लाइव टीवी

Lockdown के साइड इफेक्ट! मुंगेर में 7वें दिन भी बंद रहे अधिकतर निजी क्लिनिक, मेडिकल स्टोर व पैथोलॉजी
Munger News in Hindi

News18 Bihar
Updated: March 31, 2020, 4:33 PM IST
Lockdown के साइड इफेक्ट! मुंगेर में 7वें दिन भी बंद रहे अधिकतर निजी क्लिनिक, मेडिकल स्टोर व पैथोलॉजी
लॉकडाउन के दौरान मुंगेर में अधिकतर प्राइवेट क्लिनिक, पैथोलॉजी व दवा दुकानें बंद रहती हैं.

मुंगेर जिले ताल्लुक रखने वाले एक कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज की मौत और उससे 6 लोगों में संक्रमण के कारण पूरे जिले के लोग सहमे हुए हैं. वहीं लॉकडाउन का 7वें दिन भी शहर में कई निजी नर्सिंग होम बंद पड़े रहे.

  • Share this:
मुंगेर. लॉकडाउन  (Lockdown) के कारण जिले में कई  मेडिकल दुकान के साथ-साथ निजी डॉक्टर और  क्लिनिक के साथ अधिकतर पैथलॉजी भी बंद हैंं, जिसके कारण आम लोगों की समस्या काफी बढ़ गयी है. खास तौर पर प्राइवेट डॉक्टरों के क्लिनिक बंद होने के कारण जहां आम लोग काफी मुश्किल में हैं तो दवा दुकानदारों को भी बेहद परेशानी हो रही है. यही वजह है कि शहर में कई मेडिकल दुकान भी बंद पड़े रहते हैं. खास बात ये है कि जिला प्रशासन की तरफ से निजी क्लिनिक (Private Clinic) खुलवाने की कोई पहल नहीं की गई है.

सातवें दिन भी बंद पड़े हैं कई प्राइवेट क्लिनिक व मेडिकल स्टोर
बता दें कि मुंगेर जिले ताल्लुक रखने वाले एक कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज की मौत और उससे 6 लोगों में संक्रमण के कारण पूरे जिले के लोग सहमे हुए हैं. वहीं लॉकडाउन का 7वें दिन भी शहर में कई निजी नर्सिंग होम बंद पड़े रहे. शहर के सभी पैथॉलजी सहित कई डॉक्टर के क्लिनिक बंद हैं.आलम ये है कि बीमार पड़े लोग घरों से नहीं निकल पा रहे हैं.

लोगों के सामने बढ़ गई परेशानी



वहीं जिला ड्रग्स एसोसिएशन के सचिव अभिषेक बाबी बताते हैं कि लॉकडाउन के कारण शहर के डॉक्टर निजी क्लिनिक बंद कर दिए हैं, जिसके कारण अन्य बीमारियों से ग्रसित लोगों का भी समुचित इलाज  नहीं हो पा रहा है. वहीं मौसम चेंज होने के कारण कई प्रकार की बीमारी बच्चो को रही है कई लोग डिप्रेशन में चले गए हैं.



सरकार से ड्रग्स एसोसिएशन की अपील
उन्होंने कहा पुलिस प्रशासन के शख्त रवैये के कारण कई दवा दुकानदारों ने भी डर के मारे अपनी दुकानें बंद कर दी हैं. उन्होंने कहा जिला प्रशासन व सरकार से अपील की है  कि शहर में कम से कम डॉक्टर के प्राइवेट क्लीनिक खुलवाएं  जिससे कि लोगों का समुचित इलाज हो पाए.

क्या कहते हैं दवा दुकानदार
वहीं, दवाई दुकानदार बताते हैं कि सरकार ने पहले जारी पत्र में कहा है कि लॉकडाउन में सभी दुकान खुली रहेंगी, लेकिन शहर की स्थिति है रात में जिला प्रशासन कुछ बोलता है सुबह कुछ और कहता है. यही वजह है कि डर के मारे कई मेडिकल की दुकानें भी बंद हैं. यही नहीं  दवा स्टॉकिस्टों के पास भी दवाइयां खत्म हो रही हैं, ऐसे में प्रशासन को चाहिए की दवाई आपूर्ति सुनिश्चित करे.

सिविल सर्जन ने मामले से किया किनारा
वहीं, इस पूरे प्रकरण में सिविल सर्जन पुरुषोत्तम कुमार का कहना है कि निजी किलिनिकों को बंद करने का कोई भी निर्देश स्वास्थ्य विभाग की और से नहीं दिया गया है. निजी क्लीनिक के डॉ स्वयं सुरक्षा और कोरोना के संक्रमण फैलने से रोकने के लिये 15 दिनों तक क्लीनिक नहीं खोलने के सेल्फ निर्णय किए हैं.

(रिपोर्ट- अरुण कुमार शर्मा)

ये भी पढ़ें


Lockdown: अब बिहार की सीमा में प्रवेश नहीं कर पाएंगे बाहर से आनेवाले लोग, नेपाल बॉर्डर से भी एंट्री बंद




Lockdown: 14 अप्रैल के बाद ही आ पाएगा बिहार मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट, BSEB ने बढ़ाई कॉपी जांच की तारीख

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुंगेर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 31, 2020, 4:33 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading