खगड़िया : अपहरण के बाद मत्स्यजीवी सहयोग समिति के मंत्री अशोक सहनी की हत्या

खगड़िया मत्स्यजीवी सहयोग समिति के मंत्री अशोक सहनी की लाश तालाब से मिली. (फाइल फोटो)

कल कोठिया ढाला के पास से अशोक सहनी और उनके ड्राइवर का अपहरण कर लिया गया था. बाद में ड्राइवर को मारपीट कर छोड़ दिया गया था. ड्राइवर, अशोक सहनी की पत्नी और मां ने सिकंदर सहनी के बेटों पर अपहरण का आरोप लगाया था.

  • Share this:
खगड़िया. बिहार के खगड़िया में आपसी रंजिश को लेकर मत्स्यजीवी सहयोग समिति के मंत्री अशोक सहनी की अपहरण के बाद हत्या कर दी गई है. पुलिस ने मुफस्सिल थाना के सोरायडीह के पास के तलाब से शव बरामद कर लिया है. अशोक सहनी की हत्या रस्सी से गला घोंट कर की गई है. सदर डीएसपी सुमित कुमार ने बताया कि अपहरण की सूचना के बाद से पुलिस लगातार छापामारी कर रही थी. लेकिन इसी बीच हत्या की सूचना मिली. इस मामले में फिलहाल दो आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए हैं. मुख्य आरोपी को गिरफ्तार करने की कोशिश में पुलिस जुटी है. डीएसपी ने कहा कि यह वारदात आपसी रंजिश का नतीजा है.

ड्राइवर का भी किया गया था अपहरण, मारपीट कर छोड़ा

बताते चलें कि कल कोठिया ढाला के पास से अशोक सहनी का अपहरण कर लिया गया था. इस वारदात के बाद अशोक सहनी की पत्नी ने मत्स्यजीवी सहयोग समिति के पूर्व मंत्री सिकंदर सहनी के बेटों पर इसका आरोप लगाया था. सिकंदर सहनी और अशोक सहनी के बीच मत्स्यजीवी सहयोग के चुनाव के बाद से रंजिश चल रही थी. कल उस समय अशोक सहनी और उनके ड्राइवर बबलू का अपहरण कर लिया गया था, जब वे दोनों बाइक से अपने जलकर गंगौर से वापस आ रहे थे. हालांकि कुछ देर के बाद अपराधियों ने ड्राइवर बबलू को मारपीट कर छोड़ दिया था. उस समय भी बबलू ने अपहरणकर्ताओं के नाम बताए थे और कहा था कि सिकंदर सहनी के बेटों ने ही अगवा किया है.

हत्या की खबर सुनते ही घर में मचा कोहराम

खगड़िया के नगर थाना के बलुआही चौक के पास स्थित है मत्स्यजीवी सहयोग समिति के प्रखंड मंत्री अशोक सहनी का घर. उनके घर पर जैसे ही हत्या की सूचना मिली, परिवार में कोहराम मच गया. अशोक सहनी की पत्नी शिवानी देवी का कहना है कि उनके पति अशोक सहनी और सिकंदर सहनी के बीच मत्स्यजीवी सहयोग समिति के चुनाव के समय से ही वर्चस्व की लड़ाई चलती आ रही है. 2017 में हुए चुनाव में सिकंदर सहनी हार गए थे और उनके पति मंत्री पद का चुनाव जीत गए थे. उसके बाद से ही अशोक सहनी उसके पति के पीछे लगा हुआ था. वहीं, अशोक सहनी की मां का कहना है कि जलकर को लेकर हमेशा विवाद चलते रहता था. सिकंदर सहनी पर ही उसकी मां ने अपहरण का आरोप लगाया था.

कुछ देर में घर लौटने को कह कर निकले थे बाजार

अशोक सहनी की पत्नी ने बताया कि कल सुबह 10:00 बजे के करीब वह घर से यह बोल कर अपने ड्राइवर के साथ बाइक से ही निकले कि वह जल्द ही बाजार से लौट आएंगे. लेकिन वह बाजार जाने के बाद बाइक से ही अपने जलकर गंगौर चले गए थे. दोपहर में पत्नी को अशोक सहनी ने फोन कर बताया था कि वह जलकर जा रहे हैं और वहां से लौट कर आएंगे. उसके बाद से अशोक सहनी का मोबाइल फोन बंद हो गया.