मुंगेर में मां दुर्गा की विसर्जन यात्रा में लग जाते हैं 20 घंटे, जानें क्या है वजह

मुंगेर में बड़ी मां (मां दुर्गा) के विसर्जन की अद्भुत परंपरा है.
मुंगेर में बड़ी मां (मां दुर्गा) के विसर्जन की अद्भुत परंपरा है.

बिहार के मुंगेर में बड़ी मां (मां दुर्गा की प्रतिमा) का विसर्जन करने के लिए दो किलोमीटर की यात्रा करने में लगभग 20 घंटे से भी अधिक समय लग जाता है.

  • Share this:
मुंगेर. शारदीय नवरात्रि में मां दुर्गा (Maa Durga) के नौ स्वरूपों की पूजा के बाद  देवी की प्रतिमा को विसर्जित (Immersion) करने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है.  अलग-अलग जगहों पर विसर्जन की अपनी परंपराएं (Traditions) और विभिन्न मान्यताएं (beliefs) हैं. बिहार के मुंगेर में बड़ी दुर्गा मां का विसर्जन का भी अलग ही महत्व है. यहां बड़ी मां (मां दुर्गा) 32 कहारों के कंधे पर सवार होकर विसर्जन के लिए मंदिर से निकलती हैं.

श्रद्धालुओं को बीच कंधा देने की होड़
शहर में बड़ी मां के प्रति भक्तों में इतनी अगाध श्रद्धा है कि श्रद्धालुओं के बीच मां को कंधा देने की होड़ लगी रहती है. जगह-जगह श्रद्धालुओं द्वारा मां की आरती उतारकर फूल अर्पित किए जाते हैं. इस कारण बड़ी मां को दो किलोमीटर की विसर्जन यात्रा करने में लगभग 20 घंटे से भी अधिक समय लग जाता है.

मां का स्वागत करते हैं श्रद्धालु
यहां का दुर्गा पूजा भी अन्य जगहों से खास है़. स्थनीय लोग पूर्व से उस जगह को शुद्ध जल से धोकर पूरे साज-सज्जा के साथ मां का स्वागत करते हैं. आरती उतारी जाती है फिर उसके बाद मां वहां से आगे की ओर बढ़ती हैं.



पुष्प वर्षा के बीच निकलती है यात्रा
विसर्जन के जिस रास्ते से मां की शोभायात्रा निकलती है, उस रास्ते को भी शुद्ध जल से साफ किया जाता है. गमगीन आंखों से मां को विदाई देते श्रद्धालु पुष्पों की वर्षा भी करते हैं. इस विसर्जन यात्रा में न सिर्फ मुंगेर जिले के बल्कि मुंगेर प्रमंडल के विभिन्न भागों से श्रद्धालु विसर्जन शोभा में भाग लेने आते हैं.

अन्य जिलों से भी आते हैं श्रद्धालु
बड़ी मां दुर्गा, बड़ी मां काली, छोटी दुर्गा व छोटी मां काली की प्रतिमा विसर्जन के लिए कहार डोली पर ले जाते हैं. यहां के विसर्जन शोभा यात्रा में खगड़िया, लखीसराय, बेगूसराय, शेखपुरा व जमुई जिले के लाखों लोगों की भीड़ पहुंचती है.

रिपोर्ट- अरुण कुमार शर्मा

ये भी पढ़ें- 


CM नीतीश के 'बायकॉट' पर JDU का जवाब- भागने से काम नहीं चलेगा, इतने वर्षों से जीतकर क्या कर रहे हैं?




क्या बिहार की बाढ़ में डूब जाएगा BJP-JDU गठबंधन?

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज