मुंगेर के तारापुर हाट बाजार में आग लगने से 100 से ज्यादा दुकानें स्वाहा, 1 करोड़ से ज्यादा का नुकसान

मुंगेर के तारापुर हाट बाजार में आग से 100 दुकानें जलकर राख.

मुंगेर के तारापुर हाट बाजार में आग से 100 दुकानें जलकर राख.

मुंगेर के तारापुर अनुमंडल के सबसे बड़े तारापुर हाट बाजार होलिका दहन से पहले भीषण अगलगी की घटना. देखते ही देखते धू-धूकर जलीं 100 से ज्यादा दुकानें, कई परिवारों में त्योहार के मौके पर छाया मातम.

  • Share this:
मुंगेर. बिहार के मुंगेर जिले के तारापुर अनुमंडल में होली का त्योहार कई परिवारों के लिए मातम में बदल गया. दरअसल, होलिका दहन से पहले तारापुर के सबसे बड़े हाट बाजार में आग लग गई. रविवार की रात होलिका दहन से पहले रात 9 बजे अचानक आग लग गई. लोगों के देखते ही देखते आग ने भीषण रूप अख्तियार कर लिया. आग की वजह से तारापुर हाट बाजार की 100 से ज्यादा दुकानें जलकर राख हो गईं. आग लगने की सूचना पर तत्काल दमकल विभाग की दो गाड़ियां भी पहुंचीं, लेकिन लपटें इतनी भयावह थी कि दुकानों को खाक होने से बचाया न जा सका.

तारापुर अनुमंडल के सबसे बड़े हाट बाजार में आग लगने की खबर फैलते ही पूरे कस्बे में अफरा-तफरी मच गई. पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों को भी तुरंत आग की सूचना दी गई. हाट बाजार के आसपास रहने वाले लोग भी आग बुझाने के इंतजाम में जुट गए, लेकिन ऊंची-ऊंची लपटों को बुझा पाना संभव नहीं था. फायर ब्रिगेड की दो दमकलें आग बुझाने पहुंची थीं, लेकिन कर्मियों को आग बुझाने में कड़ी मशक्कत करनी पड़ रही थी. आखिरकार कई घंटों की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका.

हाट बाजार के दुकानदारों और स्थानीय लोगों के मुताबिक आग लगने से कम से कम 1 करोड़ रुपए से ज्यादा के नुकसान की आशंका है. इस बाजार में किराना, मनिहारी, हार्डवेयर, तेल मिल, अनाज मंडी, सब्जी मंडी, मिठाई की दुकान समेत कई चाय-पान के ठेले और दुकानें भी थीं. आग की वजह से लाखों की संपत्ति देखते ही देखते राख के ढेर में तब्दील हो गई. होली के त्योहार से पहले हाट बाजार में आग लगने की वजह से कई परिवारों की खुशियां, दुख में बदल गईं.

तारापुर हाट बाजार में दुकान चलाने वाले कई लोगों ने बताया कि आग कैसे लगी, इस बात का पता नहीं चल पाया है. इस बाजार में छोटी-छोटी दुकान चलाने वालों को आग की वजह से सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचा है. खासकर होली और अन्य त्योहारों को देखते हुए इन दिनों हाट बाजार में गहमा-गहमी ज्यादा रहती थी, लेकिन अगलगी की घटना ने दुकानदारों के उत्साह पर पानी फेर दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज