कोचाधामन विधानसभा सीट JDU के लिए है बहुत खास, मुजाहिद आलम लगातार दूसरी बार हैं यहां से MLA

एमआईएम पार्टी ने वर्ष 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में कोचाधामन सीट पर अपनी पार्टी से अख्तरुल ईमान को उतारा था. (सांकेतिक फोटो)
एमआईएम पार्टी ने वर्ष 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में कोचाधामन सीट पर अपनी पार्टी से अख्तरुल ईमान को उतारा था. (सांकेतिक फोटो)

कोचाधामन विधानसभा (Kochadhaman Assembly) क्षेत्र परिसीमन के बाद साल 2010 में अस्तित्व में आया था. पहले यह क्षेत्र किशनगंज विधानसभा में शामिल था.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 24, 2020, 8:38 PM IST
  • Share this:
कोचाधामन. बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव (Assembly elections 2020) के लिए भले ही तारीखों का एलान अभी नहीं हुआ हो लेकिन पूरे प्रदेश में चुनावी सरगर्मियां तेज हो गई हैं. बीजेपी, जदयू और राजद सहित सभी दल चुनावी मैदान में उतर चुके हैं. कोई जनता तक पहुंच बनाने के लिए वर्चुअल रैली कर रहा है तो कोई सोशल मीडिया पर कम्पेन चलाकर हवा बनाने की कोशिश में जुटा हुआ है. बात यदि किशनगंज जिला स्थित कोचाधामन विधानसभा (Kochadhaman Assembly Seat) सीट की करें तो यह हर बार की तरह इस बार भी सबसे महत्वपूर्ण क्षेत्र बना हुआ है. राजनीतिक जानकारों का कहना है कि यहां पर इस बार एनडीए और महागठबंधन (NDA and Grand Alliance) में कांटे का टक्कर हो सकता है. वर्तमान में इस सीट से जदयू के मुजाहिद आलम विधायक हैं.

दरअसल, कोचाधामन विधानसभा क्षेत्र परिसीमन के बाद साल 2010 में अस्तित्व में आया था. पहले यह क्षेत्र किशनगंज विधानसभा में शामिल था. विधानसभा का गठन होने के बाद पहली बार राजद के टिकट पर अख्तरुल ईमान ने जीत का परचम लहराया था. लेकिन अख्तरुल ईमान के इस्तीफा देने पर यहां वर्ष 2014 में हुए उपचुनाव में मुजाहिद आलम ने बाजी मारी थी.

अख्तरुल ईमान ही राजद के टिकट पर विधायक चुने गए थे
कोचाधामन प्रखंड की सभी 24 पंचायत व किशनगंज प्रखंड की छह पंचायतों को शामिल कर कोचाधामन विधानसभा क्षेत्र का गठन नए परिसीमन के बाद किया गया था. इससे पूर्व कोचाधामन प्रखंड किशनगंज विधानसभा क्षेत्र का हिस्सा था, जिसके विधायक राजद के अख्तरुल ईमान थे. वहीं, परिसीमन के बाद नए विधानसभा के गठन के बाद भी अख्तरुल ईमान ही राजद के टिकट पर विधायक चुने गए थे. लेकिन साल 2014 में हुए उपचुनाव में जदयू से मुजाहिद आलम ने जीत दर्ज की थी. वहीं, एमआईएम पार्टी ने वर्ष 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में कोचाधामन सीट पर अपनी पार्टी से अख्तरुल ईमान को उतारा था. इसके बाद इस सीट की राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा होने लगी थी. हालांकि कि अख्तरुल ईमान को महागठबंधन के प्रत्याशी मुजाहिद आलम से हार का सामना करना पड़ा था.
कृषि है मुख्य पेशा


कोचाधामन विधानसभा में रहने वाले सर्वाधिक लोगों की मुख्य पेशा कृषि है. क्षेत्र में मुख्यत: मकई, गेहूं, धान, जूट, तरबूज की खेती होती है. वहीं, अगर मतदाताओं की जनसंख्या की बात करें तो कोचाधामन विधानसभा क्षेत्र में कुल 248199 वोटर्स हैं. जिसमें महिला 119871, पुरुष 128316, बुजुर्ग 5020 और युवा मतदाताओं की संख्या  63419 है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज