लाइव टीवी

लोकसभा चुनाव 2019: खगड़िया के रण में फिर से निर्णायक साबित होगा 'माय समीकरण' ?

News18 Bihar
Updated: May 1, 2019, 6:03 PM IST
लोकसभा चुनाव 2019: खगड़िया के रण में फिर से निर्णायक साबित होगा 'माय समीकरण' ?
खगड़िया जंक्शन

खगड़िया लोकसभा सीट के अंतर्गत छह विधानसभा सीटें हैं, जिनमें सिमरी, बख्तियारपुर, हसनपुर, खगड़िया, बेलदौर, परबत्ता और अलौली शामिल हैं.

  • Share this:
मंगलवार को बिहार की पांच लोकसभा सीटों के लिए वोटिंग होनी है. जिन सीटों पर वोटिंग होनी है उनमें खगड़िया सीट भी शामिल है. खगड़िया सीट पर सीधा मुकाबला एनडीए बनाम महागठबंधन है. इस सीट से एनडीए ने जहां लोजपा के महबूब अली कैसर को टिकट दिया है वहीं महागठबंधन ने वीआईपी पार्टी के मुकेश सहनी को टिकट दिया है.

ये भी पढ़ें- पटना: शत्रुघ्न का विरोध जारी, अब कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बताया 'लालू का एजेंट'

कहने को तो इस सीट से 20 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं लेकिन मुकाबला चौधरी महबूब अली कैसर और सन ऑफ मल्लाह यानी मुकेश सहनी के बीच है. शुरुआती समय में भाकपा की ओर से कृष्णा कुमारी यादव के चुनाव लड़ने की चर्चा थी लेकिन कुछ ही दिनों बाद कृष्णा कुमारी यादव ने तमाम चर्चाओं पर विराम लगाते हुए लोकसभा चुनाव लड़ने से इन्कार कर दिया.

ये भी पढ़ें- तेजस्वी यादव ने फिर खेला इमोशनल कार्ड, बोले- लालू जी के साथ हो रहा अमानवीय व्यवहार

इस सीट से वोटरों की बात करें तो सबसे अधिक यादव मतदाताओं की संख्या है. इनकी संख्या 3.5 लाख है जबकि मुसलमान वोटर भी डेढ़ लाख के करीब हैं. कहा जाता है कि इस सीट पर हमेशा से एमवाई फैक्टर कारगर होता है. खगड़िया में अन्य जातियों की बात करें तो इस सीट से निषाद वोटरों की संख्या डेढ़ लाख, कुर्मी और कुशवाहा ढाई लाख, सवर्ण डेढ़ लाख, एससी/एसटी डेढ़ लाख, पासवान डेढ़ लाख व अन्य जाति करीब तीन लाख हैं.

ये भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव 2019: बेगूसराय में कन्हैया कुमार और उनके समर्थकों के खिलाफ केस दर्ज

2014 के आम चुनाव में LJP की मेहबूब अली कैसर ने 3,13,806 वोटों के साथ जीत हासिल की थी. वहीं इस सीट पर RJD के कृष्णा यादव को 2,37,803 वोट मिले थे. 2019 के चुनाव में यादव बाहुल्य इस लोकसभा क्षेत्र में पहली बार लड़ाई में कोई बड़ा प्रत्याशी के रूप में कोई यादव प्रत्याशी चुनाव मैदान में नहीं है.
Loading...

खगड़िया लोकसभा सीट के अंतर्गत छह विधानसभा सीटें हैं, जिनमें सिमरी, बख्तियारपुर, हसनपुर, खगड़िया, बेलदौर, परबत्ता और अलौली शामिल हैं. अलौली विधानसभा सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है. इस सीट पर सबकी नजर ‘माय’ समीकरण पर है यानी जो इन दो वर्गों का वोट ले जाएगा जीत लगभग तय मानी जाएगी.

इस सीट को फतह करने के लिए दोनों दलों के नेताओं ने दमखम लगाया है. शुरूआती दौर में जहां लोजपा से महबूब अली कैसर का टिकट कटने की बात थी तो वहीं महागठबंधन से टिकट मिलने के दावेदारों में नाम कृष्णा यादव था लेकिन फिलहाल इस सीट से मुकाबला वीआईपी बनाम लोजपा ही है.

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए खगड़िया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 22, 2019, 5:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...