Bisfi Seat Election Result 2020: बिस्फी से BJP प्रत्याशी हरिभूषण ठाकुर की जीत

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Election Result 2020) में कवि कोकिल विद्यापति की जन्मस्थली बिस्फी विधानसभा (Bisfi Assembly Seat) से बीजेपी प्रत्याशी उम्मीदवार हरिभूषण ठाकुर ने जीत दर्ज की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 10, 2020, 10:45 PM IST
  • Share this:
मधुबनी. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Election Result 2020) में कवि कोकिल विद्यापति की जन्मस्थली बिस्फी विधानसभा (Bisfi Assembly Seat) से बीजेपी प्रत्याशी उम्मीदवार हरिभूषण ठाकुर ने जीत दर्ज की है. उन्होंने आरजेडी उम्मीदवार फैयाज अहमद को 10241 मतों के अंतर से हराया.

बिहार की चुनावी राजनीति में मधुबनी जिले का महत्‍वपूर्ण स्‍थान है. मधुबनी (Madhubani) संसदीय क्षेत्र में विधानसभा की 10 सीटें हैं, ऐसे में हर राजनीतिक दल की इस क्षेत्र पर नजर रहती है. ऐसे में बिस्फी विधानसभा का भी खासा महत्व है. कवि कोकिल विद्यापति की जन्मस्थली के तौर पर मशहूर इस विधानसभा पर सभी राजनीतिक पार्टियों की नजर बनी हुई है. यहां से राष्ट्रीय जनता दल से फैयाज अहमद मौजूदा विधायक हैं. इस बार के विधानसभा इलेक्‍शन में भी सत्‍तारूढ़ और विपक्षी दलों की इस संसदीय क्षेत्र पर नजर है. सभी राजनीतिक पार्टियां यहां ज्‍यादा से ज्‍यादा सीटें जीतने की कोशिश में रहती हैं, ताकि बिहार की राजनीति में अपना असर छोड़ सकें.

CPI और RJD का रहा बोलबाला
बिस्फी विधानसभा के चुनावी इतिहास की बात करें तो देश भर में दक्षिणपंथी राजनीति के उभार के बावजूद यहां पहले कांग्रेस जीतती रही और बाद के दिनों में CPI और RJD का ही बोलबाला रहा. एक दौर तक यहां कांग्रेस के कद्दावर नेता और दल के भीतर अल्पसंख्यक वोटों का समीकरण साधने वाले डॉ. शकील अहमद दबदबा बनाए रहे. वहीं सीपीआई से राजकुमार पूर्वे ने यहां से साल 1980 में जीत दर्ज की. लेकिन आगे चलकर समीकरण बदले और साल 1995 में रामचंद्र यादव इसी सीट से विधायक चुने गए.
दो बार से फैयाज के हाथ में सीट


जिसके बाद बीते दो विधानसभा से RJD के फैयाज़ अहमद यहां से सीट अपने पाले में डालने में कामयाब रहे. बता दें कि 2010 के विधानसभा चुनाव में भी यहां से अहमद की जीत हुई  और इसके बाद 2015 में भी यही निर्वाचित होकर विधानसभा पहुंचे थे. मधुबनी जिले में आने वाली सभी विधानसभा में महिला वोटरों का दबदबा भी देखा जाता रहा है. ऐसा माना जाता रहा है कि यहां चाहे लोक सभा के चुना हों या फिर विधानसभा, महिला वोटर ही निर्णायक भूमिका निभाती चली आ रही हैं.

राजनीतिक महत्व
बता दें कि सांस्‍कृतिक रूप से समृद्ध मधुबनी संसदीय क्षेत्र में विधानसभा की 10 सीटें हैं. ऐसे में इस क्षेत्र के राजनीतिक महत्‍व का आसानी से अंदाजा लगाया जा सकता है. महागठबंधन और NDA के बीच ही मुख्‍य मुकाबला होने की उम्‍मीद है. चुनावों को देखते हुए राजनीतिक पार्टियां सीटों के हिसाब से विश्‍लेषण करना शुरू कर दिया है. इसके आधार पर ही चुनावी रणनीति भी बनाई जा रही है. इस बार का बिहार विधानसभा चुनाव (2020) कई मायनों में दिलचस्‍प रहने वाला है. पिछले बार प्रदेश का चुनाव जहां JDU और RJD ने मिलकर लड़ा था, वहीं इस बार दोनों दल एक-दूसरे के विरोधी खेमे में हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज