मुंगेर: कौवों के बाद चिकन में भी पाया गया बर्ड फ्लू का वायरस

मुंगेर में बर्ड फ्लू की जांच के लिए पहुंची डॉक्टरों की टीम (फाइल फोटो)
मुंगेर में बर्ड फ्लू की जांच के लिए पहुंची डॉक्टरों की टीम (फाइल फोटो)

बीते दिसंबर में मुंगेर के गोरहो में लगातार पक्षियों की मौत हो रही थी. जब इसकी जांच की गई तो बर्ड फ्लू के H5N1 वायरस पाए जाने की पुष्टि हुई.

  • Share this:
मुंगेर सदर प्रखंड के मुबारकचक में कौवों के बाद चिकन में भी बर्ड फ्लू का वायरस H5N1 पाया गया है. स्वास्थ्य विभाग को अलर्ट पर रहने के आदेश देने के साथ ही जिलाधिकारी ने इस बात की जानकारी दी. अब शुक्रवार से बर्ड किलिंग का प्रोसेस यानि पक्षियों को मारे जाने की प्रक्रिया शुरू होगी.

आपको बता दें कि इससे पहले मुंगेर के ही असरगंज और गोरहो में भी बर्ड फ्लू का वायरस पाया गया था. पहले ये सिर्फ बत्तख में पाया गया था, लेकिन अब मुर्गे में इसके लक्षण पाए जाने से हालात गंभीर हो रहे हैं.

ये भी पढ़ें- तेजप्रताप का ऐलान, पाटलिपुत्र से ही लोकसभा चुनाव लड़ेंगी मीसा भारती



गौरतलब है कि बीते दिसंबर में मुंगेर के गोरहो में लगातार पक्षियों की मौत हो रही थी. जब इसकी जांच के लिए मृत पक्षियों के बिसरा कोलकाता भेजा गया तो बर्ड फ्लू के H5N1 वायरस पाए जाने की पुष्टि हुई.  इसके बाद पटना से पशुपालन विभाग की उच्च स्तरीय टीम मुंगेर पहुंची थी. इसके बाद गोरहो गांव के आसपास के चौखंड, अमैया, बेलसिरा जैसे गांवों में पक्षियों को मारकर दफन किया गया.
वहीं बीते दिनों पटना से संजय गांधी जैविक उद्यान में इससे 6 मोरों की मौत हो चुकी है, जबकि बुधवार को नवादा में दर्जनों कौवे एक साथ मृत पाए गए हैं जिसे जांच के लिए भेजा गया है.

इनपुट- अरुण कुमार शर्मा

ये भी पढ़ें-  पटना हाईकोर्ट में तेजस्वी के 'बंगला विवाद' की सुनवाई पूरी, 7 जनवरी को होगा फैसला
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज