Assembly Banner 2021

हादसों का इंतजार: घाटों के हाल-बेहाल, नावों में साइकिल-बाइक लेकर सवार हो रहे लोग

त्यौहार के मौमस में लोग राशन के बड़े-बड़े बोरे और यहां तक कि बाइकें तक लेकर नाव में बैठ जाते हैं. इससे डूबने का खतरा दोगुना हो जाता है.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 24, 2018, 12:12 PM IST
  • Share this:
किशनगंज में कई नदियों के घाटों पर ओवरलोडिंग की समस्या बढ़ती जा रही है. यहां आमतौर पर लोग नाव में गाड़ियां, ढेर सारा सामान लेकर सवार हो रहे हैं. ऐसे में बारिश में किसी बड़े हादसे की आशंका से इन्कार नहीं किया जा सकता.

जिले की कनकई और महानंदा समेत कई नदियों के घाटों पर ओवरलोडिंग की परेशानी लगातार बढ़ रही है. कई घाटों पर यह परेशानी बहुत बढ़ी हुई है. लोग अपनी साइकिल, बाइक, बोरे में सामान लेकर नाव पर सवार हो जाते हैं. सबसे ज्यादा बेहाल कनकई नदी के लौचा घाट की हालत है. त्यौहारी मौसम में तो समस्या और भी ज्यादा हो जाती है. लोग भारी-भारी सामान लेकर एक से दूसरी जगह नाव से आना-जाना कर रहे हैं.

हालांकि समय-समय पर जागरुकता अभियान चलाया जा रहा है. इसके तहत कम से कम सामान लेकर नाव पर जाने की सलाह दी जाती है लेकिन लोगों पर इसका कोई असर दिखाई नहीं देता. लगातार हादसे भी हो रहे हैं लेकिन कोई फर्क नहीं. जिला अधिकारी का कहना है कि नदी का जलस्तर बढ़ने पर नाव परिचालन ही बंद हो जाता है और लोगों की जागरुकता के लिए स्पेशल ड्राइव चलाई जा रही है. (रिपोर्ट- आशीष सिन्हा)



ये भी पढ़ें-
मुजफ्फरपुर के पूर्व मेयर समीर कुमार और एक सहयोगी की AK-47 से हत्या

दुनिया में इन 10 देशों के पास है सबसे ज्यादा सोना, जानिए भारत के पास कितना 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज