मधुबनी में ईंट भट्ठा परिसर में कारोबारी की हत्या, अपराधियों ने सिर में उतारीं तीन गोलियां
Madhubani News in Hindi

मधुबनी में ईंट भट्ठा परिसर में कारोबारी की हत्या, अपराधियों ने सिर में उतारीं तीन गोलियां
मधुबनी में कारोबारी की हत्या के बाद मामले की जांच को पहुंची पुलिस

मधुबनी (Madhubani) में हुई इस हत्या (Murder) के बारे में कहा जा रहा है कि साल 2006 में लौकहा थाना इलाके में जगतनारायण यादव नामक शख्स की हत्या हुई थी जिसमें मृतक जयनारायण यादव समेत 21 लोग नामजद थे.

  • Share this:
मधुबनी. मधुबनी (Madhubani) में बेखौफ बदमाशों ने दिनदहाड़े 45 वर्षीय शख्स की गोली मारकर हत्या (Murder) कर दी. घटना नेपाल बॉर्डर से सटे लौकहा थाना इलाके स्थित अंधारबन गांव की है. लौकहा थाना क्षेत्र के रामपुर गांव निवासी जयनारायण यादव रुपए के लेन-देन के कारोबार से जुड़ा था और शनिवार को अपने कारोबार के सिलसिले में ही अंधारबन गांव के पास ईंट भट्ठा परिसर में पहुंचा था जहां अज्ञात बदमाशों ने जयनारायण यादव की हत्या कर दी.

चिमनी परिसर में हुई हत्या

परिजनों के मुताबिक जिस चिमनी परिसर में जयनारायण यादव की हत्या हुई है,उस चिमनी के 2 पार्टनर हैं राजेंद्र यादव और उमेश रान. बताया जा रहा है कि इन दोनों पार्टनर का जयनारायण यादव के साथ रुपए का लेन-देन था. परिजनों का कहना है कि चिमनी में करीब 90 लाख रुपया जयनारायण यादव का लगा था .मृतक की पत्नी के मुताबिक शनिवार दोपहर किसी ने फोन करके कहा था कुछ रुपये लेकर चिमनी पर आने को, जिसके बाद 5 लाख रुपये लेकर जयनारायण यादव चिमनी परिसर पहुंचा था जहां अज्ञात बदमाशों ने उसे मौत के घाट उतार दिया.



पत्नी खाने पर कर रही थी इंतजार
बताया जा रहा है कि घर से निकलते वक्त कारोबारी ने पत्नी से कहा था दिन के खाने में मटन बनाकर रखना,मैं तुरंत काम निपटाकर लौटता हूं फिर खाना खाने के बाद झंझारपुर जाना है लेकिन कारोबारी के जाने के कुछ ही देर बाद उसकी हत्या की खबर आई. घटना के बाद से मृतक की पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल है.

मर्डर के पुराने मामले से जुड़ा था कारोबारी

कारोबारी के सिर में तीन गोलियां मारी गई हैं साथ ही किसी धारदार हथियार से सिर पर हमला भी किया गया है. परिजनों ने आपसी रंजिश के चलते हत्या की आशंका जताई है. जानकारी के मुताबिक साल 2006 में लौकहा थाना इलाके में जगतनारायण यादव नामक शख्स की हत्या हुई थी जिसमें जयनारायण यादव समेत 21 लोग नामजद थे. बताया जा रहा है कि हत्या के उस मामले में वर्षों जेल में रहने के बाद जयनारायण यादव की रिहाई हुई थी ऐसे में शनिवार को हुई वारदात के तार को कहीं न कहीं साल 2006 में हुई हत्या से भी जोड़कर देखा जा रहा है.

पुलिस को नहीं मिल रहा चश्मदीद

हालांकि ये सब बस अनुमान है, तफ्तीश जारी है. पुलिस फिलहाल किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है. वारदात के बाद मौके पर पहुंचे लौकहा थाना प्रभारी धनंजय कुमार का कहना है कि - "पुलिस इस मामले में लूटपाट और आपसी दुश्मनी,दोनों ही एंगल से जांच कर रही है". पुलिस के मुताबिक वारदात के वक्त चिमनी परिसर में 50-60 की संख्या में मजदूर मौजूद थे लेकिन लॉकडाउन के चलते बताया जा रहा है कि चिमनी में कामकाज बंद था इसलिए सभी मजदूर अपने कमरे में थे लिहाजा कोई चश्मदीद नहीं मिल पाया है. हालांकि घटनास्थल के पास से दो लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है वहीं मौके से 3 खोखा भी बरामद हुए हैं जिससे कुछ सुराग मिलने की उम्मीद है.

ये भी पढ़ें- 17 हजार से अधिक प्रवासियों को लेकर आज बिहार पहुंचेंगी 14 स्पेशल ट्रेन, सबसे अधिक पंजाब से

ये भी पढ़ें- COVID-19 UPDATE: बिहार में जमुई छोड़कर 37 जिले कोरोना से प्रभावित, संक्रमितों का आंकड़ा पहुंचा 611
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज