Home /News /bihar /

Loksabha Election 2019: मुंगेर के चुनावी अखाड़े में मैदान मारने की चुनौती

Loksabha Election 2019: मुंगेर के चुनावी अखाड़े में मैदान मारने की चुनौती

फाइल फोटो

फाइल फोटो

मुंगेर लोकसभा क्षेत्र को पहले बाढ़ लोकसभा क्षेत्र के नाम से जाना जाता था. यहां से नीतीश कुमार दो बार सांसद रहे. बाढ़ को अनुमंडल बनाने की मांग नीतीश कुमार के समय से चली आ रही है.

    2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर पूरे बिहार की निगाहें मुंगेर लोकसभा क्षेत्र पर टिकी हुईं हैं. NDA में यहां से JDU के ललन सिंह के चुनाव लड़ने की तैयारी में हैं वहीं उनके मुकाबिल मोकामा से बाहुबली विधायक अनंत सिंह हो सकते हैं. वे क्षेत्र में लगातार सक्रिय हैं.

    कभी सीएम नीतीश कुमार के करीबी रहे बाहुबली अनंत सिंह और उनकी सरकार के कद्दावर मंत्री ललन सिंह के चुनावी मैदान में उतरने के आसार हैं. जाहिर है इसके बाद मुंगेर में सियासी लड़ाई हाई प्रोफाइल होने के साथ ही दिलचस्प हो गई है.

    में पटना जिले का 2 और मुंगेर जिले का 4 विधानसभा क्षेत्र आता है. 2015 के विधानसभा चुनाव में मुंगेर और सूर्यगढ़ा विधानसभा सीट पर RJD, लखीसराय और बाढ़ पर BJP, मुंगेर सीट पर RJD और मोकामा सीट पर निर्दलीय अनंत सिंह जीते थे.

    ये भी पढ़ें-  Loksabha Election 2019: समस्तीपुर के सियासी संग्राम में NDA-महागठबंधन के बीच सीधा संघर्ष !

    एनडीए में सीटों के बंटवारे के बाद ऐसा माना जा रहा है कि इस बार मौजूदा सांसद वीणा देवी इस बार मुंगेर की जगह कहीं और से चुनाव लड़ सकती हैं. हालांकि 2014 के लोकसभा चुनाव में LJP की वीणा देवी को 3,52,911 वोट मिले थे. दूसरे स्थान पर रहे JDU के ललन सिंह को 2,43,827 वोट मिले थे.

    मुंगेर की समृद्ध सांस्कृतिक-औद्योगिक विरासत
    मुंगेर धार्मिक नगरी के रूप में भी अपनी ख़ास पहचान रखता है. यहां अंतरराष्ट्रीय योग विश्वविद्यालय है. इसके अलावा बाढ़ में NTPC का थर्मल पावर प्रोजेक्ट है. जमालपुर में रेल कारखाना है. एक जमाने में मोकामा में कई इंडस्ट्री लगी थी, लेकिन 2017 में मोकामा का भारत वैगन बंद हो गया है.

    मुंगेर का विश्व प्रसिद्ध प्रसिद्ध योग केंद्र


    मुंगेर की प्रमुख समस्या
    पटना जिले के बाढ़ से लेकर मुंगेर जिले के जमालपुर तक मुंगेर लोकसभा क्षेत्र का विस्तार है. यह पूरा इलाका गंगा के किनारे बसा है इसलिए मिट्टी बेहद उपजाऊ है. टाल क्षेत्र के 1, 06, 200 हेक्टेयर में दलहन की खेती होती है.

    ये भी पढ़ें-  Loksabha Election 2019: बिहार के दूसरे 'चित्तौड़गढ़' महाराजगंज की प्रजा किसे देगी जीत की सौगात ?

    110 किलोमीटर लंबे और 6 से 15 किलोमीटर चौड़े टाल क्षेत्र की प्रकृति ऐसी है कि साल में एक ही फसल की खेती हो पाती है. रबी को छोड़कर बाकी समय टाल क्षेत्र में पानी भरा रहता है. किसान चाहते हैं कि कोई वैकल्पिक व्यवस्था हो, ताकि वे खरीफ सीजन में भी खेती कर सकें.

    बाढ़ को अनुमंडल बनाने की मांग लंबित
    मुंगेर लोकसभा क्षेत्र को पहले बाढ़ लोकसभा क्षेत्र के नाम से जाना जाता था. यहां से नीतीश कुमार दो बार सांसद रहे. बाढ़ को अनुमंडल बनाने की मांग नीतीश कुमार के समय से चली आ रही है. लोगों का कहना है कि CM बनने के बाद भी मुख्यमंत्रीर ने बाढ़-मोकामा की इस मांग पूरी नहीं की. मौजूदा सांसद भी इस मांग को पूरा नहीं कर पाईं.

    ये भी पढ़ें-  Loksabha Election 2019: 'यादव लैंड' में क्या इस बार भी चलेगी सियासत की उल्टी आंधी ?

    जाति की सियासत विकास पर भारी
    जानकारों का कहना है कि मुंगेर चुनाव में विकास के मुद्दे गौण हो जाते हैं और वोटिंग जाति के आधार पर होती है. मुंगेर लोकसभा क्षेत्र में सबसे ज्यादा भूमिहार जाति के वोटर  हैं. इसके बाद यादव, मुस्लिम, कुर्मी और धानुक जाति के वोटर आते हैं. राजपूत और महादलित वोटर चुनाव में निर्णायक भूमिका निभाते हैं. मुंगेर लोकसभा क्षेत्र में मुस्लिम वोटर अच्छी तदाद में हैं.

    मुंगेर का मां चंडिका शक्तिपीठ


    सांसद का रिपोर्ट कार्ड
    सांसद वीणा देवी सोलहवीं लोकसभा के लिए पहली बार निर्वाचित हुईं. अपने पहले कार्यकाल में सांसद ने 27 बहस में भाग लिया. सांसद में 203 प्रश्न पूछे. मुंगेर लोकसभा के लिए सांसद ने 336 योजनाओं की अनुशंसा की. इन योजनाओं पर 2057 करोड़ रुपये खर्च होंगे. अब तक 174 योजनाएं पूरी हुई हैं. 162 योजनाएं अभी तक पूरी नहीं हुईं हैं.

    ये भी पढ़ें- Loksabha Election 2019: हाई प्रोफाइल सारण के 'रण' में कौन जीतेगा जनता का मन ?

    विकास के दावे
    हालांकि वीणा देवी का दावा है कि वे पहली बार संसद पहुंची थी, लेकिन अपने पहले कार्यकाल में ही उन्होंने क्षेत्र के विकास के लिए कई काम किए. जमालपुर रेलखंड के लिए फंड मुहैया कराया. भारत वैगन को बचाने के लिए उसे जमालपुर से अटैच कराया. इसके अलावा सांसद निधि से कई छोटी-बड़ी योजनाओं की स्वीकृति दिलायी.

    मुंगेर से इस बार NDA की और से JDU की टिकट पर बिहार सरकार में जल संसाधन मंत्री ललन सिंह चुनाव लड़ सकते हैं. वहीं ‘छोटे सरकार’ से नाम से मशहूर मोकामा से बाहुबली विधायक अनंत सिंह इस बार मुंगेर लोकसभा सीट पर ताल ठोक रहे हैं. अनंत सिंह तो कांग्रेस से टिकट मिलने का दावा भी कर रहे हैं. अब देखना है मुंगेर की जनता किसे अपना प्रतिनिधि चुनती है.

    रिपोर्ट- अरुण कुमार शर्मा के साथ आनंद अमृतराज

    पढ़ें-  Loksabha Election 2019: 'राजनीति की तपोभूमि' बांका में क्या इस बार भी बहेगी सियासत की उल्टी हवा ?

    Tags: Bihar Lok Sabha Constituencies Profile, Bihar News, Lok Sabha 2019 Election, Lok Sabha Election 2019, Munger district, Munger news, Nitish kumar, Politics

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर