लाइव टीवी

कपकपाती ठंड में खुले आसमान के नीचे जिंदगी जीने को बेबस कटाव पीड़ित

DIGVIJAY | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: December 31, 2017, 9:15 AM IST
कपकपाती ठंड में खुले आसमान के नीचे जिंदगी जीने को बेबस कटाव पीड़ित
ETV Image

ठंड से पूरे बिहार का हाल बेहाल है. लोग गर्म कपड़े और आग के सहारे ठंड से बचने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन खगड़िया में एक तबका ऐसा है जो खुले आसमान के नीचे ठंडी हवा के थपेड़ों के बीच हार कपकपाती ठंड में पूस की रात में जिंदगी गुजारने को विवश है.

  • Share this:
ठंड से पूरे बिहार का हाल बेहाल है. लोग गर्म कपड़े और आग के सहारे ठंड से बचने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन खगड़िया में एक तबका ऐसा है जो खुले आसमान के नीचे ठंडी हवा के थपेड़ों के बीच हार कपकपाती ठंड में पूस की रात में जिंदगी गुजारने को विवश है.

फूस के बने घर में जानवरों के साथ-साथ बच्चों को फटे-पुराने कपड़े के सहारे जारे से बचाने की कोशिश में लगे हैं, लेकिन उनका यह दर्द जिला प्रशासन के अधिकारियों तक नहीं पहुंच पा रहा है.

फूस के एक घर में हार कपकपाती ठंड में जानवरों के साथ फटे-पुराने कपड़े ओढ़कर समय बिताने को मजबूर हैं. वहां जीवन गुजार रहे बच्चों को देखकर किसी के भी रौंगटे खड़े हो सकते हैं, लेकिन इस तरह से सोना इन बच्चों की नियति ही बन चुकी है. यही नहीं कई ऐसे भी लोग हैं जिन्हें घर भी नसीब नहीं है. बांध पर ही प्लास्टिक टांग कर रात गुजार रहे हैं.

खगड़िया शहर से कुछ दुरी पर स्थित इटवा बांध पर रह रहे कटाव पिड़ितों को घर तक नसीब नहीं है. चिलचिलाती गर्मी हो या कपकपाती पूस की रात बस उम्मीद के सहारे जिंदगी इनकी कटती जाती है. खगड़िया के सीओ का कहना है कि ऐसे लोगों के लिए जल्द ही कंबल का वितरण किया जाएगा. कल तक बांध पर रह रहे कटाव पीड़ित खुद के आशियाने में रहा करते थे, लेकिन किस्मत ने ऐसे साथ छोड़ा कि नदी के कटाव के कारण घर से बेघर हो गए और बांध पर खुले आसमनान के बीच रहने को विवश हैं.

बांध पर रह रहे कटाव पीड़ित का दर्द अपनें आप में यह साबित करने के लिए काफी है कि जिला प्रशासन के द्वारा ठंड से बचाव को लेकर क्या इंतजामात किए जा रहे हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए खगड़िया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 31, 2017, 9:15 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...