Home /News /bihar /

फिल्मी 'मुन्नाभाई' से कम नहीं है इस 52 साल के मेडिकल स्टूडेंट की कहानी

फिल्मी 'मुन्नाभाई' से कम नहीं है इस 52 साल के मेडिकल स्टूडेंट की कहानी

कपिलदेव चौधरी वर्ष 1995 एमबीबीएस बैच का छात्र है.

कपिलदेव चौधरी वर्ष 1995 एमबीबीएस बैच का छात्र है.

कपिलदेव चौधरी वर्ष 1995 एमबीबीएस बैच का छात्र है.

10वीं और 12वीं की सामान्य परीक्षाओं में गलत ढंग से पास कराने के लिये टीचरों से आरजू मिन्नत और लालच देने के वाकये आम हैं लेकिन बिहार में एक ऐसा शख्स है जो डॉक्टर बनने की परीक्षा में लगातार पिछले 20 वर्षों से फेल हो रहा है.

और तो और ग़लत ढंग से परीक्षा पास कराने के लिए वो अपने प्रिंसिपल को तरह-तरह से दुहाई देते हुए धमकी तक दे रहा है. मामला दरभंगा के मेडिकल कॉलेज से जुड़ा है जहां से ये अजीबोगरीब वाक्या सामने आया है.

कहानी कपिलदेव नामक छात्र की है जिन्होने डॉक्टर बनने की ख्वाहिश में 52 वसंत पार कर दिए लेकिन उनकी ख्वाहिश यानि एमबीबीएस पास करना धरी की धरी रह गयी. कपिलदेव पिछले 20 सालों से एमबीबीएस के द्वितीय वर्ष के छात्र हैं.

उन्होने पहले तो कई बार कॉलेज के शिक्षकों को फोन से मैसेज भेज कर पास कराने का अनुरोध किया लेकिन जब किसी ने उनकी बात पर ध्यान नहीं दिया तो पेपर पास नहीं कराने पर आत्महत्या की ही धमकी दे डाली.

52 साल के कपिल ने मेडिसिन विभाग के डॉ बीके सिंह को मोबाइल फोन से कई बार मैसेज किया कि वो डॉक्टर बनकर देश सेवा करना चाहता है. इसलिए उसे पास करा दिया जाए. उसने अपनी जाति पासी का हवाला देते हुए लिखा कि वो अपने जातिगत व्यवसाय ताड़ी बेचने में नहीं लगना चाहता है.

उसने लिखा कि वो दलित जाति से आता है इसलिए उसे पास करा दिया जाए. पास कराए जाने के लिए उसने शिक्षक को पुण्य प्राप्ति का भी हवाला दिया है. आखिरकार जब उसकी बात नहीं मानी गई तो उसने आत्महत्या की धमकी दे डाली.

दरभंगा मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ आरके सिन्हा ने बताया कि कपिलदेव चौधरी वर्ष 1995 एमबीबीएस बैच का छात्र है. इसने प्रथम वर्ष की परीक्षा पास करने के बाद द्वितीय वर्ष में नामांकन लिया था लेकिन द्वितीय वर्ष में ये क्लिनिकल के पेपर में फेल हो गया.

उसके बाद इसने कई वर्षों तक परीक्षा दी लेकिन हर बार फेल होता रहा. शिक्षकों का कहना है कि ये क्लिनिकल के पेपर में एक भी उत्तर नहीं दे पाता है. इसलिये इसे फेल करा दिया जाता है. छात्र की आत्महत्या की धमकी से घबराए कॉलेज के प्राचार्य ने छात्र की करतूतों की लिखित शिकायत पुलिस के पास दर्ज़ कराई है.

दरभंगा मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ आरके सिन्हा ने बताया कि उन्होंने स्थानीय पुलिस को लिखित शिकायत की है. दरभंगा एएसपी दिलनवाज़ अहमद ने कहा कि पुलिस मामले की जांच कर रही है. आरोपी छात्र के बयान के बाद कार्रवाई की जाएगी.

Tags: दरभंगा

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर