लाइव टीवी

म्यांमार से नगालैंड के रास्ते मुंगेर पहुंचता था एके-47 रायफल की खेप

Arun Kumar Sharma | News18 Bihar
Updated: October 27, 2018, 5:44 PM IST
म्यांमार से नगालैंड के रास्ते मुंगेर पहुंचता था एके-47 रायफल की खेप
मुंगेर से बरामद हथियार की फाइल फोटो

एसपी ने बताया कि दोनों तस्करों ने स्वीकार किया कि उनलोगों ने अब तक 6 ब्रेटा पिस्टल, 4 ग्लॉक पिस्टल, 5 एके-47, 1 एके-56 एवं 3 कारबाइन बेच चुके हैं.

  • Share this:
बिहार के मुंगेर में मिले 20 एके-47 रायफल्स के तार अब देश से निकल कर म्यंमार तक जा पहुंचे हैं. पुलिस को जानकारी मिली है और जो खुलासे हुए हैं उसके मुताबिक साल 2007 से ही एके-47, एके-56, ग्लॉक और ब्रेटा पिस्टल का कारोबार चल रहा था. इस मामले में गिरफ्तार झारखंड के देवघर जिला के देवीपुर गांव के स्थानीय नेता से ने जो राज उगले उसे जानकर पुलिस भी दंग रह गई.

दरअसल हथियारों की सप्लाई टीपीसी संगठन को भी की जाती थी. मामले की अनुसंधान कर रही मुंगेर पुलिस ने मो. मंजर आलम उर्फ मंजी खा से पूछताछ के आधार पर हवेली खड़गपुर प्रखंड के मुढ़ेरी पंचायत के मुखिया कुंदन मंडल एवं गया जिले के बेलागंज थाना क्षेत्र के वंशीविगहा गांव निवासी दीपू साह को हिरासत में लिया. जब पुलिस ने पूछताछ की तो दोनों तस्करों ने म्यांमार से मुंगेर तक के हथियारों का सफर बताया.

ये भी पढ़ें- मुंगेर एके 47 मामले में चार्ज लेने बिहार पहुंची एनआईए की टीम

मुंगेर के एसपी बाबू राम ने बताया कि मंजर आलम उर्फ मंजी ने बताया कि उसका संबंध मुढ़ेरी पंचयात के मुखिया कुंदन मंडल से है. जिसे उसने एक बार 5000 हजार इंसास का कारतूस दिया था. जबकि वह बराबर मुझसे पिस्टल लेकर तस्करी करता था. पुलिस को पता चला कि कुंदन अपने कुछ साथियों के साथ असरगंज में है. जहां से उसे पुलिस ने हिरासत में लिय. पुलिस ने कुंदन के साथ-साथ दीपू को भी गिरफ्तार कर लिया.पुलिस के समक्ष दोनों ने वर्ष 2007 से ही हथियारों के तस्करी कारोबार से जुड़ने की बात स्वीकार की.

एसपी ने बताया कि कुंदन व दीपू ने बताया कि कासिम बजार थाना क्षेत्र के बीचागांव के बबलू साह, मक्का साह, रवि शर्मा, क्रांति शर्मा, भागलपुर का बिट्टू शर्मा के साथ मिलकर हथियार के कारोबार को अंजाम देता था. बबूल साह की मौत हो गई जो दीपू का बहनोई एवं मक्का का भाई था. हथियारों के कारोबार तब बड़ा हो गया जब 2007 इनलोगों का लिंक लखीसराय जिले के पीरीबाजार थाना क्षेत्र के बबुआ बाजार निवासी पंचम शर्मा से हुआ जो पिछले कई दशकों से पूरे परिवार के साथ नागालैंड के दीमापुर में जाकर बस गया. वो वहां हथियार का दुकान चलाता था.

ये भी पढ़ें- VIDEO- मुंगेर: अब ज़मीन और कुएं ने उगले एके 47 के पार्ट्स

ये लोग वहां मंजी से पिस्टल ले जाकर पंचम शर्मा के हाथों बेच देते थे. वहां से भारी मात्रा में कारतूस मुंगेर लाते थे. एक वर्ष के अवैध कारोबार में विश्वास बढ़ता गया और विदेशी हथियार तक धंधा पहुंच गया. इस गिरोह के लोग पिस्टल पहुंचाने एवं वहां से विदेशी हथियार मुंगेर लाकर बेचना शुरू कर दिए. दोनों ने बताया कि पंचम शर्मा का संबंध म्यांमार के तांबू शहर के कुछ तस्करों से था. जहां से ब्रेटा, ग्लॉक पिस्टल, एके-47, एके-56 एवं कारबाइन उसके दुकान में आता था.एसपी के मुताबिक कुंदन ने बताया कि क्रांति, दीपू दीमापुर से हथियार लेकर पूर्णिया एवं किशनगंज आते थे जहां निर्धारित स्थान पर वे लोग हथियार के साथ रहते थे.

10 साल की सजा काट चुका है दीपू

एसपी ने बताया कि दीपू वर्ष 2012 में आसाम राज्य के होजई में 800 इंसास के कारतूस के साथ गिरफ्तार हुआ था. जबकि सितंबर 2016 में किशनगंज पुलिस ने दीपू साह के साथ मुंगेर जिला के क्रांति शर्मा, उसका भगना भागलपुर जिला के बिट्टू शर्मा को गिरफ्तार किया था जबकि हथियार लेने गये कुंदन मंडल भाग गया था जिसे दो दिन बाद मुंगेर पुलिस ने उसके घर हवेली खड़गपुर के मुढ़ेरी से गिरफ्तार किया था. इस मामले में दीपू को 10 साल की सजा हुई है.  एसपी ने बताया कि क्रांति शर्मा भी सजा काट चुका है. जबकि वर्ष 2012 में नयारामनगर पुलिस ने एक ग्लॉक पिस्टल बरामद किया था. जिसमें कुंदन भाग गया था. जिसे पुलिस वर्ष 2013 में गिरफ्तार किया था.

अब तक 14 विदेशी हथियार बेचने की बात स्वीकारी

एसपी ने बताया कि दोनों तस्करों ने स्वीकार किया कि उनलोगों ने अब तक दर्जनों बार पिस्टल मुंगेर से ले जाकर दीमापुर में पंचम को पहुंचाया था. जबकि वहां से 6 ब्रेटा पिस्टल, 4 ग्लॉक पिस्टल, 5 एके-47, 1 एके-56 एवं 3 कारबाइन लाने की बात स्वीकार किया है. तस्करों ने बताया कि ब्रेटा एवं ग्लॉक पिस्टल 2.60 लाख में वे लोग खरीदते थे और यहां लाकर 3.80 लाख में बेच देता था. उसने बताया कि एके-47, एके-56 एवं कारबाईन 30 हजार के कमीशन के धंधे पर करता था. उसने बताया कि वे लोग इन हथियारों को सबसे अधिक झारखंड के देवघर जिले के देवीपूर में एक नेता के हाथों बेचता था क्योंकि उसने कहा था जो भी हथियार व गोली लाओगे उसें में उसी समय खरीदकर पैसा दूंगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुंगेर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 27, 2018, 8:19 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर