लाइव टीवी

मुखिया रहते JDU MLA ने लिया एक लाख का 'नजराना', ऑडियो हो रहा है वायरल

TURBASU | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: November 23, 2017, 3:54 PM IST

बिहार के मधेपुरा के बिगरिगंज से जदयू विधायक निरंजन मेहता का इन दिनों एक ऑडियो क्लिप काफी वायरल हो रहा है. जदयू विधायक पर मुखिया रहते पंचायत में नौकरी दिलाने के नाम पर एक लाख 10 हजार रुपये लेने का आरोप लगाया गया है.

  • Share this:
बिहार के मधेपुरा के बिगरिगंज से जदयू विधायक निरंजन मेहता का इन दिनों एक ऑडियो क्लिप काफी वायरल हो रहा है. जदयू विधायक पर मुखिया रहते पंचायत में नौकरी दिलाने के नाम पर एक लाख 10 हजार रुपये लेने का आरोप लगाया गया है.

आरोप लगाने वाले नंद मेहता का कहना है कि उसने ये रुपये विधानसभा चुनाव से लगभग 6 माह पहले दिये थे. जब नौकरी नहीं हुई तो वे कई बार विधायक जी से रुपये मांगने गए लेकिन विधायक जी उन्हें दुत्कार दिया.

इस संबंध में जब विधायक निरंजन मेहता से बात कि गई तो उन्होंने आरोप को विरोधियों की साजिश करार दे दिया. उन्होंने कहा कि जारी ऑडियो क्लिप में कहीं भी नौकरी देने-दिलाने की बात नहीं है. उन्होंने आरोप लगाने वाले को पहचानने तक से इनकार कर दिया है.

उधर, जनअधिकारी पार्टी के नेता और सासंद पप्पू यादव ने पूरे मामले की जांच कराने की मांग की है.

पूरे ऑडियो क्लिक का ट्रांसक्रिप्ट इस प्रकार है...

विधायक -- इतना नाटक करते हैं. यहां झरता है पैसा. सुन लीजिये.लफुआ नय बइठल है. उधर घसक के बैठिये. यहां शुरू से आपको लाइन पर हम चढाये हैं. चाहे डीपीओ हो या कलेक्टर हो मधेपुरा में लाइन पर आपको हम चढाये हैं. नरेंद्र बाबू भी आपको मदद किये हैं. पैसा आपसे मांगने नहीं गए थे.आप पैसा फेक के चले गये. आपका पैसा का कहानी क्या हुआ सुन लीजिए. पैसा आप हमको दिए ,आपका वाजिब बात है. उसके बाद आप बोले कि इतना पैसा ऐसे ऐसे करेंगे. तीस हजार हमको वापस कर दीजिए तो हम पच्चीस हजार आपको वापस कर दिए.

पीड़ित -- हम पूरा पैसा वापस मांग रहे थे.
Loading...

विधायक -- चुप रहिये .
पीड़ित -- सुनिए न सर ......
विधायक--चुप रहिये. उसके बाद हम एक बजरंगबली का मंदिर बनवा रहे थे. उसमे यही बोला कि हम उसमे प्लास्टर करवा देते हैं. इस पर हम बोले कि इसमें ज्यादा पैसा खर्च होगा तब भी यह करवाने के लिए तैयार हो गया .
पीड़ित -- सर हम एक हजार बोले थे.
विधायक --चुप रहिये .
पीड़ित -- सर अब केस हो गया है ।विधायक -- केस हो गया तो हम क्या करें ? पैसा वापस नही मिलेगा. कर्जा नय धारतें हैं किसी का
पीड़ित -- केस जो हो गया हाईकोर्ट में एक्को पैसा घर मे नही हैं.
विधायक -- पहले भी आपको दिए।अब पैसा जो आप दिए उ रखल नय न है ।उसमें समय लगेगा.निकालेंगे तब देंगे. निरंजन मेहता शुद्ध आदमी है.
पीड़ित - केस जो घर मे हो गया न एक रुपया घर मे नही है.
विधायक-- आपको पहले हम 10--10 हजार करके तीस हजार देंगे ।तब आप हम पर पंचायती बेठाइये गा.
पीड़ित -- हम पंचायती में नही पड़ेंगे ।सर केस हो गया है ।कैसे केस लड़ेंगे ।आठ दिन के अंदर में दस हजार भी दे दीजियेगा न सर तो बहुत मदद होगा.
विधायक --हां दे देंगे चलिए.जाइये
पीड़ित --ठीक है सर तब.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मधेपुरा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 23, 2017, 12:35 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...