Home /News /bihar /

नेता जी को महंगी पड़ी भैंसे की सवारी, पंचायत चुनाव में पर्चा भरने के बाद दर्ज हुई FIR

नेता जी को महंगी पड़ी भैंसे की सवारी, पंचायत चुनाव में पर्चा भरने के बाद दर्ज हुई FIR

बिहार के मधेपुरा में पंचायत चुनाव के लिए नामांकन करने भैंसा से पहुंचा प्रत्य़ाशी

बिहार के मधेपुरा में पंचायत चुनाव के लिए नामांकन करने भैंसा से पहुंचा प्रत्य़ाशी

Bihar Panchayat Elections: बिहार के मधेपुरा जिले में एक प्रत्याशी पंचायत चुनाव के दौरान नामांकन के लिए भैंसे पर सवार होकर नामांकन पर्चा दाखिल करने पहुंचा. मुखिया प्रत्याशी अशोक कुमार मेहता के खिलाफ पशु क्रूरता अधिनियम -1960 की धारा 11 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है.

अधिक पढ़ें ...

मधेपुरा. बिहार में हो रहे पंचायत चुनाव (Bihar Panchayat Election) के दौरान अलग-अलग रंग देखने को मिल रहे हैं. नेता जी मतदाताओं को रिझाने के लिए क्या-क्या नहीं करते, लेकिन इस बार नेता जी को नामांकन के दौरान नाटक महंगा पड़ गया. बीते 6 अक्टूबर को जिले के कुमारखंड प्रखंड कार्यालय में मुखिया पद के लिए नामांकन को आए एक प्रत्याशी को भैंसे की सवारी करनी इस कदर महंगी पड़ी कि मामला केस तक जा पहुंचा है. भैंसे पर सवार होकर प्रखंड निर्वाचन कार्यालय पहुंचने के कारण प्रखंड निर्वाची पदाधिकारी ने प्रत्याशी के खिलाफ पशु क्रूरता अधिनियम के तहत कुमारखंड थाना में मामला दर्ज कराया है.

मधेपुरा जिले में पंचायत चुनाव के छठे चरण के लिए कुमारखंड में नामांकन चल रहा था. नामांकन के बीच जहां प्रत्याशी स्कॉर्पियो, थार और फॉर्च्यूनर जैसे वाहनों पर सवार होकर सैकड़ों समर्थकों के साथ नामांकन पर्चा दाखिल करने प्रखंड कार्यालय पहुंचते हैं. वहीं कुमारखंड प्रखंड अंतर्गत इसराइन बेला पंचायत से मुखिया प्रत्याशी अशोक कुमार मेहता भैंसा पर सवार होकर प्रखंड निर्वाचन कार्यालय पहुंचे. उनका भैंसे पर सवार होना आकर्षण का केंद्र बना. मीडिया ने भी इस खबर को सुर्खियां दी, लेकिन प्रशासन को यह नागवार गुजरा. अनुमंडल पदाधिकारी नीरज कुमार ने खबर पर संज्ञान लेते हुए मुखिया प्रत्याशी अशोक कुमार मेहता पर पशु क्रूरता अधिनियम -1960 की धारा 11 के तहत एफआईआर करने का आदेश दिया.

क्या है कानून

पशु क्रूरता निवारण अधिनियम (पीसीए), 1960 को इस उद्देश्य से बनाया गया कि जानवरों को अनावश्यक कष्ट से न गुजरना पड़े. इसकी धारा 11 स्पष्ट करती है कि परिवहन के दौरान किसी भी जानवर को नुकसान पहुंचाना एक अपराध है. इस अधिनियम के तहत खचाखच भरे वाहनों में मवेशियों को बांधना भी गैर-कानूनी है. और तो और किसी भी हानिकारक चीज का इंजेक्शन देना और जहरीला खाना परोसना भी गैर-कानूनी है. इस धारा के तहत ऐसा काम करने वाले को 100 रुपए या इससे अधिक के अर्थदंड से लेकर तीन महीने की कारावास की सजा का प्रावधान है.

Tags: Bihar election, Bihar News, Bihar Panchayat Election

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर