बिहार के दो कलाकरों को राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिलने की खबर पाकर कला एवं संस्कृति मंत्री हुए भावुक 

बिहार के संस्कृति एवं कला मंत्री इस खबर को सुनकर हो गए भावुक.

बिहार के संस्कृति एवं कला मंत्री इस खबर को सुनकर हो गए भावुक.

भारत सरकार ने राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों (National Film Awards) की घोषणा कर दी है. दिवंगत सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की फिल्म छिछोरे को सर्वश्रेष्ठ फिल्म का राष्ट्रीय पुरस्कार मिला है. वहीं मनोज वाजपेयी (Manoj Vajpayee) को फिल्म भोंसले के लिए बेस्ट ऐक्टर का राष्ट्रीय पुरस्कार मिला है. यह खबर सुनकर बिहार के संस्कृति मंत्री आलोक रंजन झा भावुक हो गये.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2021, 12:25 AM IST
  • Share this:
पटना. भारत सरकार (Indian Government) ने राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों (National Film Awards) की घोषणा कर दी है. इसमें बिहार के लिए दोहरी खूशी का मौका तब आया जब दिवंगत सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म छिछोरे को सर्वश्रेष्ठ फिल्म का राष्ट्रीय पुरस्कार मिला. वहीं मनोज वाजपेयी को फिल्म भोंसले के लिए बेस्ट ऐक्टर का राष्ट्रीय पुरस्कार मिला. जाहिर सी बात है दोनों कलाकारों को पुरस्कार मिलना बिहार के लिए बड़े सम्मान की बात है. लेकिन, बिहार के कला संस्कृति मंत्री आलोक रंजन झा को जब इस बात की जानकारी हुई तो वो भावुक हो गए.

उन्होंने कसक भरे शब्दों में कहा, 'काश कोशी का बेटा सुशांत सिंह राजपूत आज ज़िंदा होते, तो ये खुशी दोहरी हो जाती, लेकिन बावजूद इसके सुशांत सिंह को जो पुरस्कार मिला है उससे बिहार के कला जगत से जुड़े लोगों में बड़ा उत्साह भरेगा.

RJD कल करेगी बिहार विधानसभा का घेराव, प्रसाशन ने नहीं दी अनुमति, हो सकता है पुलिस से टकराव!

NEWS 18 से बातचीत करते हुए कला संस्कृति मंत्री आलोक रंजन झा ने कहा कि जैसे ही ये खबर आयी कि सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म छिछोरे को राष्ट्रीय पुरस्कार मिला है, तो मैं खुशी से भर गया लेकिन दूसरे ही पल मन में इस बात की कसक उभर गई की काश आज जिंदा होते कोशी के लाल. लेकिन कोई बात नहीं सुशांत सिंह राजपूत आज भले ही दुनिया में नहीं हैं, लेकिन उनके लिए बड़ी श्रद्धांजली तब होगी जब बिहार के कलाकारों के कला को उभारा जाए और उन्हें भी इस लायक बनाया जाए कि वो भी कला जगत में सुशांत सिंह राजपूत की तरह अपने कला के जौहर दिखाकर देश और दुनिया में डंका बजाएं.
उन्होंने ने कहा कि कला संस्कृति विभाग बिहार के पंचायत स्तर तक जाएगी और वैसे कलाकार जिन्हें आज तक कोई प्रोत्साहन नहीं मिल पाया है और जिनमें कला भरी हुई हो.उन्हें सरकार पूरी तरह से मदद करेगी. ये काम बहुत जल्द शुरू होगा और यही सुशांत सिंह राजपूत को सच्ची श्रद्धांजली होगी. वहीं मनोज वाजपेयी को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार मिलना भी बिहार के लिए खुशी और बड़ा सबब है.

मनोज वाजपेयी बिहार के वैसे लाल हैं जिन्होंने जमीन से जुड़कर अपनी मिट्टी से लगाव रखते हुए फिल्म जगत में ऐसा झंडा गाड़ा है, जिसकी चर्चा देश और दुनिया में होती है. मनोज वाजपेयी जैसे कलाकार की कला से प्रोत्साहित होकर विहार के कई कलाकारो में कुछ करने का जज़्बा और जोश बढ़ेगा.  बिहार सरकार भी ऐसे कलाकार को सम्मानित करेगी और बिहार में कला को बढ़ावा देने के लिए बड़ा प्रयास करेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज