बिहारः पति-पत्नी मिलकर घर में ही चला रहे थे हथियारों की फैक्ट्री, पिस्टल-कारतूस समेत गिरफ्तार
Khagaria News in Hindi

बिहारः पति-पत्नी मिलकर घर में ही चला रहे थे हथियारों की फैक्ट्री, पिस्टल-कारतूस समेत गिरफ्तार
बिहार के खगड़िया में पकड़े गए मिनी गन फैक्ट्री के बारे में जानकारी देते अधिकारी

बिहार के खगड़िया (Khagaria) में अवैध हथियार कारखाने (Gun Factory) इस कार्रवाई के दौरान पुलिस ने पिस्टल, कट्टा, कारतूस समेत हथियार बनाने के औजार भी बरामद किए हैं. पकड़े गए लोगों ने हथियार बनाने की ट्रेनिंग मुंगेर से ली थी.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 14, 2020, 1:55 PM IST
  • Share this:
खगड़िया. बिहार की खगड़िया पुलिस (Bihar Police) ने एक मिनी गन फैक्ट्री का खुलासा किया है. डीएसपी आलोक रंजन ने बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर अलौली थाना की पुलिस ने बहादुरपुर पुलिस पिकेट के साथ मिलकर छिलकौड़ी गांव में छापेमारी की, जहां से पुलिस ने मिनी गन फैक्ट्री (Gun Factory) का उद्भेदन किया. इस छापेमारी के दौरान मिनी गन फैक्ट्री को संचालित कर रहे पति-पत्नी को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है. छापेमारी के दौरान पुलिस को एक देशी पिस्टल, दो देसी कट्टा, एक अर्धनिर्मित देशी कट्टा के साथ-साथ तीन बाॅडी प्रोटेक्टर और  29 गोली, हथियार बनाने वाले कई औजार को भी बरामद किया गया है.

अलौली थाना के छिलकौड़ी गांव  के रहने वाले महेन्द्र शर्मा अपनी पत्नी के साथ मिलकर घर में ही हथियार  बनाने का कारोबार चला रहा था. खगड़िया के डीएसपी आलोक रंजन की मानें तो अभी कुछ दिन पहले ही हथियार बनाने का काम शुरू किया था. इन लोगों ने पहले तीन बाॅडी प्रोटेक्टर का निर्माण किया उसके बाद हथियार बनाने का काम शुरू किया. हथियार बनाने में महेन्द्र शर्मा का बेटा भी सहयोग करता था, उसे भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

एक सप्ताह के अंदर दूसरे मिनी गन फैक्ट्री का खुलासा
बताया जा रहा है कि मुंगेर के कारीगर द्वारा महेन्द्र शर्मा को हथियार बनाने की ट्रेनिंग दी गई थी. इसके बाद उसने अपने घर में ही हथियार बनाने का काम शुरू किया था. खगड़िया में तीन दिन पहले मुफ्फसिल थाना के रहीमपुर के पास स्थित एक धर्म कांटा के लाॅज मे पटना एसटीएफ और जिला पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में भारी मात्रा में हथियार के साथ-साथ पांच तस्करों को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया था. गिरफ्तार सभी लोग मुंगेर जिला के रहने वाले थे. इस गिरफ्तारी के बाद से ही पुलिस ऐसे अवैध कारखानों की तलाश कर रही थी.
मुंगेर में छापेमारी से खगड़िया बन रहा सेफ जोन


आशंका  जताई जा रही है कि मुंगेर में लगातार पुलिस द्वारा अवैध हथियार निर्माण के खिलाफ छापेमारी  की जा रही है. ऐसे में खगड़िया को हथियार तस्कर सेफ जोन मानकर यहां अवैध कारखाने खोल रहे हैं. स्थानीय लोगों का मानना है कि मुंगेर से सटा हुआ जिला खगड़िया है और आने-जाने के लिए नाव ही एक सहारा है. ऐसे में गंगा नदी होने के कारण पुलिस की गश्ती भी काफी नहीं होती है जिसका फायदा हथियार तस्करों को मिल जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज