होम /न्यूज /बिहार /क्या बिहार-बंगाल के कुछ जिलों को मिलाकर केंद्र शासित प्रदेश बनेगा? अमित शाह ने दिया यह जवाब

क्या बिहार-बंगाल के कुछ जिलों को मिलाकर केंद्र शासित प्रदेश बनेगा? अमित शाह ने दिया यह जवाब

भारत नेपाल सीमा पर सशस्त्र सीमा बल के फतेहपुर, पेकटोल, बेरिया, आमगाछी और रानीगंज की सीमा चौकियों के उद्घाटन के अवसर पर गृह मंत्री अमित शाह.

भारत नेपाल सीमा पर सशस्त्र सीमा बल के फतेहपुर, पेकटोल, बेरिया, आमगाछी और रानीगंज की सीमा चौकियों के उद्घाटन के अवसर पर गृह मंत्री अमित शाह.

Bihar News: पश्चिम बंगाल और बिहार के कुछ जिलों के 20 विधान सभा क्षेत्रों को मिलाकर केंद्र शासित राज्य बनाए जाने की चर् ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

भारत-नेपाल सीमा की BOP फतेहपुर से एसएसबी की 5 सीमा चौकियों के भवनों का उद्घाटन किया.
सीमावर्ती क्षेत्रों की सुरक्षा व सशस्त्र बलों के सशक्तिकरण के लिए मोदी सरकार संकल्पबद्ध-अमित शाह
अमित शाह ने बिहार व पश्चिम बंगाल के जिलों को मिलाकर UT बनाए जाने की चर्चा पर स्थिति स्पष्ट की.

किशनगंज. बिहार के सीमांचल क्षेत्र और पश्चिम बंगाल के कुछ सीमावर्ती जिलों को मिलाकर क्या केंद्र शासित राज्य बनाए जाने की योजना है? हाल में बिहार के राजनीतिक-सामाजिक हलकों से लेकर आम जनता के बीच ये चर्चा का विषय बना हुआ था. खास तौर पर इस चर्चा ने तब और जोर पकड़ा जब बिहार में महागठबंधन की सरकार बनने के बाद गृह मंत्री ने पूर्णिया और किशनगंज जिलों के दौरे की योजना बनाई. इस बीच यह चर्चा कभी जोर पकड़ती रही तो कभी थोड़ी मंद हुई. अब जब अमित शाह बिहार पहुंचे तो उनके दौरे के दूसरे दिन शनिवार को किशनगंज में अनौपचारिक बातचीत में पत्रकारों ने उनसे सवाल पूछ लिया कि क्या केंद्र सरकार ऐसी किसी योजना को लेकर गंभीर है? इस पर तत्काल ही अमित शाह ने जवाब दिया और स्थिति स्पष्ट कर दी.

अमित शाह ने किशनगंज में अनौपचारिक बातचीत में मीडियाकर्मियों से कहा कि सीमांचल के जिलों को केंद्र शासित प्रदेश (यूनियन टेरेट्री) नहीं बनाया जाएगा. यह बिहार का हिस्सा है और बिहार में ही रहेगा. सबकी सुरक्षा होगी और क्षेत्र में रहनेवाले लोगों को किसी भी तरह से असुरक्षित महसूस करने की जरूरत नहीं. सीमावर्ती इलाके की सुरक्षा जरूरी है, इसलिए हमलोग इस क्षेत्र की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर इस पर काम कर रहे हैं. राज्य को अलग क्यों करेंगे?

बता दें कि चर्चा यह थी कि पश्चिम बंगाल और बिहार के कुछ जिलों के 20 विधान सभा क्षेत्रों को मिलाकर केंद्र शासित राज्य बनाया जाएगा. सबसे पहले पटना के दैनिक समाचार पत्र में इसको लेकर एक खबर प्रकाशित हुई थी. इसके बाद से ही आम से लेकर खास तक, सभी के मन में इस बात को लेकर सवाल उठ रहे थे. हालांकि, भाजपा नेता शाहनवाज हुसैन ने इस बात को पहले ही खारिज कर दिया था. मगर ये चर्चा बिहार निवासियों के बीच बदस्तूर जारी रही. अब जब स्वयं गृह मंत्री अमित शाह ने भले ही अनौपचारिक बातचीत में ही सही, इसको लेकर केंद्र सरकार का रुख साफ कर दिया है तो संशय की सारी स्थिति दूर हो गई है.

News18 Hindi

गृह मंत्री अमित शाह ने भारत-नेपाल सीमा की फतेहपुर BOP का दौरा कर पिलर न. 151 और 152 का अवलोकन किया और एसएसबी
के साथ सीमा क्षेत्र की विभिन्न गतिविधियों की समीक्षा की,

बता दें कि गृह मंत्री ने शनिवार को ही भारत-नेपाल सीमा पर स्थित फतेहपुर BOP का दौरा कर पिलर न. 151 और 152 का अवलोकन किया और सशस्त्र सीमा बल यानी एसएसबी के साथ सीमा क्षेत्र की विभिन्न गतिविधियों की समीक्षा की. इस दौरान उन्होंने सशस्त्र सीमा बल के फतेहपुर, पेकटोल, बेरिया, आमगाछी और रानीगंज की सीमा चौकियों के उद्घाटन किया.

इस अवसर पर अमित शाह ने अपने संबोधन में कहा, सीमावर्ती क्षेत्रों की सुरक्षा व सशस्त्र बलों के सशक्तिकरण के लिए मोदी सरकार निरंतर संकल्पबद्ध होकर काम कर रही है. मोदी सरकार बेहतर सीमा प्रबंधन व सुरक्षा हेतु बॉर्डर पर तैनात जवानों को हर संभव सुविधा उपलब्ध करवा रही है. 

Tags: Amit shah, Kishanganj, SSB

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें