बिहार में इंडियन ऑयल कर्मियों ने खड़ी फसल पर जेसीबी चलाई तो किसानों ने रोका काम, मांगा मुआवजा

बिहार के लखीसराय में इंडियन ऑयल की मनमानी के खिलाफ प्रदर्शन करते किसान

बिहार के लखीसराय में इंडियन ऑयल की मनमानी के खिलाफ प्रदर्शन करते किसान

बिहार के लखीसराय में हल्दिया-पारादीप-दुर्गापुर गैस पाइपलाइन के काम की वजह से किसानों की फसल खराब होने का मामला. किसानों ने डीएम को ज्ञापन देकर मुआवजे की मांग की.

  • Share this:
लखीसराय. बिहार के कई जिलों में इन दिनों इंडियन ऑयल (Indian Oil) के हल्दिया-पारादीप-दुर्गापुर गैस पाइपलाइन (Gas Pipe Line) का काम चल रहा है. ये पाइप लाइन बिहार के लखीसराय जिले से होकर भी गुजर रही है लेकिन यहां के किसानों ने विरोध जताते हुए काम को को दिया है. दरअसल किसान शपथ-पत्र में गोलमोल और मुआवजे की बेहद की कम राशि को लेकर उत्‍तेजित और आक्रोशित हैं. इसके अलावा IOCL की टीम ने बिना किसी पूर्व अनुमति के सैकड़ों एकड़ में लगी गेहूं और सरसों की फसल तबाह कर दी है.

हद तो तब हुई जब सूर्यगढ़ा प्रखंड के मानो गांव के चंदनपुरा मौजा में 6 मार्च की रात में आईओसीएल की टीम ने गेहूं और सरसों की खड़ी फसल पर जेसीबी चला दी. इससे पहले ग्रामीणों से बातचीत हुई थी और काम को सहमति बनने तक रोकने की बात कही गई थी लेकिन इसके बावजूद खड़ी फसल को तबाह कर दी गई. इससे किसानों में गुस्‍सा फैल गया और 7 मार्च को आईओसीएल की टीम को खदेड़ कर किसानों ने काम बंद कर दिया है. दर्जनों किसानों ने इस मामले को लेकर बुधवार को डीएम संजय कुमार सिंह को ज्ञापन सौंपा है.

क्या कहते हैं किसान



किसान शशिभूषण प्रसाद बताते हैं कि आईओसीएल का पाइप लाइन का काम चल रहा है जिसमें मानो गांव के सैकड़ों किसानों का जमीन भी गई है लेकिन मुआवजे को लेकर आईओसीएल के तरफ से कोई ठोस आश्वासन नही दिया गया है और बिना अनुमति के कई एकड़ मे लगी गेहूं और सरसो की फसल तबाह कर दी है, जबकि अब तक आईओसीएल के कोई भी बड़े अधिकारी इस मामले को लेकर बातचीत करने नही आए है. इस घटना के बाद से किसानों मे आक्रोश है और हमलोगों ने काम को बंद करवा रखा है. मानो गांव के दर्जनों किसानों ने इस मामले को लेकर डीएम को आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज