Bihar Chunav: तेजस्वी के खिलाफ तीखे 'बाण', मगर इस कांग्रेस प्रत्याशी पर मेहरबान रहे नीतीश

मधेपुरा की बिहारीगंज विधानसभा सीट पर चुनावी सभा में शरद यादव की बेटी कांग्रेस प्रत्याशी सुभाषिनी यादव के खिलाफ सीएम नीतीश कुमार कुछ नहीं बोले. (फोटो साभारः ECI/Twitter)
मधेपुरा की बिहारीगंज विधानसभा सीट पर चुनावी सभा में शरद यादव की बेटी कांग्रेस प्रत्याशी सुभाषिनी यादव के खिलाफ सीएम नीतीश कुमार कुछ नहीं बोले. (फोटो साभारः ECI/Twitter)

Bihar Election: संयत बोली के लिए पहचाने जाने वाले नीतीश कुमार (Nitish Kumar) 2020 के चुनाव में आरजेडी और तेजस्वी यादव (Tejashwi yadav) के खिलाफ तो तीखे हमले करते रहे हैं, मगर अपने पुराने सहयोगी शरद यादव (Sharad Yadav) की बेटी के खिलाफ मुखर नहीं हुए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 5, 2020, 1:19 PM IST
  • Share this:
मधेपुरा. 2020 के विधानसभा चुनाव के आखिरी चरण के मतदान (Bihar Chunav Voting) के लिए चुनाव प्रचार का आज आखिरी दिन है. इस चुनाव को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के तीखे और तेवरदार भाषणों के लिए भी याद रखा जाएगा. बिहार की सियासत को जानने वाले जानते होंगे कि साल 2014 में नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करने के बाद बीजेपी (BJP) से नाराज होकर एनडीए से गठबंधन तोड़ने वाले नीतीश कुमार, 2015 के विधानसभा चुनाव में भी पीएम मोदी के खिलाफ उतने 'तीखे' नहीं हुए थे, जितने कि इस साल के उनके चुनावी भाषण दिखते हैं. खासकर आरजेडी (RJD) के सीएम कैंडिडेट तेजस्वी यादव (Tejashwi yadav) के खिलाफ. लेकिन इन भाषणों के बीच भी नीतीश कुमार अपने पुराने सहयोगियों पर 'मौन' हैं. इसका नजारा बीते दिनों मधेपुरा की बिहारीगंज विधानसभा सीट (Bihariganj Assembly) पर उनके चुनावी भाषण में दिखा.

इसी हफ्ते की शुरुआत में बीते सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहारीगंज विधानसभा सीट पर एक रैली को संबोधित करने पहुंचे थे. यहां दिग्गज समाजवादी नेता शरद यादव (Sharad Yadav) की बेटी सुभाषिनी यादव कांग्रेस के टिकट पर (INC Candidate Subhashini Yadav) मैदान में है . लेकिन कुमार ने अपने पूर्व पार्टी सहयोगी तथा उनकी बेटी के खिलाफ कुछ भी बोलने से परहेज किया. नीतीश कुमार ने बिहारीगंज निर्वाचन क्षेत्र के उदाकिशुनगंज प्रखंड के एसबीजे हाईस्कूल में एक रैली को सोमवार को संबोधित किया, जहां से उनकी पार्टी के टिकट पर निरंजन मेहता, सुभाषिनी यादव एवं अन्य के खिलाफ चुनावी मैदान में हैं.

मधेपुरा जिले की बिहारीगंज सीट पर आगामी 7 नवंबर को अंतिम चरण में मतदान होगा. अपने भाषण में नीतीश कुमार ने राज्य में अपनी सरकार की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए अपने मुख्य प्रतिद्वंद्वी पार्टी राजद पर तीखा हमला भी किया, लेकिन शरद यादव या उनकी बेटी के खिलाफ कुछ भी कहने से बचते रहे. पहली बार बिहार विधानसभा चुनाव में उतरकर राजनीति में कदम रखने वाली सुभाषिनी यादव ने कहा है कि वह अपने पिता की राजनीतिक विरासत को बचाने के लिए चुनावी मैदान में उतर रही हैं.



Bihar Assembly elections 2020, बिहार विधानसभा चुनाव 2020, Bihar Vidhan Sabha Chunav, Bihar Chunav, बिहार चुनाव, Nitish Kumar, नीतीश कुमार, Sharad Yadav, शरद यादव, Subhashini Yadav, सुभाषिनी यादव, SUBHASHINI BUNDELA
पूर्व सांसद शरद यादव और नीतीश कुमार पुराने सहयोगी रहे हैं. (फाइल फोटो)

उदाकिशुगंज की सभा में नीतीश कुमार ने राजद के शासन काल को "जंगल राज" बताया. लोगों को याद दिलाया कि 2005 में राज्य की बागडोर संभालने वाली राजग सरकार के कार्यकाल में प्रदेश में कानून और व्यवस्था की स्थिति में काफी हद तक सुधार हुआ है. आरजेडी के खिलाफ नीतीश अपने उसी तेवर में दिखे, जिसकी बानगी लोगों ने पिछले दो चरणों के चुनाव प्रचार में देखी है. उन्होंने अपनी पार्टी के उम्मीदवार के समर्थन में मतदाताओं से वोट डालने की अपील भी की, लेकिन सुभाषिनी यादव उनके हमलों से अछूती रहीं. (इनपुट- भाषा)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज