Home /News /bihar /

43 सालों से साम्प्रदायिक सौहार्द का प्रतीक है मुजफ्फरपुर का ये मजार

43 सालों से साम्प्रदायिक सौहार्द का प्रतीक है मुजफ्फरपुर का ये मजार

मजार पर चादरपोशी करते लोग

मजार पर चादरपोशी करते लोग

मजार की सबसे अहम बात यह कि इसके अध्यक्ष से लेकर संचालन करने वाले तक सभी हिंदू हैं. कमिटि के अध्यक्ष सहित महत्वपूर्ण सदस्य पिछले 43 सालों से हिन्दू समुदाय से आते हैं और एक साथ समाज के सभी धर्मों के लोग मजार पर चादरपोशी करते हैं.

    बिहार के मुजफ्फरपुर का दाता मुजफ्फरपुर शाह मजार पिछले 43 सालों से तिरहुत इलाके में साम्प्रदायिक सौहार्द का प्रतीक बन चुका है.

    नये साल के मौके पर पिछले 43 सालों की तरह इस बार भी इस मजार पर उर्स का आयोजन किया गया है. आयोजन में सभी धर्मों के लोग बढ़-चढ़कर भाग लेते हैं. देश के अमन चैन के लिए इस मजार पर समाज के विभिन्न वर्ग से जुड़े लोग चादरपोशी करते हैं और आपसी भाईचारा और सामाजिक सौहार्द के लिए दुआयें करते हैं.

    मजार की सबसे अहम बात यह कि इसके अध्यक्ष से लेकर संचालन करने वाले तक सभी हिंदू हैं. कमिटि के अध्यक्ष सहित महत्वपूर्ण सदस्य पिछले 43 सालों से हिन्दू समुदाय से आते हैं और एक साथ समाज के सभी धर्मों के लोग मजार पर चादरपोशी करते हैं.

    गौरतलब है फकीर मुजफ्फरपुर शाह के नाम पर ही मुजफ्फरपुर शहर का नाम पड़ा है. इस मजार की खासियत यह है कि यहां मुजफ्फरपुर सहित देश के दूसरे हिस्सों से भी किन्नरों की टोली चादरपोशी के लिए पहुंचती है.

    शहर के पुरानी बाजार रोड में मुख्य सड़क के बीचोबीच पड़ने वाले मजार के पास लोग अपनी मुरादें मांगने के लिए भी दुआ करते हैं. इस साल भी मजार की कमिटि में शामिल हिन्दू-मुसलमान और सिख ने एक साथ मिलकर देश में अमन चैन और समाजिक सौहार्द के लिए दुआयें की है.

    आपके शहर से (मुजफ्फरपुर)

    मुजफ्फरपुर
    मुजफ्फरपुर

    Tags: मुजफ्फरपुर

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर