू हो गई. ट्रेन के स्टेशन पर पहुंचने में भी वक्त था. ऐसे में डब्बे में महिलाओं की मदद से गर्भवती की मदद करने का फैसला किया. इसके बाद अन्य महिलाओं की मदद से महिला का सुरक्षित प्रसव कराया. नवजात और उसकी मां दोनों ठीक थे. जब ट्रेन स्टेशन पर पहुंची तो स्टेशन मास्टर की सहायता से अस्पताल में भर्ती करवा दिया.

(रिपोर्ट- सुभ्रत)
First published: August 10, 2019, 9:16 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...