होम /न्यूज /बिहार /Munger News: पेड़ काटना और नदियों को प्रदूषित करना हो सकता है विनाशकारी, जानें क्या कहते हैं विशेषज्ञ

Munger News: पेड़ काटना और नदियों को प्रदूषित करना हो सकता है विनाशकारी, जानें क्या कहते हैं विशेषज्ञ

व्याख्यान देतीं डॉ.रुचि श्री.

व्याख्यान देतीं डॉ.रुचि श्री.

पर्यावरण संरक्षण विषय पर आयोजित इस विशेष व्याख्यान में वक्ता तिलका मांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के स्नातकोत्तर राजनिति व ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- सिद्धांत राज

मुंगेर. जिले के जे.आर.एस. कॉलेज जमालपुर द्वारा पर्यावरण से नदी के संबंध पर विशेष आमंत्रित व्याख्यान का आयोजन किया गया. मुंगेर विश्वविद्यालय के स्नातकोत्तर विभागों में संयुक्त रूप से इस विशेष आमंत्रित व्याख्यान का आयोजन AECC 1 – Environmental Sustainability विषय के विद्यार्थियों के लिए किया गया. इसमें शामिल अतिथियों ने छात्रों को पर्यावरण संरक्षण को लेकर महत्वपूर्ण जानकारी दी.

छोटी नदियों को बचाने की पहल

पर्यावरण संरक्षण विषय पर आयोजित इस विशेष व्याख्यान में वक्ता तिलका मांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के स्नातकोत्तर राजनिति विज्ञान विभाग की सहायक प्राध्यापक डॉ. रुचि श्री थीं. इस दौरान उन्होंने कहा कि  मानव केंद्रित पूंजी आधारित विकास के कारण पर्यावरण पर खतरा उत्पन्न हो गया है. इन खतरों के साथ विशेष रूप से छोटी नदियों को बचाने पर बल दिया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि जिस प्रकार आए दिन लोग पेड़ काट देते हैं, नदी में कूड़े फेक रहे हैं, यह भविष्य के लिए विनाशकारी साबित हो सकता है. इसलिए इनसब चीज पर रोक लगाने के साथ लोगों को जागरूक होने की जरूरत है. ताकि मनुष्य और पशु पक्षी को जीवन में स्वच्छ पर्यावरण मिल सके.

जवाब पाकर संतुष्ट हुए छात्र

इस कार्यक्रम में डॉ. एस के मंडल, डॉ. हरिश्चन्द्र शाही, डॉ. अजय कुमार, डॉ. अब्दुल सलाम अंसारी, डॉ जकिया तसनीम, डॉ. रोहित कुमार विशेष रूप से मौजूद थे. विचारोत्तेजक व्याख्यान में छात्रों ने वक्ता से कई प्रश्न भी किए. जिनका जवाब पाकर वे काफी संतुष्ट दिखे. गौरतलब है कि डॉ. रुचि श्री ने भागलपुर की चंपा नदी पर महत्वपूर्ण शोध कार्य भी किया है. इस कार्यक्रम में मुंगेर विवि के स्नातकोत्तर इतिहास, हिंदी, उर्दू, और अंग्रेजी विभाग के छात्र शामिल हुए. कार्यक्रम की अध्यक्षता अंग्रेजी स्नातकोत्तर विभाग के अध्यक्ष डॉ. भवेशचंद्र पाण्डेय ने किया. स्नातकोत्तर इतिहास विभाग के डॉ. जयंत ने संचालन किया एवं स्नातकोत्तर इतिहास विभाग के अध्यक्ष डॉ. गिरीश चंद्र पाण्डेय के धन्यवाद ज्ञापन किया.

Tags: Bihar News, Munger news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें