Home /News /bihar /

विधानसभा चुनाव 2020 में चुनाव खर्च के नाम पर करोड़ों रु. की बंदर बांट, भ्रष्टाचार छिपाने की हो रही कोशिश!

विधानसभा चुनाव 2020 में चुनाव खर्च के नाम पर करोड़ों रु. की बंदर बांट, भ्रष्टाचार छिपाने की हो रही कोशिश!

मधेपुरा में चुनाव खर्च के नाम पर फर्जीवाड़े का मामला सामने आया है.

मधेपुरा में चुनाव खर्च के नाम पर फर्जीवाड़े का मामला सामने आया है.

Corruption in election expenditure: मधेपुरा में विधानसभा चुनाव 2020 के चुनावी खर्च में बड़े घोटाले का खुलासा न्यूज 18 ने किया था. आरोप था कि चुनाव संबंधी सामग्री सप्लाई करने वाली एजेंसियों ने 10 से 15 करोड़ का फर्जीवाडा करने का प्रयास किया था. इसके लिए कई फर्जी बिल भी लगाए गए थे.

अधिक पढ़ें ...

मधेपुरा. चुनाव को लोकतंत्र का महापर्व कहा जाता है. इस पर्व को संपन्न कराने में करोड़ों-अरबों खर्च होते हैं. लेकिन, भ्रष्ट अधिकारियों व ठेकेदारों की मिलीभगत से लोकतंत्र का यह पर्व लूट पर्व में बदल रहा है.  इससे सम्बंधित खबर न्यूज 18 ने 21-22 जुलाई को प्रमुखता से सामने लाया था. मामला विधानसभा चुनाव 2020 से जुड़ा है. इस चुनाव में सिर्फ एक वेंडर का 10 में से करीब 7 करोड़ रुपया जिला प्रशासन ने यह कहते हुए काटा था कि उसने कई फर्जी बिल दिए, और जो समान दिया वो भी संख्या और गुणवत्ता मानक पर नहीं थे. जिला निर्वाचन कार्यालय द्वारा संबंधित वेंडर को अग्रिम भुगतान राशि में से भी करीब 15 लाख रुपये से अधिक की राशि तीन दिनों के भीतर जमा करने का आदेश दिया था. लेकिन, संबंधित वेंडर ने 21-22 जुलाई तक यह राशि जमा नहीं की. जिला प्रशासन के अधिकारी भी चुनाव में हुए खर्च सम्बंधित जानकारी देने से बचते रहे थे. लेकिन, न्यूज 18 की खबर के बाद जब सामाजिक और आरटीआई कार्यकर्ता ने इससे सम्बंधित सूचना मांगी तो उन्हें भी पूरी जानकारी नहीं दी गयी. हालांकि न्यूज 18 की खबर के बाद दी गयी सूचना में इतना जरूर बताया गया कि संबंधित वेंडर विजय श्री प्रेस, सहरसा द्वारा 15, 37, 026 रुपये जमा करवा दिया गया है.

क्या था मामला?
मधेपुरा जिला के 4 विधानसभा में 2020 में चुनाव में फर्जी बिल के आधार पर सरकार और प्रशासन को करोड़ों का चूना लगाने का प्रयास सामने आया था. चुनाव सामग्री के क्रय और आपूर्ति में जम कर गड़बड़ी की गयी थी. 12 रुपये की मोमबत्ती 29 रुपये में खरीदी गयी तो 35 का झाड़ू 98 में सप्लाई किया गया था.
कई सामान तो ऐसे थे जिसके दाम से अधिक किराया दे दिया गया. इतना ही नहीं कई समान एमआरपी से अधिक पर सप्लाई किया गया था. न्यूज 18 ने इस घोटाले का उजागर निर्वाचन विभाग के पत्र ज्ञापक 298 दिनांक 13/4/21 और चुनाव सामग्री सप्लाय के लिए हुए टेंडर के रेट चार्ट के आधार पर किया था. जिला प्रशासन ने अपनी जांच में सप्लायर विजय श्री प्रेस के 9 विपत्र को फर्जी भी पाया था. पत्र के मुताबिक उसके द्वारा 103234100 का बिल समर्पित किया गया था. जब इसकी जांच करवाई गयी तो पता चला कि इसमें भी 36810592 रुपये का ही बिल ही बनता है, जबकि एजेंसी को पूर्व के डीएम ने ही 2 करोड़ 95 लाख एडवांस कर दिया था. ऐसे में जीएसटी आदि कटौती के बाद 1537026 रुपये एजेंसी को तीन दिनों के भीतर जमा करने का आदेश दिया गया था,  लेकिन एजेंसी ने 22 जुलाई तक जमा नहीं किया था.

आरटीआई से सामने आया न्यूज 18 के खबर का असर
मधेपुरा में विधानसभा चुनाव 2020 के चुनावी खर्च में बड़े घोटाले का खुलासा न्यूज 18 ने किया था. आरोप था कि चुनाव संबंधी सामग्री सप्लाई करने वाली एजेंसियों ने 10 से 15 करोड़ का फर्जीवाडा करने का प्रयास किया था. इसके लिए कई फर्जी बिल भी लगाए गए थे. जिस बिल के बारे में अधिकारी मीडिया में बताने से बचते रहे न्यूज 18 पर खबर चलने के बाद जब पटना के एक आरटीआई कार्यकर्ता महेंद्र यादव ने इसकी सूचना मांगी तो उन्हें भी इसकी पूरी जानकारी नहीं दी गई. आरटीआई कार्यकर्ता ने न्यूज़ 18 पर चली खबर के बाद दो आरटीआई मधेपुरा जिले में और कई अन्य जिलों में भी लगाया था. मधेपुरा जिला निर्वाचन कार्यालय से उन्हें 22 सितम्बर को ई मेल पर सूचना दी गई जिसमें बताया गया कि मेसर्स विजय श्री प्रेस द्वारा 1537026 रूपया जमा करा दिया गया है. लेकिन देर होने पर उसके विरुद्ध हुई कार्रवाई के सम्बन्ध में कोई जानकारी नहीं दी गयी. ऐसे में अपील में जाने की भी बात कही.

Tags: Bihar assembly election 2020, Bihar News, Corruption case, Fraud, Fraud case, Madhepura news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर