Home /News /bihar /

एनसीईआरटी की 12वीं की पुस्तक बताती है - जदयू बिहार की क्षेत्रीय पार्टी नहीं, जानिए क्या है माजरा

एनसीईआरटी की 12वीं की पुस्तक बताती है - जदयू बिहार की क्षेत्रीय पार्टी नहीं, जानिए क्या है माजरा

हेमंत कुमार ने इस बाबत आरटीआई दाखिल कर पूछा है कि इस चूक के लिए कौन उत्तरदायी है.

हेमंत कुमार ने इस बाबत आरटीआई दाखिल कर पूछा है कि इस चूक के लिए कौन उत्तरदायी है.

List of Regional Parties: एनसीईआरटी के 12वीं के राजनीतिक शास्त्र की पुस्तक के 14वें संस्करण के 7वें अध्याय में 'क्षेत्रीय आकांक्षाएं एवं संघर्ष' शीर्षक से एक अध्याय है. इसमें पृष्ठ संख्या 94 पर क्षेत्रीय दल के उदय और संघर्ष की जानकारी देने के लिए देश के 28 दलों को सूचीबद्ध किया गया है. पर पिछले 15 सालों से भी अधिक समय से बिहार में सत्तारूढ़ दल जदयू को शामिल नहीं किया गया.

अधिक पढ़ें ...

मुंगेर. बिहार में एनसीईआरटी की 12वीं के राजनीतिक विज्ञान की पुस्तक इन दिनों विवादों में है. दरअसल, एनसीईआरटी की राजनीतिक विज्ञान की पुस्तक के 14वें सस्करण में क्षेत्रीय राजनीतिक दलों की सूची छापी गई है. लेकिन इस सूची में बिहार की प्रमुख पार्टी जनता दल यूनाइटेड (जदयू) का नाम शामिल नहीं है. एनसीईआरटी की इस पुस्तक का प्रकाशन एसबीपीडी ने किया है. इस बात को लेकर मुंगेर के हेमंत ने जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष से लेकर शिक्षा मंत्री और एसबीपीडी प्रकाशन तक को लिखा पत्र और आरटीआई दाखिल की गई है.

एनसीईआरटी के इस 14वें संस्करण के 7वें अध्याय में ‘क्षेत्रीय आकांक्षाएं एवं संघर्ष’ शीर्षक से एक अध्याय है. इसमें देश के क्षेत्रीय दल और उसके कार्य क्षेत्र की चर्चा की गई है, ताकि छात्र क्षेत्रीय दलों के बारे में जान सकें. अध्याय 7 की पृष्ठ संख्या 94 पर क्षेत्रीय दल के उदय और संघर्ष की जानकारी देने के लिए देश के 28 दलों को सूचीबद्ध किया गया है. इसमें बिहार से दो दल – राष्ट्रीय जनता दल और लोकजन शक्ति पार्टी – को तो सूचीबद्ध किया गया, पर पिछले 15 सालों से भी अधिक समय से बिहार में सत्तारूढ़ दल जदयू को शामिल नहीं किया गया. इस बात को लेकर अब राजनीति गरमाने लगी है.

इस मुद्दे को लेकर मुंगेर के अखिल भारतीय मानवाधिकार नागरिक विकल्प के उपाध्यक्ष हेमंत कुमार ने कागजी जंग छेड़ दी है. हेमंत ने बताया कि किसी साजिश के तहत ये काम किया गया है और बच्चे इससे दिग्भ्रमित हो रहे हैं. साथ ही इतने बड़े पार्टी के नाम को सूचीबद्ध नहीं करना बिहार की अस्मिता के साथ खेलवाड़ है. इस मुद्दे पर वे जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह से लेकर से एसबीपीडी प्रकाशन तक को पत्र लिखते हुए आरटीआई दाखिल कर इस गलती की वजह पूछी है. साथ ही इसे 15वें संस्करण में सुधारने को कहा है.

वहीं, इस मामले को ले अब राजनीति भी शुरू हो गई है. इस मुद्दे को ले मुंगेर जदयू के प्रवक्ता विमलेंदु राय ने कहा कि ये एक बड़ी साजिश का हिस्सा लगता है कि बच्चों को बिहार के जदयू पार्टी के बारे में पता ही नहीं चले. इसको ले उन्होंने राष्ट्रीय अध्यक्ष से मांग किए की कि वे जल्द से जल्द कोई ठोस कदम उठाएं. क्यों को उनके संज्ञान में भी ये बातें जा चुकी है. साथ की प्रकाशक जल्द से नया संस्करण ला इस भूल को सुधार करे.

Tags: 10th-12th students, NCERT

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर