Home /News /bihar /

मुंगेर के बिमल कुमार जैन को मिला पद्मश्री सम्मान, समाजसेवा के क्षेत्र में दिया विशेष योगदान

मुंगेर के बिमल कुमार जैन को मिला पद्मश्री सम्मान, समाजसेवा के क्षेत्र में दिया विशेष योगदान

चौंसठ वर्षीय बिमल कुमार जैन को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सोमवार को दिल्ली में पद्मश्री सम्मान से सम्मानित किया (फाइल फोटो)

चौंसठ वर्षीय बिमल कुमार जैन को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सोमवार को दिल्ली में पद्मश्री सम्मान से सम्मानित किया (फाइल फोटो)

Bihar News: राष्ट्रपति के हाथों पद्मश्री सम्मान से सम्मानित किये गए बिमल कुमार जैन ने लीग से हटकर समाजसेवा का रास्ता चुना. वो कृत्रिम पैर से जुड़े एक संगठन प्रकल्प भारत विकास परिषद के महामंत्री के रूप में पटना में भारत विकास परिषद विकलांग अस्पताल चलाते हैं. इसके माध्यम से उन्होंने 35,000 से अधिक विकलांगजनों को आर्टिफिशियल सपोर्ट लगाने का कीर्तिमान बनाया है

अधिक पढ़ें ...

मुंगेर. बिहार के मुंगर के रहने वाले बिमल कुमार जैन (Lal Bimal Jain) को सोमवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ram Nath Kovind) के हाथों पद्मश्री सम्मान (Padam Shri Award) से नवाजा गया. मुंगेर के इस लाल को पद्मश्री सम्मान मिलने से उनके परिवार में खुशी का माहौल है, साथ ही योग नगरी में भी उत्साह का माहौल है. यह दूसरा मौका है जब मुंगेर (Munger) से ताल्लुक रखने वाले किसी व्यक्ति को इस सम्मान से सम्मानित किया गया है. इससे पहले बिहार स्कूल ऑफ योगा के निरंजनानंद सरस्वती को योग के क्षेत्र में यह सम्मान हासिल हुआ था.

चौंसठ वर्षीय बिमल कुमार जैन का मुंगेर शहर के जुबलबेल चौक के समीप पुश्तैनी घर है. उनका संबंध यहां के प्रतिष्ठित व्यवसायी घराने जैन परिवार से है. बिमल जैन भंवर लाल जैन और सोहनी देवी जैन की तीसरी संतान हैं. उनके माता-पिता मुंगेर में ही रहते हैं जबकि वो फिलहाल राजधानी पटना में रह कर व्यवसाय करते हैं. लेकिन समय-समय पर वो अपने परिवार और मित्रों से मिलने मुंगेर आते रहते हैं. बिमल जैन ने इंटरमीडिएट तक की अपनी पढ़ाई मुंगेर से ही पूरी की है. जिसके बाद वो आगे स्नात्तकोत्तर की पढ़ाई करने पटना चले गए थे. बिमल जैन आपातकाल में छात्र आंदोलन से गहरे जुड़े और लोकनायक जयप्रकाश के प्रिय पात्रों में एक हो गये.

बिमल जैन को मानवता के सच्चे और निस्वार्थ सेवा के लिए पद्मश्री सम्मान मिला है. उनके कई मित्र आज राजनीति के क्षेत्र में हैं. लेकिन उन्होंने खुद को इससे दूर रखा है और समाजसेवा का रास्ता चुना. फिलहाल वो कृत्रिम पैर से जुड़े एक संगठन प्रकल्प भारत विकास परिषद के महामंत्री के रूप में पटना में भारत विकास परिषद विकलांग अस्पताल चलाते हैं. इसके माध्यम से उन्होंने 35,000 से भी अधिक विकलांगजनों को आर्टिफिशियल सपोर्ट लगाने का कीर्तिमान बनाया है. इसी तरह दधीचि देह दान के माध्यम से दृष्टिहीन दिव्यांगों के जीवन मे फिर से उजाला भर रहे हैं. उनके सबसे छोटे भाई दीपक जैन ने बताया उनको इस सम्मान मिलने के बाद पूरा परिवार के साथ मुंगेर जिला गौरवान्वित महसूस कर रहा है.

Tags: Bihar News in hindi, Munger news, Padam awards, Padam shri

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर