शीतलहर में भी 450 किलोमीटर चलकर शिव को जल चढ़ाते हैं श्रद्धालु

पूरा बिहार शीतलहर की चपेट में है. इस दौरान सीतामढ़ी के कुछ श्रद्धालु 18-19 दिन की पैदल यात्रा कर 450 किलोमीटर की यात्रा कर झारखंड स्थित देवघर तक जाते हैं. वहां शिव को जल चढ़ाते हैं.

Arun Kumar Sharma | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: January 13, 2018, 2:03 PM IST
Arun Kumar Sharma | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: January 13, 2018, 2:03 PM IST
पूरा बिहार शीतलहर की चपेट में है. इस दौरान सीतामढ़ी के कुछ श्रद्धालु 18-19 दिन की पैदल यात्रा कर 450 किलोमीटर की यात्रा कर झारखंड स्थित देवघर तक जाते हैं. वहां शिव को जल चढ़ाते हैं. कड़ाके की ठंड में भी शिव भक्तों के उत्साह में कोई कमी नहीं आई है. सीतामढ़ी जिला के रहने वाले श्रद्धालुओं का जत्था ठण्ड में खाली पैर पैदल बाबा बैद्यनाथ धाम की यात्रा कर रहा है.

बसंत पंचमी में बाबा बैद्यनाथ धाम में जल चढ़ाने के लिए हर साल मिथिलांचल सहति अन्य जिलों से लोग मुंगेर पहुंचते हैं और पैदल ही अपने जिले से देवघर की यात्रा करते हैं.

बिहार में 15 दिनों से भीषण ठंड के कारण लोगों का जीना मुहाल है. वहीं कपकपाती ठंड लोगों की दिनचर्या को भी प्रभावित कर रही है. बचाव के लिए लोग अलाव का सहारा ले रहे हैं. वहीं बाबा के भक्तों की भक्ति पर इसका असर नहीं दिख रहा है. बसंत पंचमी में बैद्यनाथ धाम जाने के लिए हजारों की संख्यां शिव भक्त गंगा पार कर मुंगेर पहुंचते हैं और पैदल सुल्तानगंज जाते हैं.

सुल्तानगंज से उत्तरवाहिनी गंगा से जल लेकर पैदल देवघर के लिए रवाना होते हैं. सीतामढ़ी से मुंगेर पहुंचे शिव भक्तों की मानें तो देवघर जाने के लिए उन्हें ठंड नहीं लगती है. शिव भक्तों का कहना है कि 15 वर्षों से लगातार बंसत पंचमी के मौके पर पैदल यात्रा कर देवघर में शिवलिंग का जलाभिषेक करते हैं.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर