बिहार के किशनगंज से सांसद मौलाना असरारूल हक का निधन

कासमी किशनगंज विधानसभा सीट से कांग्रेस के सांसद और वरिष्‍ठ नेता थे. इनकी उम्र 76 साल थी. वहीं परिवार में तीन बेटे और दो बेटियां हैं.

News18Hindi
Updated: December 7, 2018, 10:37 AM IST
बिहार के किशनगंज से सांसद मौलाना असरारूल हक का निधन
सांसद मौलाना असरारूल हक कासमी (File photo)
News18Hindi
Updated: December 7, 2018, 10:37 AM IST
बिहार के किशनगंज से सांसद मौलाना असरारूल हक कासमी का शुक्रवार सुबह निधन हो गया. कासमी को दिल का दौरा पड़ा था. कासमी किशनगंज विधानसभा सीट से कांग्रेस के सांसद और वरिष्‍ठ नेता थे. इनकी उम्र 76 साल थी. वहीं परिवार में तीन बेटे और दो बेटियां हैं.

कासमी जमीयत उलेमा ए हिंद के स्‍टेट प्रेसीडेंट भी रह चुके हैं. वहीं 2009 में कांग्रेस से किशनगंज विधानसभा सीट जीतने के बाद 2014 के आम चुनावों में न केवल कासमी ने भाजपा के खिलाफ सीट जीती बल्कि राज्‍य में सबसे ज्‍यादा वोटों के अंतर से जीती.

स्व हक का जन्म 15 फरवरी 1942 को हुआ था और बीती रात किशनगंज सर्किट हाउस में दिल के दौरे की वजह से उनकी मौत हो गई.  फिलहाल उनके शव को उनके गांव ताराबाड़ी में रखा गया है जहां से जनाजे की अंतिम नमाज के बाद उन्हें सुपुर्दे खाक किया जाएगा.

ये भी पढ़ें-  मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केसः सीबीआई की चार्जशीट आज, यहां पढ़ें पूरा मामला

मौलाना साहब को बहुत ही मिलनसार और नेक दिल इंसान के रुप मे हर जाति वर्ग के लोगों के बीच सम्मान प्राप्त था. मौलाना साहब के निधन के बाद कांग्रेस समेत कई दलों के पदाधिकारियों, सांसदों,विधायकों, पंचायत प्रतिनिधियों की लगातार शोक संवेदनाएं आ रहीं हैं.

वे आलिमे दीन भी थे और धार्मिक सामाजिक विषयों के ख्यातिप्राप्त वक्ता और लेखक थे. वे देश विदेश में अपने सामाजिक सम्बोधन के लिए सांसद होने का बावजूद बतौर वक्ता आमंत्रित होते थे.

मों तस्लीम के बाद इस अल्पसंख्यक बहुल इलाके में एक दूसरे खास नेता की कमी खलेगी.  2009 के बाद 2014 में वे काफी मतों से सांसद चुने गए थे.
Loading...

इनपुट- राजेन्द्र पाठक

ये भी पढ़ें-  उपेंद्र कुशवाहा ने नहीं खोले पत्ते, राहुल गांधी से मिलने के बाद लेंगे NDA छोड़ने का फैसला!
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->