होम /न्यूज /बिहार /जेल में बना प्लान,2.5 लाख में दी सुपारी,पढ़ें अवैध संबंध में बाधा बने RJD नेता के मर्डर की कहानी

जेल में बना प्लान,2.5 लाख में दी सुपारी,पढ़ें अवैध संबंध में बाधा बने RJD नेता के मर्डर की कहानी

बिहार के मधेपुरा में हुई राजद नेता की हत्या का खुलासा करती पुलिस

बिहार के मधेपुरा में हुई राजद नेता की हत्या का खुलासा करती पुलिस

Madhepura RJD Leader Murder Case: बिहार के मधेपुरा में शूटरों ने 24 जनवरी को राजद नेता सह पूर्व मुखिया की दिनदहाड़े गोल ...अधिक पढ़ें

मधेपुरा. बिहार की मधेपुरा पुलिस ने उदाकिशुनगंज अनुमंडल मुख्यालय के फुलौत चौक पर नर्सिंग होम संचालक सह राजद नेता (RJD Leader Murder In Bihar) और पूर्व मुखिया लाल यादव की हत्या की गुत्थी सुलझा ली है. दिनदहाड़े हुई हत्या की घटना के 7 दिन बाद पुलिस ने सभी आरोपियों को धर दबोचा. मधेपुरा (Madhepura) एसपी राजेश कुमार ने प्रेस वार्ता आयोजित कर परत दर परत पूरे मामले का खुलासा कर दिया. एसपी राजेश कुमार ने बताया कि लाल यादव खुद एक दबंग व्यक्ति थे और उनकी जनता में भी अच्छी पकड़ थी, यही उनके हत्या की वजह बनी.

एसपी ने बताया कि लाल यादव के रहते इलाके के कई अपराधी प्रवृत्ति के लोगों को मनमानी करने में परेशानी होती थी. हत्या को अंजाम देने वाले आरोपी अजीत मेहता से उनका पुराना विवाद था. अजीत मेहता का गांव के ही एक महिला से अवैध संबंध था जिसका लाल विरोध करते थे. उन्होंने इससे संबंधित थाने में शिकायत भी दर्ज कराई गई थी. आरोपी अजीत मेहता बीते कई माह से लाल यादव को अपने रास्ते से हटाने के लिए उनकी हत्या का साजिश रच रहा था. इसके लिए उसने सियाराम मेहता सहित कुछ अपराधियों को उनकी हत्या की सुपारी दी थी.

इसके लिए सियाराम मेहता द्वारा 3 लाख रुपये का डिमांड किया गया था, लेकिन अजीत इतना देने को तैयार नहीं था. बाद में इस मामले में इलाके के कुख्यात अपराधी विक्की मेहता की भी इंट्री हुई. विक्की कई महीनों से जेल में बंद है. उसकी भी लाल यादव से अच्छी नहीं बन रही थी. अजीत के कहने पर विक्की मेहता ने शूटरों से संपर्क करके ढाई लाख में हत्या का डील फाइनल की. जिसके बाद शूटरों ने 24 तारीख को दिनदहाड़े इस घटना को अंजाम दिया.

एसपी ने बताया कि घटना के बाद परिवार के लोग दहशत में थे. इसी कारण कई दिनों तक एफआईआर तक नहीं कराए. राजनितिक व्यक्ति होने के कारण लगातार लाल यादव की हत्या के बाद से लगातार धरना-प्रदर्शन से भी पुलिस को विधि व्यवस्था की समस्या से जूझना पड़ रहा था, ऐसे में मामले का उद्भेदन पुलिस के लिए चुनौती बनती जा रही थी. पुलिस अपने सूत्र और वैज्ञानिक अनुसंधान के सहारे अपराधी तक पहुंच चुकी थी. जिसके बाद उदाकिशुनगंज थानाध्यक्ष के बयान पर मामला दर्ज कर अपराधियों की धरपकड़ की गई है.

एसपी ने बताया कि इस मामले में प्रयुक्त एक देसी कट्टा और गोली भी पुलिस ने बरामद किया है, साथ ही दो शूटरों को गिरफ्तार भी कर लिया गया है. हत्या की इस घटना में शामिल अन्य अपराधियों  की भी गिरफ्तारी जल्द कर ली जाएगी.

Tags: Bihar News, Crime In Bihar, Murder

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें