Munger News: दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान उपद्रव और फायरिंग, 1 शख्स की मौत, 5 को लगी गोली

बिहार के मुंगेर में हुई हिंसा की घटना के बाद मामले की जानकारी देते अधिकारी

Munger News: दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान हुए उपद्रव और फायरिंग की घटना में कई पुलिसवाले भी घायल हुए हैं. अराजक तत्‍वों ने पुलिस पर पत्‍थरबाजी भी की.

  • Share this:
    मुंगेर. बिहार के मुंगेर में 28 अक्टूबर को होने वाले चुनाव के एक दिन पूर्व दुर्गा पूजा प्रतिमा विसर्जन के दौरान हिंसा की घटना हुई है. शहर के बीचों बीच पड़ने वाले पंडित दीनदयाल चौक के पास शंकरपुर की प्रतिमा के विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों द्वारा की गई रोड़ेबाजी और फायरिंग की घटना में 18 वर्षीय अनुराग कुमार को सिर में गोली लगी और उसकी मौके पर ही मौत हो गई. वहीं, विसर्जन के दौरान चली गोली से पांच लोग घायल हैं. घटना कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत दीनदयाल उपाध्याय चौक की है, जहां पर प्रतिमाओं विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों द्वारा पुलिसबल को निशाना बनाते हुए पथराव किया गया.

    पुलिस द्वारा रोके जाने पर उग्र लोगों द्वारा फायरिंग भी की गई. भीड़ के हमले में संग्रामपुर थानाध्यक्ष सर्वजीत कुमार, कोतवाली थानाध्यक्ष संतोष कुमार सिंह, कासिम बाजार थानाध्यक्ष शैलेश कुमार, वासुदेवपुर ओपी अध्यक्ष सुशील कुमार के अलावा 17 अन्य पुलिसकर्मी भी जख्मी हुए हैं. पुलिस को निशाना बनाकर लगातार पथराव किए जाने और भीड़ द्वारा फायरिंग कर शहर में अफवाह फैलाई गई और माहौल को खराब करने का प्रयास किया गया. इस गोलीबारी की घटना में पांच अन्य लोग भी घायल हुए हैं, जिनका इलाज मुंगेर के सदर अस्पताल में चल रहा है.

    दरअसल चुनाव के मद्देनजर जिला प्रशासन ने पूजा समितियों को निर्देश दिया था कि वो 26 अक्टूबर की शाम तक अपनी-अपनी समीतियों की प्रतिमा का विसर्जन कर लें. इसको लेकर जिला पुलिस प्रशासन के द्वार लगातार प्रतिमाओं पर निगरानी रखी जा रही थी. युवक की मौत के बाद लोग खासे आक्रोशित हैं. उनका आरोप है कि युवक की मौत पुलिस की गोली से हुई है. हिंसा की इस घटना के बाद एहतिहात बरतने को लेकर दीनदयाल चौक और आसपास के इलाके को पुलिस छावनी में बदल दिया गया है. पुलिस ने तीन हथियार, गोलियां और खोखा भी बरामद किया है.



    घटना के बाद जिलाधिकारी डीएम राजेश मीणा और पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह द्वारा घटनास्थल और मुंगेर सदर क्षेत्र का दौरा किया गया. डीएम ने बताया कि स्थिति फिलहाल शांतिपूर्ण है और दोषियों की पहचान की जा रही है. प्रथम दृष्टया यह बात सामने आई है कि जानबूझकर कुछ लोगों द्वारा पुलिस पर मारपीट करने का झूठा आरोप लगाते हुए माहौल को खराब किया गया और भीड़ को पुलिस के खिलाफ उकसाया गया. फिलहाल स्थिति शांतिपूर्ण है. कुछ उपद्रवियों को हिरासत में लिया गया है.

    रिपोर्ट- अरूण शर्मा

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.