लाइव टीवी

मोतिहारी: एंबुलेंस के अभाव में कैंसर पीड़ित 3 साल के प्रिंस की मौत, नियमों का हवाला देते रहे डॉक्टर
Motihari News in Hindi

Mukesh Sinha | News18 Bihar
Updated: April 21, 2020, 4:32 PM IST
मोतिहारी: एंबुलेंस के अभाव में कैंसर पीड़ित 3 साल के प्रिंस की मौत, नियमों का हवाला देते रहे डॉक्टर
मोतिहारी में एंबुलेंस के अभाव में कैंसर के मरीज ने तोड़ा दम (file photo)

तीन साल के कैंसर पीड़ित मासूम (Cancer Patient) की मौत का ये मामला बिहार के पूर्वी चंपारण (East Champaran) जिला से जुड़ा है. इस मामले में डॉक्टरो ने नियम का हवाला देते हुए कहा कि मरीज को सरकारी एंबुलेंस (Ambulance) से पटना भेजने की इजाजत नहीं थी.

  • Share this:
मोतिहारी. बिहार के मोतिहारी (Motihari) से स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई है. यहां एंबुलेंस (Ambulance) नहीं मिलने से एक मासूम की मौत हो गयी है. घटना पूर्वी चंपारण जिले के कल्याणपुर पीएचसी (PHC) की है. आरोप है कि ब्लड कैंसर (Blood Cancer) से जुझ रहे तीन साल के मासूम प्रिंस को पटना जाने के लिए एंबुलेंस कर्मियों ने पांच हजार रुपये की मांग की. इस दौरान मरीज के परिजनों ने बात की तो ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर ने एंबुलेंस को मोतिहारी (Motihari) तक ही देने की बात कर मामले को टाल दिया, नतीजतन दादा की गोद में ही मासूम प्रिंस ने अंतिम सांस ली और उसके परिजन देखते और हाथ मलते रहे गये.

पटना में चल रहा था इलाज

जानकारी के मुताबिक कल्याणपुर प्रखंड के राजपुर आजादनगर के मुन्ना कुमार का तीन वर्षीय पुत्र प्रिंस कैंसर से पीड़ित था. उसके परिजन उसका इलाज पटना के महावीर कैंसर अस्पताल में करवा रहे थे. गरीबी से जूझते परिवार के सामने दुख का बड़ा पहाड खड़ा था. इलाज के बीच में ही परिजन डॉक्टरों के कहने पर प्रिंस को लेकर घर आ गये थे. कोरोना महामारी के चलते लागू हुए लॉक डाउन के बीच अचानक उसकी हालत खराब होने पर परिजन उसे कल्याणपुर पीएचसी लेकर आये. जहां डॉक्टर ने अपनी विवशता को बताते हुए मोतिहारी सदर अस्पताल रेफर कर दिया लेकिन परिजन जानते थे कि उसका इलाज पटना में ही हो सकता है. परिजनों ने डॉक्टर से पटना जाने के लिए एंबुलेंस की मांग की लेकिन डॉक्टरों ने ऐसा कर पाने में अपनी विवशता बतायी.



एंबुलेंसकर्मी ने मांगे पांच हजार रुपए



प्रिंस के पिता मुन्ना कुमार ने बताया कि मेरे तीन साल के बेटे को ब्लड कैंसर था और उसका इलाज पटना के महावीर कैंसर अस्पताल में चल रहा था. उसकी हालत खराब होने पर कल्याणपुर पीएचसी से पटना ले जाने के लिए एंबुलेंस नहीं मिला जबकि एंबुलेंस के कर्मी ने उससे पांच हजार रुपये की मांग की. हम इतने पैसे देने में सक्षम नहीं थे लिहाजा प्रिंस ने अपने दादा की गोद में ही अंतिम सांस ली.

बच्चे की मौत पर डॉक्टर बोले

इस मामले में कल्याणपुर पीएचसी के चिकित्सक डॉ. मोहित कुमार ने बताया कि नियमों के अनुसार कल्याणपुर पीएचसी से मोतिहारी सदर अस्पताल के लिए एंबुलेंस दिया जाता है लेकिन परिजन पटना जाने की बात कर रहे थे. वहीं एंबुलेंस कर्मयों के पांच हजार रुपये की मांग पर डॉक्टर ने अनभिज्ञता जताई.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मोतिहारी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 21, 2020, 3:55 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading