मधुबनी रेलवे स्टेशन पर बनी इस फिल्म को मिला राष्ट्रीय पुरस्कार

फिल्म को 'बेस्ट नैरेशन' श्रेणी में राष्ट्रीय पुरस्कार के लिए चुना गया है. फिल्म में मधुबनी रेलवे स्टेशन पर स्थानीय कलाकारों द्वारा किए गए मिथिला पेंटिंग को दर्शाया गया है.

News18 Bihar
Updated: August 13, 2019, 4:44 PM IST
मधुबनी रेलवे स्टेशन पर बनी इस फिल्म को मिला राष्ट्रीय पुरस्कार
बिहार का मधुबनी रेलवे स्टेशन
News18 Bihar
Updated: August 13, 2019, 4:44 PM IST
साफ-सफाई और खूबसूरती के मामले में देश भर में दूसरे स्थान पर काबिज बिहार का मधुबनी (Madhubani) रेलवे स्टेशन पिछले डेढ़ साल से सुर्खियों में है. अभी हाल ही में मधुबनी रेलवे स्टेशन (Railway Station) की साफ-सफाई और सजावट पर आधारित फिल्म 'मधुबनी: द स्टेशन ऑफ कलर्स' को राष्ट्रीय फिल्म (National Film) पुरस्कार के लिए चुना गया है.

रेल मंत्री ने किया ट्वीट

मधुबनी रेलवे स्टेशन से जुड़ी फिल्म को राष्ट्रीय पुरस्कार (National Prize) के लिए चुने जाने पर रेल मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने भी ट्वीट के जरिए खुशी जताई है, वहीं मधुबनी के रहने वाले आमलोग भी इस उपलब्धि पर काफी खुश हैं. उन्हें अपने रेलवे स्टेशन की खूबसूरती और साफ-सफाई पर नाज है.

मधुबनी पेंटिंग पर बनी थी फिल्म

'मधुबनी: द स्टेशन ऑफ कलर्स' फिल्म की बात करें तो जुलाई 2018 में समस्तीपुर रेल मंडल के तत्कालीन डीआरएम आरके जैन की पहल पर पूरे स्टेशन परिसर में मिथिला पेंटिंग के बाद सुलभ इंटरनेशनल के संस्थापक डॉ. विंदेश्वर पाठक के सहयोग से शार्ट डॉक्यूमेंटरी फिल्म बनाई गयी थी. इस फिल्म के क्रिएटिव और एक्टिंग डायरेक्टर कमलेश मिश्रा हैं.

मधुबनी स्टेशन की पेंटिंग
बिहार के मधुबनी रेलवे स्टेशन पर की गई पेंटिंग


बेस्ट नैरेशन की श्रेणी में मिला था पुरस्कार
Loading...

फिल्म को 'बेस्ट नैरेशन' श्रेणी में राष्ट्रीय पुरस्कार के लिए चुना गया है. फिल्म में मधुबनी रेलवे स्टेशन पर स्थानीय कलाकारों द्वारा किए गए मिथिला पेंटिंग को दर्शाया गया है. मधुबनी के जिलाधिकारी शीर्षत कपिल आलोक का कहना है कि 'मधुबनी: द स्टेशन ऑफ कलर्स' का सम्मान न सिर्फ मधुबनी बल्कि पूरे बिहार का सम्मान है और ये सारा कुछ संभव हो पाया है मधुबनी के कलाकारों की दिन-रात की मेहनत की बदौलत.

मायूस हैं कलाकार

स्टेशन परिसर को अपनी पेंटिंग से सजाने संवारने वाले कलाकारों में भी 'मधुबनी: द स्टेशन ऑफ कलर्स' फिल्म को राष्ट्रीय सम्मान के लिए चुने जाने पर खुशी है लेकिन इन कलाकारों में थोड़ी मायूसी भी है. कलाकारों का कहना है कि स्टेशन का सम्मान हुआ. स्टेशन की सुंदरता पर आधारित फिल्म को भी अवॉर्ड के लिए चुना गया लेकिन श्रमदान के जरिए स्टेशन को सजाने वाले अधिकांश कलाकारों को व्यक्तिगत तौर पर कोई सम्मान नहीं मिला.

रिपोर्ट- अमित रंजन

ये भी पढ़ें- कुदाल और फावड़े से काटा पहाड़ फिर बना डाली दो किमी सड़क

ये भी पढ़ें- बिहार में टूट के कगार पर महागठबंधन ! कांग्रेस भी नाराज
First published: August 13, 2019, 3:20 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...