लाइव टीवी

CAA पर रविशंकर प्रसाद के बयान पर बोले प्रोटेस्टर्स- भ्रम फैला रही सरकार, कानून वापस लेने का करे ऐलान
Kishanganj News in Hindi

News18 Bihar
Updated: February 1, 2020, 2:02 PM IST
CAA पर रविशंकर प्रसाद के बयान पर बोले प्रोटेस्टर्स- भ्रम फैला रही सरकार, कानून वापस लेने का करे ऐलान
गोपालगंज में सीएए प्रोटेस्ट को लेकर धरने पर बैठी महिलाएं

गोपालगंज में अंबेडकर चौक पर 23 दिनों से धरना पर बैठे इंसाफ मंच के संयोजक अजातशत्रु का कहना है कि शाहीन बाग का आंदोलन किसी राजनैतिक दल का नही है बल्कि देश की अमन पसंद जनता का आंदोलन है, जो पूरे देश में मजबूती से चल रहा है. इस आंदोलन को खत्म करने के लिये सरकार CAA और NPR को वापस ले.

  • Share this:
पटना. केंद्र सरकार ने संकेत दिए हैं कि वह नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ दिल्ली के शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रहे लोगों से बात करने के लिए तैयार है. केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने शनिवार को ट्वीट कर कहा कि सरकार प्रदर्शनकारियों से बात करने को तैयार है, सीएए पर उनकी हर शंका दूर करने को तैयार हैं, लेकिन उन्हें इसके लिए व्यवस्थित माहौल बनाना होगा. केंद्रीय मंत्री की इस बात को लेकर पटना के सब्जीबाग इलाके में धरना पर बैठी महिलाओं ने कहा कि सरकार की मंशा अब भी ठीक नहीं लगती. अगर सरकार को बात करनी है तो वह सिर्फ बोले नहीं बल्कि पहल करे और सीएए कानून को वापस लेने की घोषणा करे.

वहीं, गोपालगंज में अंबेडकर चौक पर 23 दिनों से धरना पर बैठे इंसाफ मंच के संयोजक अजातशत्रु का कहना है कि शाहीन बाग का आंदोलन किसी राजनैतिक दल का नही है बल्कि देश की अमन पसंद जनता का आंदोलन है, जो पूरे देश में मजबूती से चल रहा है. इस आंदोलन को खत्म करने के लिये सरकार CAA और NPR को वापस ले. किसी भी व्यक्ति, दल या संगठन से बात करने की जरूरत ही नहीं है, सरकार को अपने इस विभाजनकारी कानून को देश की जनता के हितों का ध्यान रखते हुए तत्काल प्रभाव से वापस लेकर जनता से माफी मांगनी चाहिये.

नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में धरने पर बैठे लोग.




रविशंकर प्रसाद के ट्वीट पर मुंगेर में धरना दे रहे मुंगेर जिला इत्तेहाद कमेटी के संरक्षण जफर अहमद ने कहा कि अगर सरकार या उसके कोई नुमाइंदा बात करने को आते हैं सीएए जैसे काले कानून के विरोध में तो उनका स्वागत किया जाएगा. लेकिन कानून मंत्री जिस तरह से ट्वीट करके या बताने का प्रयास कर रहे हैं की सीएए पर प्रदर्शनकारियों की शंका को दूर किया जाएगा. इससे साफ मालूम होता है कि वह लोगों के बीच सिर्फ सीएए पर बात करने के लिए नहीं कानून बदलने के लिए नहीं बल्कि सरकार के मन में यह भ्रम है कि इस कानून के खिलाफ लोग बेवजह कर सड़कों पर हैं.



हालांकि सरकार या और कोई उनका नुमाइंदा प्रदर्शनकारियों से सीएए कानून में बदलाव में लाने के लिए अगर बात करनी चाहती है तो स्वागत है परंतु मुझे ऐसा लग रहा है के सरकार यह देश को बताना चाह रही है कि हम प्रदर्शनकारियों से बात किए थे परंतु वह मामले में अडिग हैं इसलिए शुद्ध अंतरात्मा से कानून के बदलाव को लेकर सरकार आएगी हम लोग उनका स्वागत करेंगे.

वहीं मुजफ्फरपुर में इंसाफ मंच सह माले नेता सूरज कुमार सिंह ने कहा कि सरकार यदि बात करना चाहती है तो आंदोलनकारी भी बातचीत के लिये तैयार है. हम सीएए पर बातचीत के लिये तैयार हैं.

ये भी पढ़ें


कन्हैया कुमार के काफिले पर असामाजिक तत्वों ने किया पथराव, कई लोग जख्मी




...ऐसा हुआ तो CM नीतीश कुमार के लिए 'सिरदर्द' साबित हो सकते हैं प्रशांत किशोर!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए किशनगंज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 1, 2020, 2:02 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading