Home /News /bihar /

मुंगेर लोकसभा सीट: क्या बाहुबली अनंत सिंह की पत्नी यहां कब्जा जमा पाएंगी?

मुंगेर लोकसभा सीट: क्या बाहुबली अनंत सिंह की पत्नी यहां कब्जा जमा पाएंगी?

file photo

file photo

बिहार की मुंगेर लोकसभा सीट पर इस बार मुकाबला बेहद दिलचस्प है. एक तरफ कांग्रेस के टिकट पर बाहुबली अनंत सिंह की पत्नी नीलम देवी चुनाव मैदान में हैं तो उनका मुकाबला कर रहे हैं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के करीबी राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह.

अधिक पढ़ें ...
    बिहार की मुंगेर लोकसभा सीट पर इस बार मुकाबला बेहद दिलचस्प है. एक तरफ कांग्रेस के टिकट पर बाहुबली अनंत सिंह की पत्नी नीलम देवी चुनाव मैदान में हैं तो उनका मुकाबला कर रहे हैं मुख्यमंत्री  नीतीश कुमार के करीबी राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह. ललन सिंह और अनंत सिंह के रिश्ते कभी अच्छे हुआ करते थे लेकिन बीते कुछ सालों में इनमें तल्खी आ गई है. ललन सिंह इस सीट पर पहले भी सांसद रह चुके हैं. 2009 में उन्हें इस सीट से विजयश्री हासिल हुई थी. 2014 के चुनाव में वो लोक जनशक्ति पार्टी की प्रत्याशी वीणा देवी से चुनाव हार गए थे. वीणा देवी भी अपराध की दुनिया से राजनीति में कदम रखने वाले सूरजभान सिंह की पत्नी हैं. इस बार यह सीट एनडीए गठबंधन के तहत जेडीयू के खाते में आ गई है.

    2014 के नतीजे

    2014 के लोकसभा चुनाव में जेडीयू और बीजेपी एक-दूसरे से अलग होकर चुनाव लड़ रहे थे. बीजेपी का लोकजनशक्ति पार्टी के साथ गठबंधन था और इस सीट पर एलजेपी ने सूरजभान सिंह की पत्नी वीणा देवी को उतारा था. जबरदस्त मोदी लहर में जेडीयू के कद्दावर नेता माने जाने वाले ललन सिंह को हार का सामना करना पड़ा था. वीणा देवी को 352911 जबकि ललन सिंह को 243827 आए थे. आरजेडी प्रत्याशी प्रगति मेहता तीसरे स्थान पर रही थीं.

    सीट का इतिहास

    समाजवादी नेता मधु लिमये


    इस सीट पर शुरुआती सालों में कांग्रेस का कब्जा रहा था. 1964 में हुए उपचुनाव में बड़े समाजवादी नेता मधु लिमये ने इस सीट को चुना और चुनाव जीतकर संसद पहुंचे. मधु लिमये इस सीट से 1967 के चुनाव में भी जीते. मूल रूप से मराठी मधु लिमये को देश में कद्दावर समाजवादी नेताओं में गिना जाता था. इमरजेंसी के बाद बनी जनता पार्टी की सरकार में उनकी बड़ी भूमिका थी.

    1971 में मुंगेर सीट पर कांग्रेस के देवेंद्र प्रसाद यादव ने फिर कब्जा जमाया. 1977 में यह सीट जनता पार्टी के पास चली गई. 1980 और 84 के दो लगातार चुनाव देवेंद्र प्रसाद यादव ने फिर कांग्रेस के टिकट पर जीते. 1989 में यहां जनता दल की हवा चली और धनराज सिंह जीते. इसके बाद ब्रह्मानंद मंडल इस सीट पर तीन बार कम्युनिस्ट पार्टी के टिकट पर जीते. उन्होंने 1991, 96, 99 में जीत पाई. 1998 का चुनाव आरजेडी से विजय कुमार विजय जीते थे. 2004 में इस सीट से जय प्रकाश नारायण यादव विजयी रहे थे.

    अनंत सिंह की पत्नी नीलम देवी


    राजनीतिक और सामाजिक समीकरण

    मुंगेर लोकसभा सीट में कुल 6 विधानसभा सीटें आती हैं. ये हैं-मुंगेर, जमालपुर, सूर्यगढ़, लखीसराय, मोकामा, बाढ़. इन 6 सीटों में से सिर्फ एक आरजेडी के पास हैं. पांच सीटों पर एनडीए का कब्जा है. बीते चुनाव में 55.36 प्रतिशत पुरुषों ने वोट किया था तो वहीं 44.64 प्रतिशत महिलाओं ने. भूमिहार बहुल इस सीट पर यादव और मुस्लिमों के भी निर्णायक वोट हैं.

    यह भी पढ़ें: सुपौल लोकसभा सीट: एकजुट एनडीए के सामने जीत दोहरा पाएंगी रंजीत रंजन?

    यह भी पढ़ें: अररिया लोकसभा सीट: उपचुनाव की कामयाबी दोहराने को बेताब महागठबंधन

    यह भी पढ़ें: पटना साहिब लोकसभा: हाईप्रोफाइल सीट पर कायस्थ Vs कायस्थ का मुकाबला

    Tags: Bihar Lok Sabha Constituencies Profile, BJP, Jdu, Munger S04p28, RJD

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर