बिहार: एक ही परिवार के 4 लोगों की हत्या, आरोपी को आजीवन कारावास की सजा

हत्या के मामले में कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है.
हत्या के मामले में कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है.

जमीन विवाद (Land Dispute) को लेकर जमालपुर में एक ही परिवार के 4 लोगों को मौत के घाट उतार (Murder) दिया गया था.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 30, 2020, 10:58 PM IST
  • Share this:
जमालपुर: जमीनी विवाद में एक ही परिवार के चार लोगों की हत्या (Murder) के मामले में आरोपी को अंतिम सांस तक आजीवन कारावास की सजा मिली है. साथ ही दस हजार रूपए आर्थिक दंड का भी सजा सुनाया गया है. बांका जिले में अपनी पुश्तैनी जमीन के विवाद को लेकर आरोपी ने मुंगेर के जमालपुर में रह रहे अपने रिश्तेदार की बांका से आकर हत्या की थी. आरोपी ने सूचक के पिता ,भाई और उनकी पत्नी तथा बहन को ताबड़तोड़ चाकू मारकर मौत के घाट उतार दिया था. 07 अगस्त 2017 की सुबह जमालपुर ईस्ट कॉलोनी थाना क्षेत्र के बड़ी आशिकपुर खटीक टोला में ये घटना हुई थी.

एक ही परिवार के चार लोगों की हत्या के मामले में आरोपित सत्तन मेहतर को मुंगेर के अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश द्वितीय अनिल कुमार मिश्रा ने दोषी पाते हुए भादवि की धारा 302 के तहत बुधवार को अंतिम सांस तक आजीवन कारावास की सजा सुनाई. साथ ही 10 हजार रूपये अर्थदंड की सजा भी दी गई है. जानकारी के अनुसार आरोपी तथा मृतक के बीच बांका जिले में अपनी पुश्तैनी जमीन को लेकर विवाद चल रहा था. वहीं विवाद के कारण मृतक मुंगेर जिले के जमालपुर में आकर अपने परिवार के साथ रह रहा था जहां आरोपी ने 07 अगस्त 2017 की सुबह जमालपुर आकर इन लोगों पर चूका से हमला कर दिया था. वारदात में दो लोगों की मौत घटना स्थल पर ही हो गयी थी जबकि दो लोगों की इलाज के दौरान मौत हुई थी. आरोपी ने सूचक के पिता, भाई , पत्नी  और बहन की हत्या चाकू से प्रहार कर किया था. सजा की बिंदु पर सुनवाई के दौरान अभियाजन पक्ष की ओर से अपर लोक अभियोजक पीयूष कुमार ने बहस में भाग लिया.

ये भी पढ़ें: गहलोत कैबिनेट का अहम फैसला, अब सरकार घर-घर जाकर बांटेगी एक करोड़ मास्क



कोर्ट ने पाया दोषी
वहीं बुधवार को सुनवाई के दौरान विद्वान न्यायाधीश अनिल कुमार मिश्रा ने उपलब्ध साक्ष्य और गवाहों के बयान के आधार पर हत्याकांड के अभियुक्त सत्तन मेहतर को सामुहिक हत्या के मामले में 27 सितम्बर को दोषी पाया था. सजा की बिंदु पर सुनवाई के दौरान उन्होंने आरोपी को भादवि की धारा 302 के तहत अंतिम सांस तक आजीवन कारावास की सजा सुनाई. घटना के संदर्भ में बताया जाता है कि 7 अगस्त 2017 की सुबह जमालपुर ईस्ट कॉलोनी थाना क्षेत्र के बड़ी आशिकपुर खटीक टोला निवासी सूचक संजय कुमार के पिता जगदीश राम को सत्तन मेहतर ने चाकू मार कर जख्मी कर दिया था. वहीं उसे बचाने आई सूचक के भाई विजय कुमार, विजय की पत्नी सीमा देवी एवं बहन रंजीता देवी को भी आरोपी ने चाकू से वार कर बुरी तरह जख्मी कर दिया था, जबकि जगदीश राम एवं सीमा देवी की मौत घटनास्थल पर ही हो गया थी. वहीं  इलाज के दौरान घायल रंजीता देवी की मौत हुई थी. इसके बाद विजय कुमार ने दम तोड़ा था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज