छेड़छाड़ में भेजा था जेल, बाहर आया तो पीड़िता की बहन और भाई को मारा चाकू
Darbhanga News in Hindi

छेड़छाड़ में भेजा था जेल, बाहर आया तो पीड़िता की बहन और भाई को मारा चाकू
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में एक महिला ने छींटाकशी करने और पीछा करने वाले शख्स को कड़ा सबक सिखा दिया. वह शख्स उस महिला पर अक्सर छींटाकशी करता था और उसका पीछा करता था. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

दरभंगा में दबंग ने कर रखा है पूरे गांव को परेशान, पीड़िता के पिता ने युवती की पढ़ाई छुड़वा भेजा दूसरे गांव.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 8, 2019, 10:32 AM IST
  • Share this:
गांव का एक दबंग, हथियार रखना, लोगों को धमकाना और छेड़छाड़ उसका हर दिन का शगल. इसी बीच एक छात्रा पर उसकी नजर पड़ती है और वह उसका जीना हराम कर देता है. पहले तो बात फब्तियों तक थी लेकिन फिर घर में घुस कर बदतमीजी, जिसके बाद पुलिस में मामला दर्ज करवाया गया और युवक को जेल हो गई. इस बीच डरे पिता ने अपनी बेटी को रिश्तेदार के यहां दूसरे गांव भेज दिया, उसकी पढ़ाई छूट गई. युवक जेल से बाहर आया और उसने छात्रा की छोटी बहन और भाई को चाकू मार दिया.
यह कोई फिल्मी कहानी नहीं है, बिहार के दरभंगा जिले में स्थित सुपौल बाजार गांव में एक परिवार की व्यथा है. अब यह पिता अपने बच्चों की जान बचाने की गुहार लगा रहा है.

जेल से आया तो मचाया हल्ला
युवती को परेशान करने के बाद पीड़ित पिता ने आरोपी अमरेश साहनी के खिलाफ पहले पंचायत में शिकायत की. इसके बाद अमरेश गुस्सा गया और युवती के घर में घुसकर छेड़छाड़ व मारपीट की, इससे परेशान हुए पिता ने पुलिस में मामला दर्ज करवाया. पुलिस ने अमरेश को गिरफ्तार कर लिया. युवती का परिवार इतना डर गया कि उसे अपने रिश्तेदार के यहां दूसरे गांव भेज दिया. इसी बीच अमरेश जेल से छूट गया और गांव में पहुंचते ही युवती की तलाश की. जब वह नहीं मिली तो उसने फिर एक बार युवती के घर पर हमला बोल दिया. वह युवती के घर में घुसा और उसकी छोटी बहन और भाई को चाकू मारकर घायल कर दिया. दोनों को ही अस्पताल में भर्ती करवाया गया है.
पूरा गांव है परेशान
इस मामले में गांव की सरपंच के पति विनोद बंपर ने बताया कि अमरेश से पूरा गांव परेशान है. वह रसूखदार है और अपने साथ हथियार रखता है. आए दिन वह लोगों के साथ मारपीट करता है. गांव के लोग भी उससे काफी डरते हैं. इस मामले में उसने परिवार को प्रताड़ित कर रखा है. पंचायत करने और जेल जाने के बाद भी उसमें कोई असर नहीं हुआ है. वहीं पीड़िता के पिता ने कहा कि हम डर में जी रहे हैं. इस मामले में अब कोई कुछ करने को तैयार नहीं है. मुझे मेरे बच्चों की जान का डर है. पिता ने सवाल किया कि क्या बेटी का पिता होना अभिशाप है.



ये भी पढ़ेंः पत्नी ने पति को प्रेमिका के साथ रंगे हाथों पकड़ा, फिर हुआ ये

पेट में कैंची छूटने से हुई महिला की मौत, दारोगा की पिटाई
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज