मुंगेर हिंसा को लेकर कांग्रेस हमलावर, कहा- नीतीश और सुशील मोदी को पद से हटाए बिना नहीं होगा न्‍याय

कांग्रेस ने नीतीश और सुशील मोदी को नया नाम दिया है.
कांग्रेस ने नीतीश और सुशील मोदी को नया नाम दिया है.

Munger Violence: मुंगेर हिंसा को लेकर कांग्रेस ने केंद्र सरकार से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) और उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) को हटाने की मांग की है.

  • Share this:
नई दिल्ली/ मुंगेर. कांग्रेस ने बिहार के मुंगेर में देवी दुर्गा की प्रतिमा के विसर्जन के लिए जा रहे लोगों पर पुलिस की कथित गोलीबारी की घटना को लेकर गुरुवार को केंद्र सरकार से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) और उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) को हटाए जाने की मांग की है. साथ ही यह भी कहा कि इन दोनों के पद पर बने रहने तक इस मामले में न्याय नहीं हो सकता. पार्टी प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने यह भी कहा कि जिला अधिकारी और पुलिस अधीक्षक का तबादला एक ‘लीपापोती’ वाली कार्रवाई है और ऐसे में उन्हें निलंबित किया जाना चाहिए.

जलियांवाला बाग की तरह मुंगेर में...
गौरव वल्लभ ने कहा कि जलियांवाला बाग की तरह मुंगेर में घटना हुई जब मां दुर्गा की मूर्ति के विसर्जन के लिए जा रहे भक्तों पर पुलिस ने गोली चलाई. इसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई और कई घायल हो गए. क्या हमारे देश और बिहार में मां दुर्गा की मूर्ति का विसर्जन करना अपराध है? साथ ही कहा कि इस मामले में वहां के जिला अधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक का तबादला किया गया. कांग्रेस की मांग है कि बिहार सरकार इस लीपापोती से बाहर आए. जिनके आदेश पर गोली चली है उनको निलंबित किया जाए. वैसे अगले कुछ दिनों में नीतीश की विदाई होने वाली है, लेकिन मुख्यमंत्री को अभी बर्खास्त किया जाए या फिर वह तत्काल प्रभाव से इस्तीफा दें.

कांग्रेस ने नीतीश और सुशील मोदी को दिया नया नाम
कांग्रेस प्रवक्‍ता ने कहा कि मैं ‘निर्दयी कुमार’ (नीतीश) और ‘निर्मम मोदी’ (सुशील मोदी) जी से पूछना चाहता हूं कि आप जंगलराज की बात कर रहे हैं, लेकिन इस गोलीबारी को क्या कहेंगे? साथ ही कहा कि इस मामले में न्याय होना चाहिए. मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री को बर्खास्त किया जाए. अगर न्याय होना है तो इन्हें हटाया जाना जरूरी है.



आपको बता दें कि मुंगेर जिले में सोमवार रात देवी दुर्गा की मूर्ति विर्सजन को लेकर झड़प के दौरान कथित तौर पर हुई पुलिस गोलीबारी में एक युवक की मौत की घटना के बाद गुरुवार को पुलिस अधीक्षक कार्यालय सहित शहर में अन्य स्थानों पर तोड़फोड़ की गई और वाहनों को आग लगा दी. वहीं, निर्वाचन आयोग ने जिलाधिकारी राजेश मीणा और पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह को तत्काल हटाने के साथ मगध प्रमंडल के आयुक्त असंगबा चुबा एओ को पूरी घटना की जांच करने का आदेश दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज