AK-47 मामले के आरोपी मोहम्मद इमरान का आर्म्स लाइसेंस रद्द, अधिकारियों पर गिर सकती है गाज

आर्म्स एक्ट का आरोपी मोहम्मद इमरान
आर्म्स एक्ट का आरोपी मोहम्मद इमरान

बीते 29 अगस्त को जमालपुर थाना क्षेत्र से मोहम्मद इमरान को तीन एके 47 के साथ गिरफ्तार किया गया था. जांच में पता चला था कि उसके पास एक लाइसेंसी हथियार भी है.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: December 28, 2018, 11:42 AM IST
  • Share this:
मुंगेर जिला प्रशासन ने एके 47 मामले में कार्रवाई करते हुए एके 47 के साथ गिरफ्तार मुख्य तस्कर मोहम्मद इमरान के लाइसेंसी हथियार को जब्त कर उसका लाइसेंस रद्द कर दिया है.  अब पुलिस इस बात की जांच में जुटी हे कि पूर्व से आर्म्स एक्ट के अभियुक्त को किस आधार पर लाइसेंस दिया गया. बताया जा रहा है कि अब इस बात की भी जांच की जाएगी कि आखिर किन परिस्थितियों में तत्कालीन अधिकारियों आर्म्स लाइसेंस निर्गत किया था.

आपको बता दें कि बीते 29 अगस्त को जमालपुर थाना क्षेत्र से मोहम्मद इमरान को तीन एके 47 के साथ गिरफ्तार किया गया था.  जांच में पता चला था कि उसके पास एक लाइसेंसी हथियार भी है.  जिसके बाद  लाइसेंसी हथियार को जब्त कर लाइसेंस रद्द कर दिया गया है. हालांकि मुंगेर पुलिस तब सकते में आ गई जब पता चला कि  वर्ष 2000 में कोतवाली पुलिस ने आर्म्स एक्ट अभियुक्त के लाइसेंस की अनुशंसा की थी.

ये भी पढ़ें- वृंदावन में नया साल मनाएंगे तेजप्रताप, बोले- मेरी कोई राधा नहीं



इसके बाद पुलिस पदाधिकारी और एसडीओ की अनुशंसा पर डीएम ने वर्ष 2007 में मोहम्मद इमरान के नाम से आर्म्स लाइसेंस निर्गत किया था. जबकि प्रावधान यह है कि अगर किसी व्यक्ति पर आर्म्स एक्ट या अन्य कोई आपराधिक मामला दर्ज है, तो उसे आर्म्स का लाइसेंस निर्गत नहीं किया जा सकता है.
ये भी पढ़ें-  Exclusive: DGP का ऑर्डर भी नहीं मानते बिहार पुलिस के अफसर, 9 महीने में दोबारा लिखा लेटर

हालांकि इसके बाद तत्कालीन एसपी बाबूराम ने मामले की जांच शुरू करते हुए डीएम से लाइसेंस निर्गत करने से संबंधित रिपोर्ट मांगी थी. डीएम ने रिपोर्ट जारी करते हुए एसपी को बताया कि पुलिस पदाधिकारियों की अनुशंसा के बाद ही आर्म्स लाइसेंस निर्गत किया गया था. अब इस रिपोर्ट के बाद मुंगेर पुलिस इस बात का जांच कर सकती है कि किन हालातों में लाइसेंस को निर्गत किया गया. जाहिर है इस मामले में कई तत्कालीन पदाधिकारियों पर गाज भी गिर सकती है.

रिपोर्ट- अरुण कुमार शर्मा

ये भी पढ़ें-  कभी मांझी ने अनंत सिंह पर कराई थी FIR, अब करेंगे महागठबंधन में स्वागत!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज