• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • बीएन मंडल यूनिवर्सिटी में एक गुमनाम पर्ची मिलने से हड़कंप

बीएन मंडल यूनिवर्सिटी में एक गुमनाम पर्ची मिलने से हड़कंप

ETV Image

बीएन मंडल विश्वविद्यालय में एक गुमनाम पर्ची ने कोहराम मचा दिया है. पर्ची पर दी गई सूचना की जब कुलपति के आदेश पर प्रतिकुलपति ने जांच की तो चौकाने वाले तथ्य सामने आए.

  • Share this:
बीएन मंडल विश्वविद्यालय में एक गुमनाम पर्ची ने कोहराम मचा दिया है. पर्ची पर दी गई सूचना की जब कुलपति के आदेश पर प्रतिकुलपति ने जांच की तो चौकाने वाले तथ्य सामने आए. पूर्व कुलपति के कार्यकाल में छपवाए गए लाखों नॉन टियरेबल सर्टिफिकेट और मार्कशीट राद्दी बन कर रह गया है, जिसपर लगभग ढ़ाई करोड़ रुपए विश्वविद्यालय का खर्च हुआ था.

बीएन मंडल विश्वविद्यालय में एक गुमनाम पर्ची ने परीक्षा विभाग का पोल खोलकर रख दिया है. बीएन मंडल विश्वविद्यालय बिहार का पहला ऐसा विश्वविद्यालय है, जो नॉन टियारेबल मार्कशीट और प्रमाणपत्र प्रदान करता है. बताया जाता है कि यह प्रमाणपत्र न पानी में गलता है न इसे फाड़ा जा सकता है.

पूर्व कुलपति के कार्यकाल में पिछले वर्ष दीक्षांत समारोह के वक्त इस प्रमाणपत्र को उपयोग में लाया गया था. उसी समय 2010 से 2014 तक के छात्रों का भी अंकपत्र और मूल प्रमाणपत्र नॉन टियरेबल बनवाया गया. इसके बाद प्रिंटिंग में काफी गड़बड़ी है. किसी में छात्र का नाम गलत है तो किसी में कॉलेज का नाम और स्थान.

प्रतिकुलपति की माने तो जो प्रमाणपत्र छपवाए गए हैं उसका वैसे भी अधिक उपयोगिता नहीं रह गया था. क्योकि अधिकांश छात्र अपना मार्कशीट ले चुके हैं. परीक्षा नियंत्रक की माने तो जिस कंपनी को प्रमाणपत्र और मार्कशीट बनाने का ठेका दिया गया है वह इस गड़बड़ी को दूर करेंगे.

छात्र नेता और सामाजिक कार्यकर्ता इसे वित्तीय अनियमितता और पैसे के घोटाले से जोड़ कर देखते हैं. जब प्रति-कुलपति से पूछा गया कि क्या यह वित्तीय अनियमितता नहीं है, तो वे सवाल को टाल गए.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज