IAS बेटों और परिवार छोड़ आवारा कुत्तों के साथ रहते हैं रिटायर्ड जज, ऐसी कटती है लाइफ

रिटायर्ड जज शशिकांत सिंह बताते हैं कि बचपन से हीं उन्हे कुत्तों के प्रति प्रेम रहा है. बचपन से ही वो मां से छिपाकर और किचेन से रोटी चुराकर कुत्तों को खिलाते थे.

News18 Bihar
Updated: July 30, 2019, 3:14 PM IST
IAS बेटों और परिवार छोड़ आवारा कुत्तों के साथ रहते हैं रिटायर्ड जज, ऐसी कटती है लाइफ
कुत्तों के साथ सेवानिवृत जज शशिकांत
News18 Bihar
Updated: July 30, 2019, 3:14 PM IST
पशु प्रेम को किस्से तो आपने बहुत सुने और पढ़े होंगे लेकिन हम आज आपको बता रहे हैं पशु प्रेम का एक ऐसा किस्सा जिसके कारण एक जज ने न केवल सुख सुविधा बल्कि अपने घर परिवार को भी छोड़ दिया. बिहार के लखीसराय में पशु प्रेम की ऐसी ही कहानी लिख रह हैं सेवानिवृत जज शशिकांत सिंह.

एक कमरे में तीस कुत्ते

शशिकांत सिंह के साथ उनके परिवार के लोगों की बजाय आपको आवारा कुत्ते दिखेंगे जिनका घर के हर कोने पर कब्ज होता है. सुख-सुविधा और घर परिवार को छोड़कर तंग कमरे मे पशुओं को अपना परिवार मानकर सेवानिवृत्त जिला जज शशिकांत सिंह पिछले कई दिनों से जीवन यापन कर रह रहे हैं. लखीसराय कोर्ट परिसर स्थित उपभोक्ता फोरम के एक कमरे में वो फिलहाल एक-दो नहीं बल्कि तीस कुत्तों के साथ रह रहे हैं.

नाश्ते में दूध-बिस्किट तो लंच में मटन

सुबह मे कुत्तों को नहलाना, उनको दूध-बिस्किट का नाश्ता देने के बाद मीट-चावल भोजन कराना शशि की दिनचर्या में शामिल है. शशि बताते हैं कि वो प्रतिदिन दो हजार कुत्तों के खाना पर खर्च करते हैं यानि महीने के 60 हजार रुपए. शशिकांत को खुद सोने के लिए भले ही चौकी भी ना हो लेकिन उन्होंने सभी कुत्तों के लिए चौकी की व्यवस्था कर रखी है, यही नहीं बीमार पड़ने पर वो सभी का इलाज भी करवाते हैं.

बचपन से ही प्यारे हैं कुत्ते

रिटायर्ड जज शशिकांत सिंह बताते हैं कि बचपन से हीं उन्हे कुत्तों के प्रति प्रेम रहा है. बचपन से ही वो मां से छिपाकर और किचेन से रोटी चुराकर कुत्तों को खिलाते थे. हाईकोर्ट मे वकालत के दौरान ही उनकी न्यायिक सेवा मे नौकरी लग गई. लखीसराय में वो 2005 में एडीजे रहे इसके बाद उपभोक्ता फोरम में जज के रूप में उनकी प्रतिनियुक्ति हुई. इस दौरान भी शशि का कुत्तों के प्रति प्रेम बना रहा. वो जहां रहते हैं कुत्तों का झुंड हमेशा उनके साथ में रहता है.
Loading...

कुत्तों की देखभाल करते शशिकांत सिंह


पुत्र आईएएस तो अधिकारी हैं घरवाले

यूपी के जौनपुर के शशिकांत सिंह के दो पुत्र आईएएस हैं. उनको परिवार के लोग लखीसराय से लेने आए लेकिन पशु-प्रेम में शशि ने सबको वापस भेज दिया. शशिकांत के दो बेटे जहां आईएएस हैं वहीं परिवार के अन्य सदस्य भी बड़े अधिकारी हैं. उनके इस पशु प्रेम की चर्चा चहुंओर होती है.

रिपोर्ट- राकेश कुमार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखीसराय से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 30, 2019, 2:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...