लाइव टीवी

तुगलकी फरमान : अपनों ने किया गैंगरेप फिर पंचायत ने ठहराया बदचलन

DIGVIJAY | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: December 29, 2017, 10:35 AM IST

बिहार के अररिया की इस बेबस लाचार महिला की दर्दभरी कहानी जिसे सुनकर आपके रौंगटे खड़े हो जाएंगे. महिला के साथ पहले तो रिश्तेदार और ग्रामीणों ने चाकू की नोक पर सामूहिक दुष्कर्म किया और जब पति को इसकी जानकारी दी तो उल्टे उसे ही समाज के ठेकेदारों ने चरित्रहीन ठहरा दिया.

  • Share this:
बिहार के अररिया की इस बेबस लाचार महिला की दर्दभरी कहानी जिसे सुनकर आपके रौंगटे खड़े हो जाएंगे. महिला के साथ पहले तो रिश्तेदार और ग्रामीणों ने चाकू की नोक पर सामूहिक दुष्कर्म किया और जब पति को इसकी जानकारी दी तो उल्टे उसे ही समाज के ठेकेदारों ने चरित्रहीन ठहरा दिया. जिस पति के बलबूते महिला पापियों को सजा दिलवाना चाहती थी, उसी ने समाज के साथ मिलकर पंचायत बुलाई और पीड़ित पत्नी के सरेआम बाल काट दिए और जमकर मारपीट भी की.

पंचायत की इस तुगलकी फरमान ने महिला की आबरू ही नहीं कानून को भी तार-तार कर दिया. इतना सब हो जाने के बाद भी महिला हिम्मत नहीं हारी और मायके आकर अपना इलाज करवाया. फिर चंदा जुटाकर दिल्ली स्थित मानवाधिकार आयोग के ऑफिस तक पहुंची और वहां वरीय अधिकारीयों से शिकायत की. घटना के पांच महीने बाद थाने में 23 लोगों के खिलाफ केस दर्ज हुआ और छ नामजद की गिरफ्तारी हुई. महिला का पति अभी भी फरार है. खबर है कि नेपाल भाग गया है.

अररिया के सिकटी थाना अंतर्गत बरदाहा ओपी के ठेन्गापुर में पांच महीने पहले एक महिला के साथ उसके ससुर (पति के चाचा) समेत गांव के तीन लोगों ने सामूहिक दुष्कर्म किया. इसके बाद महिला को बदचलन बताकर पंचायत ने तुगलकी फरमान सुनाते हुए ना सिर्फ उसके साथ मारपीट की गई, बल्कि उसे बाल भी काट दिए गये. पीड़िता ने बताया कि लोग उसे लाठी डंडे और लात से मारते रहे, लेकिन किसी ने भी मदद नहीं की. जब इतने से भी उनका मन नहीं भरा तो उसके बाल काट दिए गए.

पीड़िता ने कहा कि न्याय के लिए वह एक वकील से मिली. वकील ने उसे दिल्ली चले जाने का सुझाव दिया. इसके बाद पीड़िता दिल्ली स्थित मानवाधिकार आयोग के दफ्तर पहुंची और वहां शिकायत की. पीड़िता के रिश्तेदारों ने भी बताया कि इसके साथ नाइंसाफी हुई थी. उनका कहाना था कि इसके पति को इस पर भरोसा करना चाहिए था, लेकिन उसने भी इसे गलत समझा.

इस पूरे मामले में अररिया एसडीपीओ ने बताया कि हमें दूसरे माध्यम से इसकी शिकायत आई तब जाकर पीड़िता के बयान पर केस दर्ज कर 6 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. एसडीपीओ ने बताया कि उस महिला के पति समेत अन्य लोगों को भी जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा. एक तरफ जहां महिला सशक्तिकरण की दुहाई देते हुए सरकार थकती नहीं है, वहीं महिला का स्थानीय पुलिस पर से विश्वास उठ जाना कई सावाल खड़े करता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए खगड़िया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 29, 2017, 10:35 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...