अपना शहर चुनें

States

खेत-खलिहानों की खाक छान रहीं बिहार की ये CM कैंडिडेट! जानें किसे कहा JP का नकली चेला

कटिहार में एक मखाना किसान से बात करतीं पुष्पम प्रिया.
कटिहार में एक मखाना किसान से बात करतीं पुष्पम प्रिया.

जेडीयू नेता विनोद चौधरी (JDU leader Vinod Chaudhary) की बेटी हैं जो लंदन में रहती हैं. लॉकडाउन (Lockdown) खत्म होने के बाद से पुष्पम बिहार के कई जिलों का दौरा कर रही है. किसानों के खेतों में पहुंचकर उनसे मिल रही हैं.

  • Share this:
पटना. आठ मार्च 2020 को बिहार के अखबारों में छपे एक विज्ञापन ने राजनीतिक गलियारों में अचानक सनसनी मचा दी थी. इसमें पुष्पम प्रिया चौधरी (Pushpam Priya Chaudhary) ने खुद को बिहार के मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया. पुष्पम ने नई राजनीतिक पार्टी ‘प्लूरल्स’ बनाई है. उन्होंने अपने विज्ञापन में लिखा था कि जो बिहार से प्यार करते हैं और राजनीति से नफरत उनके लिए ये सही प्लेटफॉर्म है. पुष्पम लोगों से उनकी पार्टी जॉइन कर सत्ता में बैठे लोगों से ताकत छीनने को कह रही थीं. जानकारी के अनुसार पुष्पम ने विज्ञापन पर करीब एक ही दिन में एक करोड़ रुपये खर्च कर दिए थे.

पुष्पम प्रिया चौधरी जेडीयू नेता विनोद चौधरी की बेटी हैं, जो लंदन में रहती हैं. जानकारी के अनुसार लॉकडाउन खत्म होने के बाद से पुष्पम बिहार के कई जिलों में दौरा कर रही हैं. किसानों के खेतों में पहुंचकर उनसे मिल रही हैं. हाल में ही उन्होंने पटना के पालीगंज, वैशाली और पूर्णिया जिले के कई गांवों का दौरा किया. वह किसानोंं की समस्या को समझ रही हैं. बीते दिनों उन्होंने पूर्णिया का भी दौरा किया था. वहां वे मखाना किसानों से मिली थीं.
पुष्पम सोशल मीडिया पर भी काफी एक्टिव रहती हैं. उन्होंने अपने टि्वटर हैंडल पर अपने 17 मई के एक ट्वीट को पिन कर रखा है जिस पर अकाउंट खोलते ही आपकी नजर पड़ेगी. इसमें उन्होंने लिखा है, 'बेरोज़गार युवा, भटकते श्रमिक, त्रस्त किसान, हांफते शहर, अनुत्तीर्ण शिक्षा, पीड़ित स्वास्थ्य, असहाय गरीब, लाचार जनता, अक्षम राजनीतिज्ञ, बेशर्म सरकार, शर्मिंदा बिहार और हंसती दुनिया. अनगिनत समस्याएं, कारण एक- 30 साल लॉकडाउन. 2020 वर्ष है इसके अंत का.'

उनका टि्वटर अकाउंट बता रहा है कि गुरुवार को वa किशनगंज में हैं और चाय बागानों का दौरा कर रही हैं. उन्होंने वहां के बागान की तस्वीर शेयर करते हुए लिखा है कि हजारों रोजगार वाले चाय बागान की नई इकोनॉमी बिहार के कैश ग्रीन रिवोल्यूशन के जन्म दे सकती है. अररिया, पूर्णिया और कटिहार में भी इस टी-रिवोल्यूशन को वर्ल्ड क्लास बनाना 2020-30 का मुख्य एजेंडा होगा. 



हाल में ही पांच जून को संपूर्ण क्रांति दिवस पर पुष्पम प्रिया चौधरी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निवास स्थल के पास एक अणे मार्ग पहुंच गई थीं. यहां जाते ही सीएम नीतीश कुमार को जेपी का नकली चेला तक बता दिया था.

पांच जून को पुष्पम प्रिया चौधरी पहुंची अणे मार्ग, नीतीश को बताया जेपी का नकली चेला


खुद को बिहार विधानसभा चुनाव में सीएम उम्मीदवार घोषित कर चुकी पुष्पम ने सीएम नीतीश के दावे पर सवाल उठाते हुए तब कहा था कि नीतीश कुमार कहते हैं कि न्याय के साथ सबका विकास होता है. अगर सबका विकास होता तो सीएम आवास के पीछे स्लम एरिया होता? आखिर क्यों नहीं इनका विकास हुआ.

गौरतलब है कि पुष्पम इंग्लैंड के द इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट स्टडीज विश्वविद्यालय से एमए इन डेवलपमेंट स्टडीज और लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स एंड पॉलीटिकल साइंस से पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन में एमए किया है.  पुष्पम कहती हैं कि कि इन विपरीत परिस्थितियों में भी पॉज़िटिव पॉलिटिक्स ही करनी है और बिहार बदलना है.

ये भी पढ़ें :-


बाहुबली अनंत सिंह को बड़ा झटका! AK 47 कांड में हाईकोर्ट ने रिजेक्ट की बेल, पंडारक केस में जमानत




बिहार: मिलिए उस नटवर से जिनके रिक्शे पर बैठ पहली बार CM पद की शपथ लेने गए थे लालू

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज